Tags » Basic

Stroke Management

The key issue in stroke management is to reverse the ischaemia of tissue in the ‘mismatch penumbra’.

Background: 

Stroke is defined as a rapid onset, focal neurological deficit due to a vascular lesions lasting… 849 more words

Common Calls

A Beginner's Guide to Rock Climbing: Mastering Basic Climbing Knowledge

A Beginner’s Guide to Rock Climbing: Mastering Basic Climbing Knowledge

Mastering Basic Rock Climbing ConceptsBook Length: 9796 Words
Are you interested in rock climbing, but don’t know where to get started? 16 more words

Subject, Verb, Object

There’s lots of advice about “style” out there, and most of it is bogus.  Style can’t really be taught, so I hereby give you a full Papal dispensation to ignore it.  466 more words

Basic

Non-linear Regression

The fit equation is

We assume near , the curvy subspace of can be approximated by a plane.  This, using Taylor series,

,

where is divergence of at . 22 more words

Basic

Multi-dimension Linear Regression

In the field of science, collecting data and fitting it with model is essential. The most common type of fitting is 1-dimensional fitting, as there is only one independent variable. 222 more words

Basic

कम्प्यूटर वायरस

परिचय (Introduction)
कम्प्यूटर वायरस अपने आप कम्प्यूटर में आ जाने वाला प्रोग्राम कोड होता है, जो बाहरी स्रोत द्वारा तैयार किया जाता है। दुनिया का पहला कम्प्यूटर वायरस Elk Cloner था, जो ‘इन द वाइल्ड’ ने प्रकट किया था। यह कम्प्यूटर वायरस एप्पल डॉस 3.3 ऑपरेटिंग सिस्टम में फ्लॉपी डिस्क के जरिए फैलता है। कम्प्यूटर वायरस हमारे कम्प्यूटर में तबाही लाने वाला प्रोग्राम होता है, जो आपकी फाइलों और ऑपरेटिंग सिस्टम में उपस्थित सूचनाओं को बिना आपकी जानकारी अथवा चेतावनी के नुकसान पहुंचाता है। कम्प्यूटर वायरस के फैलने का सबसे आसान जरिया नेटवर्क, इंटरनेट और ई-मेल का बढ़ता हुआ उपयोग है। आमतौर पर कम्प्यूटर वायरस आपके कम्प्यूटर में निम्न प्रकार से आ सकता है-

1. संक्रमित प्रोग्राम के उपयोग से
2. संक्रमित फाइल के उपयोग से
3. संक्रमित फ्लापी डिस्क के साथ डिस्क ड्राइव में कम्प्यूटर बूट करने से
4. पाइरेटेड सॉफ्टवेयर के उपयोग से

कम्प्यूटर वायरस अपने आप जेनरेट नहीं होते, बल्कि ये वायरस लोगों द्वारा पूरी सूझ-बूझ से तैयार किए गए प्रोग्राम होते हैं। कुछ लोग इसे अपने कम्प्यूटर की सुरक्षा के लिए प्रयोग करते हैं तो कुछ लोग इसे विध्वंस मचाने के लिए तैयार करते हैं। कम्प्यूटर वायरस के प्रकार
वायरस कई प्रकार के होते हैं, परन्तु अधिकांश वायरस को मुख्यत: तीन भागों में बांटा गया है-

1. बूट सेक्टर
2. फाइल वायरस
3. मैक्रो वायर

Computer Basic

सूचना-प्रौद्योगिकी

परिचय (Introduction)कम्प्यूटर का विकास कई दशकों पहले ही हो चुका है, परन्तु आधुनिक युग में कम्प्यूटर की क्षमता, गति, आकार एवं अन्य कई विशेषताओं में आश्चर्यजनक बदलाव हो रहे हैं। इन सभी सूचनाओं में सूचना प्रौद्योगिकी के आविष्कार ने कई असम्भव बातों को सम्भव बना दिया है। हम घर बैठे दूर स्थित अपने किसी मित्र व संबंधी के साथ चैंटिंग करना, रेलवे-वायुयान टिकट आरक्षित करा सकते हैं। कम्प्यूटर के विकास के साथ-साथ सूचना प्रौद्योगिकी भी विकास के पथ पर अग्रसर है। सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग डाटा संचार के रूप में, व्यपार, घर, बैंकों इत्यादि स्थानों पर मुख्य रूप से किया जाता है। दूसरे शब्दों में ज्ञान की नई शाखा को सूचना प्रौद्योगिकी कहते हैं।सूचना-प्रौद्योगिकी के मौलिक घटक(Fundamental Ingredient of IT) 42 more words

Computer Basic