Tags » S D Burman

Mandatory Sahir Post of the week!

This post is unabashedly about the best lyricist/ poet Hindi film music (in my opinion) has ever seen.

I have mentioned before in this blog that I… 2,455 more words

Samajh gaye ham to wo kitna chhupaayen

This article is meant to be posted in atulsongaday.me. If this article appears in sites like lyricstrans.com and ibollywoodsongs.com etc then it is piracy of the copyright content of atulsongaday.me and is a punishable offence under the existing laws. 431 more words

Lyrics Contributed By Readers

Remembering Manna Dey on his first death anniversary

Today is the first death anniversary of that phenomenal, versatile, and fairly underrated singer, Manna Dey.

Despite being born in the times of Rafi, Mukesh and Kishore and getting slotted as someone who is good for classical songs only, it is to his credit and brilliance that he managed to sing (some very popular songs) till the mid 1980s. 1,783 more words

साथी न कोई मंज़िल - Sathi Na Koi Manzil

फ़िल्म – बंबई का बाबू (1960)
गायक/गायिका – मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार – एस. डी. बर्मन
गीतकार – मज़रूह सुल्तानपुरी
अदाकार – देवानंद, सुचित्रा सेन

साथी न कोई मंज़िल
दिया है न कोई महफ़िल
चला मुझे लेके ऐ दिल, अकेला कहाँ …

हमदम मिले कोई कहीं
ऐसे नसीब ही नहीं
बेदर्द है ज़मीं दूर आसमाँ …

गलियां हैं अपने देश की
फिर भी हैं जैसे अजनबी
किसको कहे कोई अपना यहाँ …

पत्थर के इनसां मिले
पत्थर के देवता मिले
शीशे का दिल लिये, जाऊँ कहाँ …

Solo Song

दीवाना मस्ताना हुआ दिल - Deewana Mastana Hua Dil

फ़िल्म – बंबई का बाबू (1960)
गायक/गायिका – मोहम्मद रफ़ी, आशा भोंसले
संगीतकार – एस. डी. बर्मन
गीतकार – मज़रूह सुल्तानपुरी
अदाकार – देवानंद, सुचित्रा सेन

आआ आ आ …
प म ग म रे ग प म ग म, आआ आ …
सा नी ध प म ग रे सा नी नी नी …
दीवाना, मस्ताना, हुआ दिल,
जाने कहाँ होके बहार आई

तन को छुए, छुए घट काली
छेड़े लहर, लहर मतवाली
तन को छुए …
ओ हो तन को छुए, चुए घट काली
छेड़े लहर, लहर मतवाली
बात कोई अन्जाना
दीवाना, मस्ताना, हुआ दिल,
जाने कहाँ होके बहार आई

ओ हो हो कुछ अनकही, कहे, मेरी चितवन
बोले जिया, लिखे मेरी धड़कन, कुछ अनकही …
ओ हो हो कुछ अनकही, कहे, मेरे चितवन
बोले जिया, लिखे मेरी धड़कन
एक नया अफ़साना …
दीवाना, मस्ताना, हुआ दिल,
जाने कहाँ होके बहार आई
ओ ओ ओओ
जाने कहाँ होके बहार आई

ओ हो ओ सावन लगा, मचल गए बादल
देखूँ जिसे, हुआ वही पागल
सावन लगा, मचल गए बादल
देखूँ जिसे, हुआ वही पागल
कौन हुआ दीवाना …
दीवाना, मस्ताना हुआ दिल
दीवाना मस्ताना हुआ दिल
जाने कहाँ होके बहार आई आ आ आ …
जाने कहाँ होके बहार आई
हो ओओ, जाने कहाँ होके बहार आई
आ आ आ, जाने कहाँ होके बहार आई

Romantic Song

देखने में भोला है दिल का सलोना - Dekhne Men Bhola Hai

फ़िल्म – बंबई का बाबू (1960)
गायक/गायिका – आशा भोंसले
संगीतकार – एस. डी. बर्मन
गीतकार – मज़रूह सुल्तानपुरी
अदाकार – देवानंद, सुचित्रा सेन

देखने में भोला है दिल का सलोना
बम्बई से आया है बाबू चिन्नन्ना

गली गली गाँव की रे जागी है सोते सोते
फिर से लागे है ऐसा हुए हम छोटे छोटे
संग लेके आया है मेरा बचपना
बम्बई से …

निकी मुन्नी नूर बेग़म उसे न बनाना जी
हसीनों का शह्ज़ादा है हँसी ना उड़ना जी
दिल उड़ ले जायेगा चोड़ो बचपना
बम्बई से …

सुनो मगर शह्ज़ादे जी कहीं भूल मत जाना
बुरी हैं यह नैनों वाले बनाते हैं दीवाना
गाँव है यह परियों का दिल को बचाना
बम्बई से …

Solo Song

चल री सजनी अब क्या सोचे - Chal Ri Sajni Ab Kya Soche

फ़िल्म – बंबई का बाबू (1960)
गायक/गायिका – मुकेश
संगीतकार – एस. डी. बर्मन
गीतकार – मज़रूह सुल्तानपुरी
अदाकार – देवानंद, सुचित्रा सेन

चल री सजनी अब क्या सोचे – (2)
कजरा ना बह जाये रोते रोते
चल री सजनी अब क्या सोचे

(बाबुल पछताए हाथों को मल के
काहे दिया परदेस टुकड़े को दिल के ) – 2
आँसू लिये, सोच रहा, दूर खड़ा रे
चल री सजनी …

ममता का आँगन, गुड़ियों का कंगना
छोटी बड़ी सखियाँ, घर गली अंगना
छूट गया, छूट गया, छूट गया रे
चल री सजनी …

(दुल्हन बनके गोरी खड़ी है
कोई नही अपना कैसी घड़ी है ) – (2)
कोई यहाँ, कोई वहाँ, कोई कहाँ रे

चल री सजनी अब क्या सोचे
कजरा ना बह जाये रोते रोते
चल री सजनी अब क्या सोचे

Solo Song