Tags » Author's Words

Poems of Acheron

So, i have been apart of WordPress for about a month now and a follower of my blog asked me a question:

Why are your poems so dark and sad? 721 more words

Poetry

सब बिकता है

ये हिंदुस्तान है यहाँ सब बिकता है
बिक जाये धर्म तो ईमान बिकता है
कभी हिन्दू बिकता है
कभी मुसलमान बिकता है
ऊँची कीमतों पर यहाँ भगवान बिकता है

Poetry

Jindgi Mout thi

ये पेड़ ये पौधे ये पंछी
उम्र सारी मेरी इनकी छाव मे गुजरी
कौन जाने मेरे दर्द के इंतहा को
ज़िंदगी मौत थी पर प्यास बुझाने मे गुजरी

Author’s Words

Dard Shayari

मेरा मन

मिटटी का मन मिटटी का तन
मेरा जीवन मेरा परिचय
मेरा परिचय मेरा मन
मेरा मन चँचल चितवन
चँचल चितवन मेरा बचपन
मेरा बचपन कोमल ह्रदय
कोमल होते मेरे खिलोने
मेरे खिलोने गुड्डा गुडिया गुड्डा
गुडिया के खेल पुराने
पुराने पीपल की छाव सुहानी
सुहानी मेरी पडोस की लड़की
लड़की मुझको लगती है प्यारी
प्यारी मेरी दादी की कहानी
कहानी में राजा की होती थी रानी
मेरा बचपन मेरी कहानी
मिटटी का तन मिटटी का मन

Author’s Words

Author's Words

मेरी चाहतें My Wishes

मेरी चाहतें

मैं पानी की तरह आज़ाद होना चाहता हूँ |
बिना पंखो के सरहदों के पार जाना चाहत हूँ ||
चिडिया की तरह गुनगुना चाहता हूँ,
फूलों की तरह महकना चाहता हूँ |
धूप की तरह खिला और
रोशनी की तरह पवित्र बनना चाहता हूँ,
आसमान में उडकर बादलो को छूना चाहता हूँ |
धरती पे रहकर मिटटी में मिलना चाहता हूँ,
मैं चाहत को चाहत की तरह बनाना चाहता हूँ ||
रगों में घुलकर  ह्रदय  में  बसना  चाहता  हूँ,
मै  दिन की चंचलता
रात की शांति  पाना चाहता हूँ |
सत्य  की  तरह  दृढ,
विश्वास की तरह पूर्ण होना चाहता हूँ ||
मै सूर्य की उर्जा तथा
चांदनी की ठंडक पाना चाहता हूँ
जिन्दगी के बाद मौत को भी जीना चाहता हूँ

Author’s Words

Poetry

सखी - My Love

जब कुछ याद सुहानी हो 
कोई पास तराना हो
तब तुम आना री सखी
मेरा साथ निभाने को
कोई वक़्त का किस्सा सुनना
कोई गजल प्रेम की गाना
तब तुम आना री सखी
कोई राग सुनाना तुम
कोई मधुर गीत गाना
तभी मन का मीत होगा
अपना भी प्रीत होगा
मेरा मन भी तेरा है
तेरा मन भी मेरा है
तब तुम आना री सखी
कोई प्रेम शब्द कहना
कोई तान मधुर देना

Author’s Words

Poetry