Tags » Hindi Poems

ज़िंदगी मेरी नज़र से !!

Well this one was something that many of you won’t have ever thought would come out of a person of my age.It was actually an outcome of an incident.. 122 more words

POEMS

परिवर्तन

A come back to writing after Such a long time …thanks to the office “Vellapan”  at times

A Dreary day at the office brought this out..i don’t knw myself why i am into writing the sad ones but ..i deduced this out i write only when i am sad mostly ..and when i m cheerful i don’t have time to write..:P

कशमकश में ज़िंदगी की उलझा हूँ,

ज़िंदगी को छोड़, ज़िंदगी क लिए जी रहा हूँ में||

कभी गुस्सा हो लिया करता था,

आज तो हर ज़ुल्म एक साँस में पी गया हूँ में||

कभी एक जीत की खुशी में हर दिन जीता था,

आज तो, आज की ही खुशी के लिए आज ही, रोता भी हूँ में ||

कभी ज़िंदगी के मेलों से रूबरू था,

आज अपनी ही तन्हाई का गवाह हूँ में ||

कभी दोस्तों से 2 रुपये क लिए भी लड़ता था में,

आज उन्ही क लिए हज़ारों लूटा दूं ..पर वो मिलते ही नहीं||

कभी सपनों की गोद में सोता था में,

और अब,अब तो नींद ही सपनों सी रह गयी है ||

कभी अपनों क संग था में,

आज परायों में, अपने खोजता हूँ में ||

कभी हर शक्स पर विश्वास करता था में,

और अब, अब तो अपने ही अक्स से डरता हूँ में ||

कभी अंधेरो का राजा था में,

आज दिन का गुलाम हूँ में ||

कभी कदर नही थी मुझे,

आज उन्ही लम्हों पर मरता हूँ में ||

कभी कह दिया करता दिल की दास्तान,

और अब,अब बस लिख लेता हूँ में||

POEMS

मेरा बचपन

a note to all the readers please take a pause at commas while reading this ,i know we have always trampled over the decorum of those punctuation marks since our childhood but please not this time.Moreover this one is just for you mom,mien dusron k baare mien nahi jaanata but iski har line apko zaroor ek yaad dilayegi… 22 more words

POEMS

Ek khwaab !!

Ek khwaab ..here is the urdu key to help you out..

Key:
asmanjass: confusion
Tamanna: Chaahat/Aspiration
Sailaab :Flood
Gote:Dive
Furkat:Abscence
wafaa:trust
Armaan:Desires
Irshaad:command
Roobaroo:confront
tabassum:Smile… 52 more words

POEMS

सलाम दोस्ती!!

Well i have a special attachement to this one just because i started writing this one in the Cab..when i was coming with my DNA(Dance@amdocs)friends from Bombay after such a memorable Sojourn..that very moment made me think about friendship..and all the memories just flew by my mind..so here by i defined my version of DOSTI..:) 32 more words

POEMS