Tags » BSK

Balsanskar Kendra Syllabus

पूज्य संत श्री आशारामजी बापू द्वारा प्रेरित
बाल मंडल
छात्र मंडल
कन्या मंडल
मार्गदर्शिका

महिला उत्थान ट्रस्ट, अहमदाबाद

BSK

मंत्रीमंडल व उनकी सेवाएँ

मंत्रीमंडल व उनकी सेवाएँ

मंडल के विद्यार्थियों में से मंत्रदीक्षित, योग्य व सक्रिय विद्यार्थियों से मंत्रिमंडल बनायें। इनकी समयावधि छः माह की रहेगी।

मुख्यमंत्रीः मंडल प्रमुखों के निर्देशानुसार मंडल के सभी मंत्रियों को नयी जानकारी दें और उनके सहयोग में रहें। सेवा-प्रवृत्तियों में बच्चों को बुलाने के लिए अन्य मंत्रियों व दूसरे बच्चों की मदद से (उन्हें 10-15 विद्यार्थियों के फोन नम्बर देकर) मंडल के सभी बच्चों को सम्पर्क करें। 20 more words

BSK

मंडल के प्रकार

मंडल में विद्यार्थियों का प्रवेश व सेवाकार्य

मंडल के प्रकारः

बाल मंडलः बालक और बालिकाएँ दोनों (उम्र 6 से 10 वर्ष तक)

छात्र मंडलः केवल छात्रों के लिए (उम्र 10 से 18 वर्ष तक)

BSK

मंडल का गठन कैसे करें ?

मंडल के गठन का क्रम इस प्रकार होगाः

मंडल प्रमुखों का चयन व उनके सेवाकार्य, मंडल में विद्यार्थियों का प्रवेश व सेवाकार्य।

मंडल प्रमुखों का चयन व उनके सेवाकार्य

चयनः आपके क्षेत्र के बाल संस्कार केन्द्र शिक्षक, प्रभारी, शिविर शिक्षक, सम्मेलन प्रशिक्षक आपस में मिलकर मंडल का संचालन करने के लिए मंडल प्रमुख, उपप्रमुख, कोषप्रमुख चुनें और मंडल आवेदन-पत्र भरकर समिति से सत्यापित करवायें, फिर मुख्यालय अहमदाबाद को भेजें। इन मंडल प्रमुखों की समयावधि दो वर्ष रहेगी।

सेवाकार्यः पूज्य बापू जी के नजदीकी सत्संग में मंडल प्रमुख अपने क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हुए पूज्य बापूजी के करकमलों से मंडल की ज्योति जलवायेंगे और अपने क्षेत्र में चल रहे बाल संस्कार केन्द्रों में इस ज्योति को ले जाने व केन्द्र में ʹश्री आशारामायणʹ का पाठ हो ऐसा प्रबंधन करेंगे, जिससे केन्द्र शिक्षकों का उत्साह और श्रद्धा बढ़ती रहे।

समय समय पर विद्यार्थी संबंधी सेवाओं में जुड़े सेवाधारियों की ʹसेवा-साधना बैठकʹ करवायें।

क्षेत्रीय बाल संस्कार प्रभारी व मुख्यालय से सम्पर्क कर सेवाओं की जानकारी लें और उन्हें अपने क्षेत्र में शीघ्र ही कार्यान्वित करवायें।

मंडल के द्वारा होने वाले विभिन्न सेवाकार्य, कीर्तन यात्राएँ व अन्य अभियान कब और कैसे करने हैं, उसकी रूपरेखा बनायें और आयोजित हो चुके सेवाकार्यों की जानकारी (फोटो, प्रेस कटिंग आदि सहित) और त्रैमासिक खर्च का विवरण मुख्यालय को भेजें।

मंडल प्रमुख विद्यार्थियों द्वारा की गयी सेवाओं का मीडिया व प्रेस के द्वारा व्यापक प्रचार करें। इसमें अधिक खर्च न हो इसका विशेष ध्यान रखें।

मंडल प्रमुख मंडल के विद्यार्थियों के लिए पहचान पत्र (I-Card) अहमदाबाद मुख्यालय से मँगवाकर उऩ्हें दें।

सेवा-प्रवृत्ति करने के लिए इकट्ठी की गयी राशि और खर्च आदि का विवरण कोषप्रमुख देखेंगे।

मंडल प्रमुखों को ʹबाल संस्कार केन्द्रʹ चलाना अनिवार्य रहेगा।

BSK

शिक्षा-दीक्षा की जरूरत

हे विद्यार्थी ! सेवा व ज्ञान के पथ पर चल…

सदगुरुओं के, सत्शास्त्रों के अनुरूप चलकर तू उन्नति के शिखरों पर चढ़ता जा। स्वार्थरहित, बिना किसी अपेक्षा के यथाशक्ति सामने आये हुए व्यक्ति का सहयोग कर। जिनसे दूसरों का मंगल हो ऐसे सेवाकार्य खोज ले। जो भूले हुए हों उन्हें रास्ता दिखा। तू उन्हें समर्थ सदगुरु के पास पहुँचा दें, जिससे उनकी जन्मों-जन्मों की भूल मिट जाय। लग जाओ, देर मत करो। इस संसार में लोग बहुत दुःखी हैं। उन्हें ब्रह्मज्ञानी सदगुरु के ज्ञान, माधुर्य एवं सांत्वना की तथा उनकी शिक्षा-दीक्षा की जरूरत है। आपको अपने सदगुरुदेव से जो आत्मसुख, आत्मानंद का अनमोल खजाना मिल रहा है, उसे समस्त मानव-जाति में फैलाओ। सेवारूपी ऐसी ज्योत जगाओ जिसके प्रकाश से पूज्य गुरुदेव की महिमा, उनका आलौकिक ज्ञान व दिव्य संदेश विश्व के कोने-कोने में जन-जन तक पहुँचे।

जो दूसरों के मंगल में लग जाता है, क्या उसका अमंगल हो सकता है या दुःख टिक सकता है ? नहीं। जो देते हैं वही हमारे पास लौटकर आता है, बल्कि अनंत गुना होकर आता है। अपने सुख की ललक छोड़कर दूसरों के दुःख मिटाने में लग जाओ। फिर देखना, दुःखहारी श्रीहरि की सत्ता आपको निर्दुःख कर देगी।

अपने दुःख में रोने वाले ! मुस्कराना सीख ले।

औरों के दुःख दर्द में आँसू बहाना सीख ले।।

जो खिलाने में मजा है, आप खाने में नहीं।

जिंदगी में तू किसी के काम आना सीख ले।।

तू किसी से कुछ लेने की चाह मत रखना। महापुरुषों का ज्ञान, उनकी करूणा-कृपा पचा लेना। फिर देखना, तेरा कुटुम्ब, तेरी जाति तो क्या, सम्पूर्ण विश्व के लोग तुझे याद करेंगे और तेरा नाम लिया करेंगे। बाल मंडल, छात्र मंडल व कन्या मंडल द्वारा विद्यार्थियों को महान सेवाओं का अवसर मिले तथा गुरुदेव की बतायी राह पर चलकर वे अपने जीवन को धन्य व कृतकृत्य कर सकें ऐसा प्रयास है। तो अब सेवा के पथ पर चलोगे न ! जरूर चलना क्योंकि सदगुरुओं का दैवी सेवाकार्य व उनका दिव्य ज्ञान आपको महान बना देगा।

ૐૐૐૐૐૐૐૐૐૐૐૐૐૐૐૐૐૐૐૐૐ

BSK