Tags » Adivasi

Food sovereignty & waste

This weekend I had a wonderful opportunity to join the sociology class at my school in their discussions around food with the local farmers who are active in the movement to maintain control over food, seeds, and livelihoods. 485 more words

Garbage

Poem: The weapons in my hand by Jacinta Kerketta

These days I see
That mother leaves,
Like she did every day,
But in her hands now
Are a bow and some arrows
Instead of a basket and trowel. 301 more words

Poetry

विकास

I

देश का प्रधान
मिमियाता है बहुदेशीय कंपनियों के आगे
आओ मेक इन इंडिया
हम देंगे सबसे सस्ते रीढ़-विहीन मजदूर
फिर गुर्राता है विश्वगुरु वाले जुमले के साथ
और पीछे से आवाज़ आती है
हिन्दू राष्ट्र हिन्दू राष्ट्र

II

पहाड़ों में बॉक्साइट की गंध सूंघती
हमारे गाँव तक आ रही हैं चौड़ी-चौड़ी सड़के
इतनी चौड़ी कि थर-थर काँपते लोग इनको पार करते
इन्ही सड़कों से आए हैं नेता जी विकास का बैनर थामे
मुख्यधारा से जोड़ने पिछड़े लोगों को
इन्ही सड़कों से आए है ट्रकों भर भर सीआरपीएफ के जवान
हमें बचाने माओवादियों से
देश के सतत विकास के लिए जरूरी है
उजड़ना पहाड़ों का
उजड़ना हमारे गाँव का
हमें साथ देना है देश के विकास में किसी भी कीमत पर
हमें पूँजी निवेशकों को अच्छा माहौल देना है
हमे छोड़ना है जंगल, गाँव, जमीन … सब कुछ
न जाने क्यों बड़ा डर लगता है विकास से…

III

हमें भगाया गया जंगलों से
क्योंकि ज़रूरी था देश के विकास के लिए बाँध बनाना
हमें खदेड़ दिया गया पहाड़ों से
क्योंकि देश के विकास के लिए ज़रूरत थी बॉक्साइट की
अब हम रहते हैं सडको के किनारे या झुग्गियो में
अभी भी अक्सर बुलडोजर चलता है
सड़कें चौड़ी होती हैं
बनते हैं नए नए शॉपिंग मॉल
हम भागते है यहाँ से वहाँ
कभी भी आती है पुलिस
जब भी जल्दी होती है गुनाहगारो को पकड़ने की
हम मे से कोई भी बिना गुनाहों के गुनाहगार हो जाता है
इस तरह हम मदद करते हैं
देश के विकास में
न्याय व्यवस्था को मज़बूत करने में

India

Gauri Gill & Rajesh Vangad | Fields of Sight

A collaboration between photographer Gauri Gill and Warli artist Rajesh Vangad, which takes you on a journey away from the urban complexities present in Mumbai, creating a dialogue between two people from different walks of life. 543 more words

Jacinta Kerketta's first poetry book: Angor

Our authors and readers make adivaani what it is…they are the fuel and passion that keeps our work going.

As proud as we are to announce our first poetry book; the poet and her brilliance far surpass everything we stand for. 103 more words

Adivaani

Warli wall painting in a Kolkata home

I was pleasantly surprised to find Warli wall paintings in a house in my neighbourhood in Kolkata. The paintings were actually on the walls of the verandah as you enter the house and, as all the gates, doors and windows were shut when I was there this morning, I’m not sure if anyone lives in that house at the moment. 87 more words

Photography