Tags » S D Burman

न मैं धन चाहूँ, न रतन चाहूँ - Na Main Dhan Chahun Na Ratan Chahun

फिल्मः कालाबाज़ार (1960)
गायक/गायिकाः गीता दत्त, सुधा मल्होत्रा
संगीतकारः एस. डी. बर्मन
गीतकारः शैलेंद्र
कलाकारः देवानंद, वहीदा रहमान

न मैं धन चाहूँ, न रतन चाहूँ
तेरे चरणों की धूल मिल जाये
तो मैं तर जाऊँ, हाँ मैं तर जाऊँ
हे राम तर जाऊँ…

मोह मन मोहे, लोभ ललचाये
कैसे कैसे ये नाग लहराये
इससे पहले कि मन उधर जाये
मैं तो मर जाऊँ, हाँ मैं मर जाऊँ
हे राम मर जाऊँ

थम गया पानी, जम गयी कायी
बहती नदिया ही साफ़ कहलायी
मेरे दिल ने ही जाल फैलाये
अब किधर जाऊँ, मैं किधर जाऊँ – 2
अब किधर जाऊँ, मैं किधर जाऊँ…

लाये क्या थे जो लेके जाना है
नेक दिल ही तेरा खज़ाना है
शाम होते ही पंछी आ जाये
अब तो घर जाऊँ अपने घर जाऊँ
अब तो घर जाऊँ अपने घर जाऊँ…

Duet/Group Song

मैं तेरे प्यार में क्या क्या न बना दिलबर - Main Tere Pyar Men Kya-kya Na Bana

फिल्मः ज़िद्दी (1964)
गायक/गायिकाः मन्ना डे, गीता दत्त
संगीतकारः एस. डी. बर्मन
गीतकारः हसरत जयपुरी
कलाकारः महमूद

मैं तेरे प्यार में क्या क्या न बना दिलबर
जाने ये मौसम – 2
मैं घटा प्यार भरी तू है मेरा बादल
जाने ये मौसम – 2

तू है मेरी बन्शी मैं हूँ तेरा कान्हा
तेरा मेरा प्यार है सदियों पुराना
दिल के हर तार में है राग तेरा हरदम
मैं घटा प्यार भरी …

तू है मेरी मन्ज़िल मैं हूँ तेरा साहिल
करके रहेंगे इक दिन तुझे हासिल
चले तू ही गोरी दिल में सदा छम छम
मैं घटा प्यार भरी …

Romantic Song

ऊपर गगन विशाल नीचे गहरा पाताल - Upar Gagan Vishal

फिल्मः मशाल (1950)
गायक/गायिकाः मन्ना डे
संगीतकारः एस. डी. बर्मन
गीतकारः प्रदीप
कलाकारः अशोक कुमार, नलिनी जयवंत

ऊपर गगन विशाल नीचे गहरा पाताल
बीच में धरती वाह मेरे मालिक तू ने किया कमाल
को: अरे वाह मेरे मालिक क्या तेरी लीला
तू ने किया कमाल
ऊपर गगन विशाल

एक फूँक से रच दिया तू ने
सूरज अगन का गोला
एक फूँक से रचा चन्द्रमा
लाखों सितारों का टोला
तू ने रच दिया पवन झखोला
ये पानी और ये शोला
ये बादल का उड़न खटोला
जिसे देख हमारा मन डोला
सोच सोच हम करें अचम्भा
नज़र न आता एक भी खम्बा
फिर भी ये आकाश खड़ा है
हुए करोड़ो साल मालिक
तू ने किया कमाल
ऊपर गगन विशाल
आ हा आ हा आ आ आ

तूने रचा एक अद्भुत् प्राणी
जिसका नाम इनसान – 2
इसकी नन्ही प्राण है लेकिन
भरा हुआ तूफ़ान

