Tags » Hindi Poems

ख़्वाहिश

ख़्वाहिशों को अपनी
पंख लगा के आसमां में
खुला है छोड़ दिया
अब बस देखना है
ये कितनी उँचाईयों को
छू पायेंगे
है हौसला बुलंद

Poetry / कविता

Subha Se Shaam Ho Gayi
Teri Yaad Mein Khone Ki Aadat Ho Gayi..

Hume Deewana Sab Kehte Hain
Jabse Hume Tumse Mohabbat Ho Gayi..

Tere Pas Jitne Hum Aaye The…

44 more words
Hindi Poems

Kyu phir

Jab aati nahi mujhko ye raas

Kyu phir kara ja raha hu main

Har baadha mujh pe ant hai

Kyu phir unhe badha raha hu main… 56 more words

Hindi Poems

बस इक पल के लिए

थम जाए अगर ये दुनिया
बस इक पल के लिए,
थोड़ा सा चैन छीन लूँ
बस इक पल के लिए।

ज़िन्दगी का नाम रफ़्तार है
ख़्वाबों का बाज़ार है
खरीदे सपने बेच दूँ
बस इक पल के लिए।

चस्का है कुछ कर जाने का
वादा-ए-तक़दीर निभाने का
अपनी तक़दीर देख लूँ
बस इक पल के लिए।

सुनहरे सपने बीजे हैं
डर की सलाखों के पीछे से
हौंसले की चाबी ढूँढ लूँ
बस इक पल के लिए।

Hindi Poems

Haar gaya

Na kaaj se Na kheej ke

Main haara aaj kuchh jeet ke..

Dumm tode kar baitha raha

Main mushkilo ko seejh ke….

Har baat pe, har ziqr mei… 57 more words

Hindi Poems

Gila Hai

Jaam mei bajne lage jab kaanch
Paacha phir saamne aayaa aaj
Hass raha tha saala
Bola nahi rakh paayege mujh se raaz

Main dekh usse ghabraya… 209 more words

Hindi Poems

एक नयी शुरुआत

नया दिन
एक नयी शुरुआत
बीत गया जो
सपना था
इसी पल में
एक नयी दुनिया
फिर से सजा
पल-पल इन
लम्हों को
ख़ूबसूरती से
जी ले ज़रा
क्या था
क्यों हुआ
सब भूल जा
बस आज के
इस प्यारे से
पलों में खो जा
जी ले फिर
एक बार
जी भरके यहाँ
इस दुनिया के
रंग बिरंगे
रंगो से जीवन
को सजा
सरसराती डालियाँ
प्यारी हवा के झोंके
खुशबू फ़िज़ाओं में
जीवन को
अपने महका ले ज़रा
आज इस पल को
ऐसे जी ले
जैसे सालों में
कभी न जीया
प्यारे से इन
अहसासों से
अपने दिल
को भरले ज़रा
है सकून जो
इस पल में
वो मिलेगा और कहा
जी ले जी भरके
आज तू
फिर से ज़रा।

Poetry / कविता