लोकायुक्त कैसे करेगा मंत्री गौरीशंकर बिसेन की दोबारा जांच!

वैभव श्रीधर, भोपाल। मप्र हाईकोर्ट द्वारा शिवराज कैबिनेट के वरिष्ठ मंत्री गौरीशंकर बिसेन के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के मामले में लोकायुक्त को जांच करने का फरमान सुनाने के फैसले पर याचिकाकर्ता किशोर समरीते रिव्यू पीटीशन दाखिल करेंगे।

(पीटीशन का आधार लोकायुक्त संगठन द्वारा पहले एक शिकायत पर बिसेन को क्लीनचिट देने को बनाया जा रहा है। पन्‍ना के प्रहलाद लोधी ने बिसेन पर पद के दुरुपयोग और रिश्तेदारों के नाम आय से कहीं ज्यादा संपत्ति बनाने की दस्तावेजों सहित शपथ पत्र पर शिकायत की थी। समरीते का कहना है कि क्लीनचिट देने के बाद लोकायुक्त बिसेन की दोबारा जांच कैसे करेगा। इसकी जगह किसी अन्य एजेंसी से जांच कराई जानी चाहिए।

लोकायुक्त ने सहकारिता मंत्री गौरीशंकर बिसेन के खिलाफ पन्‍ना के प्रहलाद लोधी की शिकायत दर्ज की थी। लोधी ने बिसेन पर पद का दुरुपयोग कर सहकारी बैंकों के संचालक मंडलों को नियम ताक पर रखकर बचाना, चुनाव न कराना, निर्वाचित संचालक मंडलों का कार्यकाल समाप्त होने के बाद भी पदाधिकारियों को राजनीतिक फायदा पहुंचाना, पत्नी, पुत्री और निकट रिश्तेदारों के नाम भूमि खरीदी के आरोप लगाए थे।

Source: Madhya Pradesh News