Tags » Hindu Mythology

Wanderlust Day 2 - Victorius Vinyasa with Bram Levinsion - Sahja and Sensuality with Andrew Bathorey

Wanderlust Day 2 – So I found myself up and on the go at 6:45 am it would turn out to br a busy and gratifying day as I was again accompanying Bram Levinson for our Victorious Vinyasa – the same workshop that brought us together a year ago at the same festival. 85 more words

Beasti Yogi - MC Yogi - Meeting DJ Drez and the amazing Marti Nikko !

Wanderlust Day 3 – After Killer sets on Thursday and Friday not to mention the Lululemon WanderPARTY Friday night – I decided to carry out my said mission of finally meeting MC Yogi and DJ Drez – after a chance meet with Drez on Friday; I was able to attend BEASTI YOGI – which was probably the BEST yoga class I have ever taken!!! 33 more words

Music

शिव

जहाँ शिव हैं, वहाँ शक्ति.
तुम निश्छल हो बाबा,
हम बंधे हैं लोभ से.
जहाँ शिव हैं, वहाँ भक्ति.
तुम महाकाल हो बाबा,
हम भयभीत है काल से.
जहाँ शिव है, वहाँ मुक्ति.

परमीत सिंह धुरंधर

Hindu Mythology

To Be Told a Story.

I can’t remember the last time I was told a story. Given the privilege, I’d categorically pick Hindu Mythology. Legends that became the cornerstone of Indian culture. 478 more words

Musings

कर्ण

हर पल में बेचैनी है जिसके,
हर नींद में एक ही चाह,
एक बार सामना तो हो जिंदगी,
मैं रोक दूंगा अर्जुन की हर राह.
ना माँ की दुआएं हैं, न प्रियेसी की प्रीत,
न किसी से आशा है, न किसी का आशीष,
बस एक बार सामना तो हो जिंदगी,
मैं रोक दूंगा अर्जुन की हर जीत.

परमीत सिंह ‘धुरंधर’

Life

प्रभु हरि विष्णु

आप सा सरल कोई धर्म नहीं,
आप सा सबल कोई कर्म नहीं,
जो दौड़ती हैं आपकी नशों में,
मेरे मस्तिक में ओ ही प्राण दीजिये,
या प्रभु हरि विष्णु,
मुझपे भी थोड़ा धयान दीजिये।
ऐसा कोई पथ नहीं,
जो न मिले जाके आपके भवसागर में,
लक्ष्यहीन मेरे इस जीवन को,
मंजिल प्रदान कीजिये,
या प्रभु हरि विष्णु,
मुझपे भी थोड़ा धयान दीजिये।
सुगम नहीं है व्रत आपके नाम का,
पर ले लिया है प्रण,
अब चाहे तो मेरा बलिदान लीजिये,
या प्रभु हरि विष्णु,
मुझपे भी थोड़ा धयान दीजिये।
मुझसे भी कई हैं सबल यहाँ,
मुझसे भी कई है कर्मठ यहाँ,
भक्तों की भीड़ लगी है यहाँ,
सबसे पीछे खड़ा हूँ मैं निर्धन,
मौत से पहले मेरे जीवन को,
ऊंचाई का आसमान दीजिये,
या प्रभु हरि विष्णु,
मुझपे भी थोड़ा धयान दीजिये।

परमीत सिंह ‘धुरंधर’

Hindu Mythology

प्रभु विष्णु

ज्ञान दीजिये, अरमान दीजिये,
या फिर मुझको ये वरदान दीजिये,
वृक्षों से हरी कर दूँ सारी धरती,
या प्रभु मुझको दर्शन दीजिये – दर्शन दीजिये।
मान दीजिये, सम्मान दीजिये,
या फिर मुझको ये वरदान दीजिये,
हर रोते हुए को मैं दे दूँ हंसी,
या प्रभु विष्णु मुझ पे भी धयान दीजिये।

परमीत सिंह परवाज

Hindu Mythology