Tags » Shakeel Badayuni

ता रा री, आ रा री, आ रा री - Ta Ra Ri Aa Ra Ri

फ़िल्म – दास्तान (1950)
गायक/गायिका – मोहम्मद रफ़ी, सुरैया
संगीतकार – नौशाद
गीतकार – शकील बदायूंनी
अदाकार – राज कपूर, सुरैया

र: (ता रा री, आ रा री, आ रा री) – 2
ये सावन रुत तुम और हम
त र र र रम
त र र र रम
दो: त रम पम, त रम पम, त र रम पम
(ता रा री, आ रा री, आ रा री) – 2

सु: (ता रा री, आ रा री, आ रा री) – 2
दिल नाचे रे छम-छम-छम
त र र र रम, त र र र रम
दो: त रम पम, त रम पम, त र रम पम
(ता रा री, आ रा री, आ रा री) – 2

र: आँखों में तुम ले के प्यार आ गये
गुलशन में बन कर बहार आ गये
सु: देखो वो कलियों को आई हँसी
बादल की छाया में नाचे ख़ुशी
दो: तू है तो फिर क्या है ग़म
त र र र रम, त र र र रम
त रम पम, त रम पम
त र रम पम
(ता रा री, आ रा री, आ रा री) – 2

र: कहता है मेरा दिल चलिये वहाँ
हर दिन हो सावन ही सावन जहाँ
सु: हम-तुम हों रिमझिम का इक साज़ हो
बस तेरी और मेरी आवाज़ हो
दो: गायेँ मिल-मिल के हरदम
त र र र रम, त र र र रम
त रम पम, त रम पम, त र रम पम
(ता रा री, आ रा री, आ रा री) – 2

Romantic Song

गाए जा गीत मिलन के - Gaaye Ja Geet Milan Ke

फ़िल्म – मेला (1948)
गायक/गायिका – मुकेश
संगीतकार – नौशाद
गीतकार – शकील बदायूंनी
अदाकार – दिलीप कुमार

गाए जा गीत मिलन के, तू अपने लगन के
सजन घर जाना है

काहे छलके नैनों की गगरी काहे बरसे जल
तुम बिन सूनी साजन की नगरी परदेसिया घर चल
प्यासे हैं दीप नयन के, तेरे दर्शन के
सजन घर…

लुट न जाए जीवन का ढेरा मुझको है ये ग़म
हम अकेले, ये जग लुटेरा बिछड़ें न मिलके हम
बिगड़े नसीब न बनके ये दिन जीवन के
सजन घर…

डोले नयना प्रीतम के द्वारे मिलने की ये धुन
बालम तेरा तुझको पुकारे याद आनेवाले सुन
साथी मिलेंगे बचपन के खिलेंगे फूल मन के
सजन घर…

Solo Song

ये ज़िंदगी के मेले - Ye Zindagi Ke Mele

फ़िल्म – मेला (1948)
गायक/गायिका – मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार – नौशाद
गीतकार – शकील बदायूंनी
अदाकार – दिलीप कुमार

(ये ज़िंदगी के मेले – 2), दुनिया में कम न होंगे
अफ़सोस हम न होंगे

इक दिन पड़ेगा जाना, क्या वक़्त, क्या ज़माना
कोई न साथ देगा, सब कुछ यहीं रहेगा
जाएंगे हम अकेले, ये ज़िंदगी …

दुनिया है मौज-ए-दरिया, क़तरे की ज़िंदगी क्या
पानी में मिल के पानी, अंजाम ये के पानी
दम भर को सांस ले ले, ये ज़िंदगी …

होंगी यही बहारें, उल्फ़त की यादगारें
बिगड़ेगी और चलेगी, दुनिया यही रहेगी
होंगे यही झमेले, ये ज़िंदगी …

Solo Song

मन तड़पत हरि दरसन को आज - Man Tadpat Hari darshan Ko Aaj

फ़िल्म – बैजू-बावरा (1952)
गायक/गायिका – मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार – नौशाद
गीतकार – शकील बदायूंनी
अदाकार – भारत भूषण

मन तड़पत हरि दरसन को आज
मोरे तुम बिन बिगड़े सकल काज
आ, विनती करत, हूँ, रखियो लाज, मन तड़पत…

