Tags » Art Of Living

मुसीबत आई बदल के भेस

Image Source-https://drtraceymitchell.files.wordpress.com/2013/01/facing-our-fears.jpg

Power of Positivity is 10 times more than negativity so be positive always and challenge your fear.

क्यों लगी आज इस मनको ठेस??
आया अंधकार मेरे सामने बदल के भेस.
बोला तेरा हौसला मैं हिला दूंगा,
अपने बल से मैं तुझे हरा दूंगा।
मैंने कहा मेरे पास भी है अच्छाइयों के गुंडो का बल,
तबाह कर देगा जो तेरा, आगे आने वाला कल।
तू मुझसे दूर रह इसमें ही तेरी भलाई है,
अनुशासन की ताकत ही मेरी जीवन भर की कमाई है.
उसके सामने भी आया तो तू टिक नही पायेगा,
फिर भी ना माना, तो जल्द ही अपने मुह की तू खायेगा।

Prerna Mehrotra
4/8/2015

Life

Untitled...

What is it that comes to your mind when see this picture? 8 more words

Photography

ख़ामोशी

Image Source-http://2.bp.blogspot.com/-iN6St-Lx1cc/T78hUH58DbI/AAAAAAAAAa4/h2bMJwESdC4/s1600/InternalVoice.jpg

we have the solutions of our every problem please listen to your inner voice.

ख़ामोशी खुदसे बोलती है,
शांत वातावरण में वो सारे राज़ खोलती है.
जिसे दुनिया के शोर में,
इंसान सुन नहीं पाता।
फिर इसी गलती का भार उसे जीवन भर तड़पाता।

Prerna Mehrotra
1/8/2015

Life

I Am

I AM.

Such simple and stark words, I AM. So often we are cautioned to remove ‘I’ from our thinking, from our language, from our definitions of self even. 1,091 more words

Politics

ऐसेही नही कोई लिख पाता

Image Source-http://positiveinspiringquotes.com/wp-content/uploads/2013/09/Tulsidas-Ke-Dohe-Quotes-Suvichar-Anmol-Vachan-Thoughts-and-Sayings-Images-Wallpapers.jpg

Today I am dedicating this poem to all the poets & writers because I know it’s not easy to create something new and write.

ऐसेही नही कोई किसीको पूजता,
ऐसेही नही लेखक को कुछ भी सूझता।
शांत कर अपने मन को,
करता है वो हवाओं से बातें।
सोचते सोचते ही बिताता है वो, अपने सारे दिन और रातें।
उसकी पीड़ा तो बस वो जानें,
जो चलें इस मार्ग पर बस वही मेरी ये बात माने।

Prerna Mehrotra
29/7/2015

Life

Quickie - Kathryn Schultz on Being Wrong

Copyright 2015, Dennis Mitton

There is a TED Talk snaking through the web by writer Kathryn Schultz (Being Wrong: On the Margins of Error… 393 more words

Art Of Living