Tags » S D Burman

देखी ज़माने की यारी - Dekhi Zamane Ki yari


फ़िल्म – काग़ज़ के फूल (1959)
गायक/गायिका – मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार – एस. डी. बर्मन
गीतकार – कैफ़ी आज़मी
अदाकार – गुरु दत्त, वहीदा रहमान

देखी ज़माने की यारी
बिछड़े सभी, बिछड़े सभी बारी बारी
क्या ले के मिलें अब दुनिया से, आँसू के सिवा कुछ पास नहीं
या फूल ही फूल थे दामन में, या काँटों की भी आस नहीं
मतलब की दुनिया है सारी
बिछड़े सभी, बिछड़े सभी बारी बारी

वक़्त है महरबां, आरज़ू है जवां
फ़िक्र कल की करें, इतनी फ़ुर्सत कहाँ

दौर ये चलता रहे रंग उछलता रहे
रूप मचलता रहे, जाम बदलता रहे

रात भर महमाँ हैं बहारें यहाँ
रात गर ढल गयी फिर ये खुशियाँ कहाँ
पल भर की खुशियाँ हैं सारी
बढ़ने लगी बेक़रारी बढ़ने लगी बेक़रारी
अरे देखी ज़माने की यारी
बिछड़े सभी, बिछड़े सभी बारी बारी

उड़ जा उड़ जा प्यासे भँवरे, रस ना मिलेगा ख़ारों में
कागज़ के फूल जहाँ खिलते हैं, बैठ ना उन गुलज़ारो में
नादान तमन्ना रेती में, उम्मीद की कश्ती खेती है
इक हाथ से देती है दुनिया, सौ हाथों से लेती है
ये खेल है कब से जारी
बिछड़े सभी, बिछड़े सभी बारी बारी

Solo Song

जानूँ जानूँ री काहे खनके है तोरा कंगना - Janu Janu Re Kahe Khanke

फ़िल्म – इंसान जाग उठा (1959)
गायक/गायिका – आशा भोंसले, गीता दत्त
संगीतकार – एस. डी. बर्मन
गीतकार – शैलेंद्र
अदाकार – सुनील दत्त, मधुबाला

जानूँ जानूँ री काहे खनके है तोरा कंगना -2
मैं भी जानूँ री छुपके कौन आया तोरे अन.गना
अरी जानूँ री छुपके कौ आया तोरे अंगना
मैं भी जानूँ री

पीपल की चैंया तले बतियाँ बनाय के
पीपल की चैंया तले
पीपल की चैंया तले बतियां बनाय के
भोले भाले दिल को, ले गाया उड़ाय के
सखी जानूँ री, झूमे है काहे तोरा झुमका -2
मैं भी जानूँ री, छुपके कौन आया तोरे अंगना
जानूँ जानूँ री काहे खनके है तोरा कंगना
मैं भी जानूँ री छुपके कौन आया तोरे अंगना

बैंया मरोड़ के, घेर के गिराय के
बैंया मरोड़ के
बैंया मरोड़ के, घेर के गिराय के
बैठ गये चैलवा मं में समाय के
गोरी जानूँ मैं, कहाँ पे गिरी है तोरी बिंदिया -2
जानूँ जानूँ री काहे खनके है तोरा कंगना
मैं भी जानूँ री छुपके कौन आया तोरे अंगना
जानूँ री जानूँ री काहे खनके है तोरा कंगना

तू ना कह किसी से, मैं भी ना कहूँगी
मैं भी ना कहूँगी
अच्छा तो बन जा तू उअन्की,
मैं उनकी रहूँगी, उनकी रहूँगी मैं
उनकि रहूँगी, उनकी रहूँगी
कोई क्या करे बाजे जब पाँव की
कोई क्या करे बाजे जब पाँव की पयलिया
कोई क्या करे बाजे जब पाँव की

Romantic Song

वक़्त ने किया क्या हंसीं सितम - Waqt Ne Kiya Kya Hasin Sitam

फिल्मः काग़ज़ के फूल (1959)
गायक/गायिकाः गीता दत्त
संगीतकारः एस. डी. बर्मन
गीतकारः कैफ़ी आज़मी
कलाकारः गुरु दत्त, वहीदा रहमान

वक़्त ने किया क्या हंसीं सितम
तुम रहे न तुम हम रहे न हम
वक़्त ने किया…

बेक़रार दिल इस तरह मिले
जिस तरह कभी हम जुदा न थे
तुम भी खो गए, हम भी खो गए
एक राह पर चलके दो क़दम
वक़्त ने किया…

जाएंगे कहाँ पूछता नहीं
चल पड़े मगर रास्ता नहीं
क्या तलाश है कुछ पता नहीं
बुन रहे हैं दिल ख़्वाब दम-ब-दम
वक़्त ने किया…

