Tags » Alone

November reflections

I’ve been thinking back over the last two years, in which I spent a lot of time writing on The Secret Life of Saffron. With the distance and the space I have from the darkness now, it’s easier to turn towards it and take it front on. 148 more words

Depression

slicing and dicing

I forgot how good it feels to bleed,

it become a desperate need,

for all the inner pain to be freed.

I can feel the pain fading away, 51 more words

The Little Things

I’m so lonely, I know I have said that before but I’m saying it again.  I’m used to being in a relationship and having some friends.  148 more words

Today.

I am angry.

Not that kind of angry. Not the kind where I punch walls and scream and cry. No. Im the kind of angry that’s much more dangerous. 432 more words

खुद को पहचानने का हुनर है ज़िंदगी

खुद को पहचानने का हुनर है ज़िंदगी हमने सुना था

कुछ कर गुज़रने का जुनून है ज़िंदगी हमने  सुना था

रातों को सपने तो सभी देखा करते हैं,

दिन के उजाले में उन सपनों को पूरा करने का सफर है ज़िंदगी हमने सुना था

सुना सबकुछ लेकिन दिन सिर्फ सोच में ही बिता दिए

बहुत कुछ पाने के लालच में जेब के चंद सिक्के भी गंवा दिए

जोश-जोश में नादानी को हुनर समझ बैठे

और फिर अपनी नाकामयाबी का इल्ज़ाम खुदा पर लगा

इतने से अभी दिल कहां भरा था

कामयाबी चखनी थी, क्योंकि सपनों का आकार बहुत बड़ा था.

फिर एक कोशिश की, इरादों को सही ठिकाने पर लगा दिया

और इस बार नाकामयाबी के डर से पहले से ही इल्ज़ाम किस्मत पर लगा दिया

कोशिश करने वालों की हार नहीं होती, इस सीख को रट्ट तो लिया था

लेकिन उन कोशिशों में ज़िंदगी क्या से क्या बन जाएगी, इसका जवाब उस किताब में नहीं था

मंजिल की तलाश में अकेले ही चलते चले गए

कामयाबी, जुनून, सपने इन शब्दों के मायने तलाशते ही रह गए

इस सफर  चलते चलते एक बात भूल सी गया था

सिर्फ और सिर्फ सोच अगर कामयाब बनाती तो मेरा पनवाड़ी अंबानी क्यों नहीं बन गया

कामयाबी का सिर्फ एक ही फलसफा है

एक सपने को जुनून, उस जुनून को एक सोच और फिर उस सोच को मेहनत से जो सींच पाया है

वही कामयाबी की दास्तान लिख पाया है….

Alone

My heart doesn't beat for you anymore

My heart no longer beats for you. You broke me over and over and over. Did you think i was just going to keep bouncing back? 198 more words

living with an "alter"

So you guessed it, i’m living with dissociative identity disorder (split personality). My “alters” name is Kate. I hate calling her an alter, i don’t know why. 255 more words