Tags » Atal Bihari Vajpayee

पुनः चमकेगा दिनकर (अटल बिहारी वाजपेयी)

आज़ादी का दिन मना,
नई ग़ुलामी बीच;
सूखी धरती, सूना अंबर,
मन-आंगन में कीच;
मन-आंगम में कीच,
कमल सारे मुरझाए;
एक-एक कर बुझे दीप,
अंधियारे छाए; 23 more words

Atal Bihari Vajpayee

क्षमा याचना (अटल बिहारी वाजपेयी)

क्षमा करो बापू! तुम हमको,
बचन भंग के हम अपराधी,
राजघाट को किया अपावन,
मंज़िल भूले, यात्रा आधी।

जयप्रकाश जी! रखो भरोसा,
टूटे सपनों को जोड़ेंगे। 15 more words

Atal Bihari Vajpayee

दूध में दरार पड़ गई (अटल बिहारी वाजपेयी)

ख़ून क्यों सफ़ेद हो गया?
भेद में अभेद खो गया।
बँट गये शहीद, गीत कट गए,
कलेजे में कटार दड़ गई।
दूध में दरार पड़ गई। 62 more words

Atal Bihari Vajpayee

Is the dynast a congenital liar - India’s first post-truth politician

File Photo

I have always believed that the perpetuation of dynasties negates the very concept of Democracy. Dynasties rely on a feudal mindset, personality cults, non-ideological positions and believe that only those belonging to a privileged family are entitled to rule. 522 more words

Smriti Irani

Living Young...

A few days ago, a good friend of mine forwarded a piece, of which this is an extract, as a poem penned by our late Atal Bihari Vajpayee, India’s much adored/loved prime minister. 369 more words

General

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती पर विशेष - समर्थक ही नहीं, विरोधी भी करते थे प्रशंसा, ऐसे थे पूर्व पीएम वाजपेयी

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की आज 95 वीं जयंती है। उनका जन्म 25 दिसंबर, 1924 को मध्य प्रदेश के ग्वालियर में हुआ था। वाजपेयी का निधन 16 अगस्त 2018 को नई दिल्ली के एम्स अस्पताल में हुआ था। अटल बिहारी वाजपेयी मृत्यु के काफी से बीमार थे। बीमारी की वजह से सन 2009 के बाद से उनका राजनीतिक जीवन पूरी तरह से खत्म हो गया था। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी असम के डिब्रूगढ़ में सबसे लंबा रेलवे-रोड ब्रिज देश को समर्पित करने वाले हैं। इसके अलावा देश के अलग-अलग हिस्सों में सुशासन दिवस के रूप में अटल की जयंती का आयोजन किया जा रहा है। 810 more words

News

कौरव कौन
कौन पांडव,
टेढ़ा सवाल है|
दोनों ओर शकुनि
का फैला
कूटजाल है|
धर्मराज ने छोड़ी नहीं
जुए की लत है|
हर पंचायत में

27 more words
हिंदी साहित्य