तुम्हरे द्वार का मैं हूँ जोगी
हमरी ओर नज़र कब होगी
सुन मोरे व्याकुल मन की बात, तड़पत हरी दरसन…

बिन गुरू ज्ञान कहाँ से पाऊँ
दीजो दान हरी गुन गाऊँ
सब गुनी जन पे तुम्हारा राज, तड़पत हरी…

मुरली मनोहर आस न तोड़ो
दुख भंजन मोरे साथ न छोड़ो
मोहे दरसन भिक्षा दे दो आज दे दो आज, …

Solo Song

मेरी कहानी भूलने वाले तेरा जहाँ आबाद रहे - Meri Kahani Bhoolnewale

फ़िल्म – दीदार (1951)
गायक/गायिका – मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार – नौशाद
गीतकार – शकील बदायूंनी
अदाकार – दिलीप कुमार, नरगिस

मेरी कहानी भूलने वाले तेरा जहाँ आबाद रहे, मेरी कहानी
तेरी खुशी पर मैं मिट जाऊं दुनिया तेरी आबाद रहे
मेरी कहानी

मेरे गीत सुने दुनिया ने मगर
मेरा दर्द कोई न जान सका
एक तेरा सहारा था दिल को
पर तू भी न मुझे पहचान सका
बचपन के वो गीत पुराने आज तुझे न याद रहे
मेरी कहानी

मैं अपना फ़साना कह न सका
मेरे दिल की तमन्ना दिल में रही
लो आज किनारे पर आके
अरमानों की कश्ती डूब गई
क़िस्मत को मंज़ूर यही था लब पर मेरे फ़रियाद रहे
मेरी कहानी

Solo Song

झूले में पवन के आई बहार - Jhule Men Pawan Ke Aai Bahar

फ़िल्म – बैजू-बावरा (1952)
गायक/गायिका – मोहम्मद रफ़ी, लता मंगेशकर
संगीतकार – नौशाद
गीतकार – शकील बदायूंनी
अदाकार – भारत भूषण, मीना कुमारी

झूले में पवन के आई बहार
नैनों में नया रंग लाई बहार
प्यार छलके हो प्यार छलके

ल: ओ, डोले मन मोरा सजना, डोले मन मोरा
र: हो जी हो
ल: डोले मन मोरा सजना, चूनरिया बार-बार ढलके
दो: झूले में पवन के आई बहार
प्यार छलके हो प्यार छलके

र: ओ ओ ओ,
मेरी तान से ऊँचा तेरा झूलना गोरी – 2
ल: मेरे झूलने के संग तेरे प्यार की डोरी – 2
दो: तू है जीवन सिंगार
प्यार छलके
झूले में पवन के आई बहार
प्यार छलके हो प्यार छलके

र: ओ ओ ओ
बादल झूम के आये गागर प्यार की लाये – 2
ल: कोयल कूकती जाये बन में मोर भी गाये – 2
दो: छेड़ें हम-तुम मल्हार
प्यार छलके
आ आ आ
छेड़ें हम-तुम मल्हार
झूले में पवन के आई बहार
नैनों में नया रंग लाई बहार
प्यार छलके हो प्यार छलके
हो हो प्यार छलके – 3

Romantic Song

लो प्यार की हो गयी जीत - Lo Pyar Ki Ho Gayi Jeet


फ़िल्म – जादू (1951)
गायक/गायिका – लता मंगेशकर
संगीतकार – नौशाद
गीतकार – शकील बदायूंनी
अदाकार – नलिनी जयवंत, सुरेश

लो प्यार की हो गयी जीत
बलम हम तेरे हो गये
हम तुझ से लगा कर प्रीत
नयी दुनियाँ में खो गये

नैनों ने तेरे साजन
मन को लुभा के छोड़ा
दिल पे किया वो जादू
अपना बना के छोड़ा
मेरे दिल में खुशी का रंग
होंठों पे खुशी के गीत
लो प्यार की हो गयी जीत …

अरमान भरे दो दिल हैं
दुनियाँ पे है जवानी
तेरी क़सम ओ साजन
रुत है बड़ी सुहानी
रहें मिल के सदा हम तुम
यूँही जाये उमरिया बीत
लो प्यार की हो गयी जीत …

Solo Song