इस जग में इनसान के दिल को
कौन सका पहचान
इस में ही शैतान बसा है
इस में ही भगवान
बड़ा ग़ज़ब का है ये खिलौना – 2
इसका नहीं मिसाल
मालिक तू ने किया कमाल …
ऊपर गगन विशाल
आ आ आ आ आ आ

Solo Song

सुनो गजर क्या गाए - Suno Gajar Kya Gaye

फिल्मः बाज़ी (1951)
गायक/गायिकाः गीता दत्त
संगीतकारः एस. डी. बर्मन
गीतकारः साहिर लुधियानवी
कलाकारः देवानंद, गीता बाली

सुनो गजर क्या गाए समय गुज़रता जाए
ओ रे जीने वाले ओ रे भोले भाले
सोना ना, खोना ना
सुनो गजर क्या गाए…

गिने-चुने पल हैं तेरे जीवन के
धूम मचा ले अभी दिन हैं मिलन के
ओ रे जीने वाले …
सुनो गजर क्या गाए…

ओ रे जीने वाले ओ रे भोले भाले
सोना ना, खोना ना
सुनो गजर क्या गाए…

हुस्न भी फ़ानी और इश्क़ भी फ़ानी है
हँस के बिता ले दो घड़ी की जवानी है
ओ रे जीने वाले …
सुनो गजर क्या गाए…

बिछड़ा ज़माना कभी हाथ ना आएगा
दोश ना देना मुझे फिर पछताएगा
ओ रे जीने वाले …
सुनो गजर क्या गाए…

Solo Song

दिल की उमंगें हैं जवां - Dil Ki Umangen Hain Jawan

]

फिल्मः मुनीमजी (1955)
गायक/गायिकाः हेमंत कुमार, गीता दत्त, प्राण
संगीतकारः एस. डी. बर्मन
गीतकारः साहिर लुधियानवी
कलाकारः देवानंद, नलिनी जयवंत, प्राण

दिल की उमंगें हैं जवाँ
रंग में डूबा है समा
मैं ने तुम्हें जीत लिया
हार के दोनों जहाँ

आप भी गाइए ना?
क्या मुश्किल है? सरगम बताऊँ

प म प ध प ग स प
दिल की उमंगें हैँ जवाँ
गाइए

दिल की उमंगें हैं जवाँ
बहुत अच्छे
रंग में डूबा है समा
वाह वाह वाह

दिल की उमंगें हैं जवाँ
आ हा हा हा हा हा हा
गाइए गाइए गाइए
ओ हो हो हो हो हो हो
क्या कहने

ओ~ ओ~ ओ~ ओ~ ओ~
सदियों पुरानी ये ज़मीन
है आज कितनी हसीन
आता नहीं है यकीन
होता नहीं है बयाँ

आप भी गाइए
दिल की उमंगें हैं जवाँ
रंग में डूबा है समा
जियो जियो
मैं ने तुम्हें जीत लिया
ऊँ हूँ, मैं ने तुम्हें जीत लिया
हार के दोनों जहाँ
दिल की उमंगें हैं जवाँ

भीगे नज़ारों से कहो
गाती हवाओं से कहो ओ ओ
जाती बहारों से कहो
रुक जाये आज यहाँ

दिल की उमंगें हैं जवाँ

गाइए ना
क्या मज़ा आ रहा है
हूँ हूँ हूँ
दिल की उमंगें हैं जवाँ
रंग में डूबा है समा
मैं ने तुम्हें जीत लिया
हार के दोनों जहाँ
दिल की उमंगें हैं जवाँ

ओ~ ओ~ ओ~ ओ~ ओ~
हूँ हूँ हूँ
बेचैन तन्हाइयाँ
लेती हैं अन्गड़ाइयाँ
हल्की सी शहनाइयाँ
बजती हैं जाने कहाँ

