Tags » S D Burman

Saadhu ke ghar chhokariyaan do

This article is meant to be posted in atulsongaday.me. If this article appears in sites like lyricstrans.com and ibollywoodsongs.com etc then it is piracy of the copyright content of atulsongaday.me and is a punishable offence under the existing laws. 329 more words

Rare Song

Morey sainyya bedardi ban gaye

This article is meant to be posted in atulsongaday.me. If this article appears in sites like lyricstrans.com and ibollywoodsongs.com etc then it is piracy of the copyright content of atulsongaday.me and is a punishable offence under the existing laws. 366 more words

Lyrics Contributed By Readers

चुपके चुपके चल री पुरवइया - Chupke-Chupke Chal Ri Pirwaiya

फ़िल्म – चुपके-चुपके (1975)
गायक/गायिका – लता मंगेशकर
संगीतकार – एस. डी. बर्मन
गीतकार – आनंद बख्शी
अदाकार – जया भादुरी, अमिताभ बच्चन

चुपके चुपके चल री पुरवइया
ओ चुपके चुपके चल री पुरवइया
चुपके चुपके चल री पुरवइया

बाँसुरी बजाये रे, रास रचाए दय्या रे दय्या
गोपियों संग कन्हैया
चुपके

पागल पवन से, कैसे कोई बोले (2)
गोरी के मुख से, घुँघटा ना खोले,
डोले, हौले से मन की नैया
गोपियों संग कन्हैया
चुपके …

ये क्या हुआ मुझको, क्या है ये पहेली (2)
ऐसे जैसे के, कोई राधा की सहेली मैं भी,
ढूंढू कदम की छैंया
गोपियों संग कन्हैया
चुपके …

ऐसे समय पे कोई, चुप भी रहे कैसे (2)
बाँध लिये रुत ने, पग मैं घुँघरू जैसे
नाचे मन ता थैय्य ता थैया
गोपियों संग कन्हैया
चुपके …

Solo Song

बाग़ों में कैसे ये फूल खिलते हैं - Bagon Men Kaise Ye Phool Khilte Hain

फ़िल्म – चुपके-चुपके (1975)
गायक/गायिका – किशोर कुमार, लता मंगेशकर
संगीतकार – एस. डी. बर्मन
गीतकार – आनंद बख्शी
अदाकार – धर्मेंद्र, शर्मिला टैगोर

बाग़ों में कैसे ये फूल खिलते हैं
खिलते हैं भँवरों से जब फूल मिलते हैं
ओ~ बाग़ों में …

ओ~ आ~
मौसम बहारों के लगते हैं क्यों प्यारे
हँसते हैं रोते हैं कलियों के संग सारे
कलियों के खिलने से दिल भी खिलते हैं
बाग़ों में …

अच्छा अब तुम बोलो ऐसा कब होता है
बड़े वो हो मत छेड़ो ऐसा तब होता है
जब तेरे नयनों से मेरे नैन मिलते हैं
बाग़ों में …

Romantic Song

बड़ी सूनी सूनी है ज़िंदगी ये ज़िंदगी - Badi Sooni-Sooni Hai Zindagi

फ़िल्म – मिली (1975)
गायक/गायिका – किशोर कुमार
संगीतकार – एस. डी. बर्मन
गीतकार – मज़रूह सुल्तानपुरी
अदाकार – अमिताभ बच्चन, जया भादुरी

बड़ी सूनी सूनी है ज़िंदगी ये ज़िंदगी – (2)
मैं खुद से हूँ यहाँ अजनबी अजनबी
बड़ी…

कभी एक पल भी, कहीं ये उदासी
दिल मेरा भूले
कभी मुस्कुराकर दबे पाँव आकर
दुख मुझे छूले
न कर मुझसे ग़म मेरे, दिल्लगी ये दिल्लगी
बड़ी…

कभी मैं न सोया, कहीं मुझसे खोया
सुख मेरा ऐसे
पता नाम लिखकर, कहीं यूँही रखकर
भूले कोई कैसे
अजब दुख भरी है ये, बेबसी बेबसी
बड़ी…

Solo Song

अब के सजन सावन में - Ab Ke Sajan Sawan Men

फ़िल्म – चुपके-चुपके (1975)
गायक/गायिका – लता मंगेशकर
संगीतकार – एस. डी. बर्मन
गीतकार – आनंद बख्शी
अदाकार – धर्मेंद्र, शर्मिला टैगोर, ओम प्रकाश

अब के सजन सावन में – 2
आग लगेली बदन में
घटा बरसेगी नज़र तरसेगी मगर
मिल न सकेंगे दो मन एक ही आँगन में

अब के सजन सावन में

दो दिलों के बीच खड़ी कितनी दीवारें
कैसे सुनूँगी मैं पिया प्रेम की पुकारें
चोरी चुपके से तुम लाख करो जतन, सजन
मिल न सकेंगे दो मन एक ही आँगन में

अब के सजन सावन में

इतने बड़े घर में नहीं एक भी झरोंका
किस तरह हम देंगे भला दुनिया को धोका
रात भर जगाएगी ये मस्त मस्त पवन, सजन
मिल न सकेंगे दो मन एक कि आँगन में
ईश…

अब के सजन सावन में

तेरे मेरे प्यार का ये साल बुरा होगा
जब बहार आएगी तो हाल बुरा होगा
कांटे लगाएगा ये फूलों भरा चमन, सजन
मिल न सकेंगे दो मन एक ही आँगन में

Solo Song

आए तुम याद मुझे - Aaye Tum Yaad M

फ़िल्म – मिली (1975)
गायक/गायिका – किशोर कुमार
संगीतकार – एस. डी. बर्मन
गीतकार – योगेश
अदाकार – अमिताभ बच्चन, जया भादुड़ी

आए तुम याद मुझे, गाने लगी हर धड़कन
ख़ुशबू लाई पवन, महका चंदन
आए तुम याद मुझे …

जिस पल नैनों में सपना तेरा आए
उस पल मौसम पे मेंहंदी रच जाए (2)
और तू बन जाये जैसे दुल्हन
आए तुम याद मुझे …

जब मैं रातों में तारे गिनता हूँ
और तेरे कदमों की आहट सुनता हूँ (2)
लगे मुझे हर तारा तेरा दरपन
आए तुम याद मुझे …

हर पल मन मेरा मुझसे कहता है
जिसकी धुन में तू खोया रहता है (2)
भर दे फूलों से उसका दामन
आए तुम याद मुझे …

Solo Song