Tags » Archana

Napowrimo : Day-24...”Why I write?”

Why I write?

For inner beauty…

which can be reveal in a magical world of a writing,

For peace & joy…

which you feel while writing, 30 more words

Napowrimo: Day 23...”लम्बी खूबसूरत नींद”

न जाने कितनी सदियाँ बीत गई,

जब तुम्हारा इंतजार किया करती थी।

तुम्हारे प्रेम मे डूब जाने की कशिश इस कदर जहन में होती थी,

कि वास्तविकता का अहसास ही न था।

आँखों ने आंसुओ का दामन इस हद तक पकड़ा हुआ था,

कि मन अपने परिपक्व होने के मोल से अनजान था,

अनमोल लम्हें हाथों से फिसलते चले जा रहे थे,

सिर्फ ख्वाबों ने ही वास्तविकता का जामा पहन लिया था,

पता नहीं क्यों,

लम्बी खूबसूरत नींद टूटने में इतना वक़्त क्यों लगा!!

©️Archana Aadria

Napowrimo : Day 18...”कैसे कहूँ...”

कैसे कहूँ वो हर बात मैं तुमसे,

जो दिल में होती है,

क्या नाम दूँ मैं उन लमहों को’

जो तुमसे होकर गुज़रते है,

कैसे चाहूँ मैं तुम्हें,

जो तुम होकर भी तुम ना थे,

कैसे काटूँ ये पल में ऐसे,

जिसमें हम होकर भी हम ना थे,

आज तुमसे रुसवा होकर भी हम तुम ना थे।।

©️Archana Aadria

Napowrimo : Day 15 - “एक अंतहीन यात्रा”

आज वक़्त की उस दहलीज़ पर खड़ी हूँ,

जहाँ सब कुछ सिमटा हैं,

और सबकुछ बिखरा हैं,

जहाँ वक़्त को आइने से देखती चली जा रही हूँ,

Napowrimo : Day - 13...”Life...”

I love this word…’Zindagi (Life)’

Life has many pages,

Some pages have hidden gem,

Some pages have shown it already,

Some pages can’t be explained openly, 80 more words

Napowrimo : Third day...”O Man...”

O Man,

you can feel the love for a woman,

Her beauty attracts you,

Her appearance makes you peaceful,

Her warmth touch makes you mad towards her, 92 more words

Valentine...

Valentine…

Malik to naukar :
tuje 14 feb holiday q chahiye

Naukar: Sethji mere
ghar valentine k liye
SUBH POOJA👧🏻
DHOPAR ARCHANA👩🏻‍🎤
RAAT KO AARRTI 🙍🏻‍♀
Ka program rakha hai

#Valentine