Tags » Sri Krishna

Coupe Du Monde

Coupe du monde 2014

The World Cup hysteria is finally over. 31 nations go in despair at different stages, while a lone nation rejoices. Amidst crazy plethora of emotions – from crest of euphoria to nadir of despair, majority of the fans feel cheated and disgusted in the end. 1,223 more words

Hare Krishna Hare Krishna Krishna Krishna

I Love You - Haiku.



<< Buzzing Bee – Haiku.


I am more than Your devotee… I Just  LOVE You… that’s all…

  >>  The Paramatma  <<



                    Oh My, Look At You, 12 more words

Fact

India's Miracle Child

He is a little boy. But his charisma, his little antics, his ability to pull off being naughty and innocent all at once, makes him one eccentric part of the divine pantheon. 16 more words

These two kings were not included in the Mahabharata war

ये दो राजा नहीं हुए थे महाभारत युद्ध में शामिल

महाभारत युद्ध के समय सारे भारतवर्ष में, सिर्फ दो ही राजा युद्ध में शामिल नहीं हुए थे एक बलराम और दूसरे भोजकट के राजा रुक्मी। रुक्मी की छोटी बहन रुक्मिणी श्रीकृष्ण की पत्नी थीं।

महाभारत में वर्णित है कि जिस समय युद्ध की तैयारियां हो रही थीं और उधर एक दिन भगवान श्रीकृष्ण के बड़े भाई बलराम, पांडवों की छावनी में अचानक पहुंचे।

दाऊ भैया (बलराम) को आता देख श्रीकृष्ण, युधिष्ठर आदि बड़े प्रसन्न हुए। सभी ने उनका आदर किया। सभी को अभिवादन कर बलराम, धर्मराज के पास बैठ गए।

उन्होंने कहा कि भारत में लालच, क्रोध और द्वेष का बोलबाला हो गया है। यह कहते हुए उनका गला भर आया। थोड़ी देर रुककर बोले कि महाभारत युद्ध की वजह से सारा संसार भयानक, भीभत्स दृश्यों से भर गया है।

Source: Spiritual News

कितनी बार मैनें(बलराम) ने कृष्ण को कहा कि हमारे लिए तो पांडव और कौरव दोनों ही एक समान हैं। दोनों को मूर्खता करनी की सूझी है। इसमें हमें बीच में पड़ने की आवश्यकता नहीं, पर कृष्ण ने मेरी एक न मानी। अर्जुन के पिरति उसका स्नेह इतना ज्यादा है कि वह कौरवों के विपक्ष मे है।

Spiritual

The verse in Bhagavad Gita, the words of Sri Krishna:

उद्धरेद् आत्मनात्मानं नात्मानम् अवसादयेत्
आत्मैव ह्यात्मनो बन्धुर् आत्मैव रिपुर् आत्मनः ॥६-५॥

Uddhared ātmanātmānaṃ nātmānam avasādayet |

110 more words
Nithyananda