गाइए न एक बार और

दिल की उमंगें हैं जवाँ
रंग में डूबा है समा

मैंने तुम्हें जीत लिया
हार के दोनों जहाँ

आइए न आप भी नाचिये

दिल की उमंगें हैं जवाँ
रंग में डूबा है समा
मैं ने तुम्हें जीत लिया
ऊँ, हूँ मैं ने तुम्हें जीत लिया
हार के दोनों जहाँ

Romantic Song

ये रात ये चाँदनी फिर कहाँ - Sun Ja Dil Ki Dastan

फिल्मः जाल (1952)
गायक/गायिकाः हेमंत कुमार, लता मंगेशकर
संगीतकारः एस. डी. बर्मन
गीतकारः साहिर लुधियानवी
कलाकारः देवानंद, गीताबाली

ये रात ये चाँदनी फिर कहाँ, सुन जा दिल की दास्तां
चाँदनी रातें प्यार की बातें खो गयी जाने कहाँ
ये रात ये चाँदनी फिर कहाँ, सुन जा दिल की दास्तां

आती है सदा तेरी टूटे हुए तारों से
आहट तेरी सुनती हूँ खामोश नज़ारों से
भीगी हवा, उमड़ी घटा कहती है तेरी कहानी
तेरे लिये बेचैन है शोलों मे लिपटी जवानी
सीने मे बल खा रहा है धुआं, सुन जा दिल की दास्तां
ये रात ये चाँदनी फिर कहाँ, सुन जा दिल की दास्तां

लहरों के लबों पर हैं खोये हुए अफ़साने
गुलज़ार उम्मीदों के सब खो गये वीराने
तेरा पता पाऊं कहाँ सूने हैं सारे ठिकाने
जाने कहाँ गुम हो गये जाके वो अगले ज़माने
बरबाद है आरज़ू का जहाँ, सुन जा दिल की दास्तां
दास्तां दास्तां दास्तां

ये रात ये चाँदनी फिर कहाँ
सुन जा दिल की दास्ताँ
ये रात…

पेड़ों की शाखों पे सोई सोई चाँदनी
तेरे खयालों में खोई खोई चाँदनी
और थोड़ी देर में थक के लौट जाएगी
रात ये बहार की फिर कभी न आएगी
दो एक पल और है ये समा, सुन जा…

लहरों के होंठों पे धीमा धीमा राग है
भीगी हवाओं में ठंडी ठंडी आग है
इस हसीन आग में तू भी जलके देखले
ज़िंदगी के गीत की धुन बदल के देखले
खुलने दे अब धड़कनों की ज़ुबाँ, सुन जा…

जाती बहारें हैं उठती जवानियाँ
तारों के छाओं में पहले कहानियाँ
एक बार चल दिये गर तुझे पुकारके
लौटकर न आएंगे क़ाफ़िले बहार के
आजा अभी ज़िंदगी है जवाँ, सुन जा…

Romantic Song

नन्ही कली सोने चली हवा धीरे आना - Hawa Dheere Aana

फिल्मः सुजाता (1959)
गायक/गायिकाः गीता दत्त
संगीतकारः एस. डी. बर्मन
गीतकारः मज़रूह सुल्तानपुरी
कलाकारः सुनील दत्त, नूतन

नन्ही कली सोने चली हवा धीरे आना
नींद भरे पंख लिये झूला झूला जाना
नन्ही कली सोने चली हवा धीरे आना
नींद भरे पंख लिये झूला झूला जाना
नन्ही कली सोने चली

चाँद किरन सी गुड़िया नाजों की है पली – 2
आज अगर चाँदनिया आना मेरी गली
गुन गुन गुन गीत कोई हौले हौले गाना
नींद भरे पंख लिये झूला झूला जाना

रेशम की डोर अगर पैरों को उलझाए – 2
घुंघरू का दाना कोई शोर मचा जाए
दाने मेरे जागे तो फिर निंदिया तू बहलाना
नींद भरे पंख लिये झूला झूला जाना
नन्ही कली सोने चली हवा धीरे आना

Solo Song