Solo Song

कोई आया धड़कन कहती है - Koi Aaya Dhadkan Kahti Hai

फ़िल्म – लाजवंती (1958)
गायक/गायिका – आशा भोंसले
संगीतकार – एस. डी. बर्मन
गीतकार – मज़रूह सुल्तानपुरी
अदाकार – नरगिस, बलराज साहनी

कोई आया धड़कन कहती है – 3
धीरे से पलकों की ये गिरती उठती चिलमन कहती है
धीरे से
धीरे से पलकों की ये गिरती उठती चिलमन कहती है
कोई आया धड़कन कहती है

होने लगी किसी आहट की फुलकारियाँ
परवाने बनके उड़ी दिल की चिन्गारियाँ
झूम गया झिलमिलता जिया
कोई आया
कोई आया धड़कन कहती है …

चाँद हँसा लेके दर्पण मेरे सामने
घबराके मैं लट उलझी लगी थामने
छेड़ गयी मुझे चंचल हवा
कोई आया
कोई आया धड़कन कहती है …

आ ही गया मीठी मीठी सी उल्झन लिये
खो ही गयी मैं तो शरमाती चितवन लिये
गोरे बदन से पसीना बहा
कोई आया
कोई आया धड़कन कहती है …

Solo Song

गा मेरे मन गा - Gaa Mere man Gaa

फ़िल्म – लाजवंती (1958)
गायक/गायिका – आशा भोंसले
संगीतकार – एस. डी. बर्मन
गीतकार – मज़रूह सुल्तानपुरी
अदाकार – नरगिस

गा मेरे मन गा … गा मेरे मन गा
तू गा मेरे मन गा … गा मेरे मन गा
(यूँ ही बिताए जा दिन ज़िंदगी के) – 2
गा मेरे मन गा … गा मेरे मन गा

ह्म्म, तेरी टूटी हुई बीना
कहे तुझको है जीना
जीवन को निभा
ह्म्म, चाहे भर भर आए
चाहे दुख बरसाये
तेरे नैनों की घटा
तू नैन मत छलका…
गा मेरे मन गा …

ये हैं दुनिया के मेले
तुझे फिरना अकेले
सह सहके सितम
ह्म्म, नफ़रत का दीवाना
नहीं समझा ज़माना
तेरा दुख तेरा ग़म
खा ठेस और मुस्का…
गा मेरे मन गा …

ह्म्म, हर सू है अंधेरा फिर कौन है तेरा
जो मैं कहूँ ज़रा सुन
ह्म्म, मेरी खो गई पायल मेरी गीत है घायल
मेरी ज़खमी है धुन
फिर भी तू झूमे जा…
गा मेरे मन गा …

Solo Song

कुछ दिन पहले... एक हंस का जोड़ा - Ek Hans Ka Joda

फ़िल्म – लाजवंती (1958)
गायक/गायिका – आशा भोंसले
संगीतकार – एस. डी. बर्मन
गीतकार – मज़रूह सुल्तानपुरी
अदाकार – नरगिस

कुछ दिन पहले एक ताल में कमल कुंज के अंदर

Solo Song

चन्दा रे छुपे रहना - Chanda Re Chhupe Rahna

फ़िल्म – लाजवंती (1958)
गायक/गायिका – आशा भोंसले
संगीतकार – एस. डी. बर्मन
गीतकार – मज़रूह सुल्तानपुरी
अदाकार – नरगिस

चन्दा रे चन्दा रे
छुपे रहना, सोये मेरी मैना, लेके मेरी निंदिया रे
चन्दा रे चन्दा रे
छुपे रहना, सोये मेरी मैना, लेके मेरी निंदिया रे

फूल चमेली धीरे महको झोंका न लग जाए
फूल चमेली धीरे महको झोंका न लग जाए
नाज़ुक डाली कजरा वाली सपने में मुस्काए
लेके मेरी निंदिया रे
चन्दा रे चन्दा रे
छुपे रहना, सोये मेरी मैना, लेके मेरी निंदिया रे

हाथ कहीं है पाँव कहीं लागे प्यारी प्यारी
हाथ कहीं है पाँव कहीं लागे प्यारी प्यारी
ममता गाए पवन झुलाए झूले राज कुमारी
लेके मेरी निंदिया रे
चन्दा रे चन्दा रे
छुपे रहना, सोये मेरी मैना, लेके मेरी निंदिया रे

चन्दा रे चन्दा रे
छुपे रहना, सोये मेरी मैना, लेके मेरी निंदिया रे
चन्दा रे चन्दा रे
छुपे रहना, सोये मेरी मैना, लेके मेरी निंदिया रे

चाँद बतादे माँ की ममता चैन न कैसे पाए
चाँद बतादे माँ की ममता चैन न कैसे पाए
सुन्दर मुखड़ा दिल का तुकड़ा दूर है मुझसे हाए
लेके मेरी निंदिया रे

Solo Song