Tags » Bharatanatyam

Of Service and Sadhana

The three-day arts festival juxtaposes the arts with a greater cause

Chennai, Nov. 17: As the lights shift, the embers of the candles dying out to give way to a bluish halo, dancer Parvathy Menon’s silhouette comes into frame. 479 more words

Bharatanatya - Natya Shastra

With Bengaluru becoming more westernized with each outsourced gigabyte—the West is the main culprit in the expropriation of traditional Indian arts, the dedication of the original temple dancer has all but disappeared; the beloved pursuit is losing its purity. 536 more words

Art for a cause

Waking up to the early morning sun rays everyday, I love to soak in the blissful silence of my yoga room. The practices teach me inclusiveness. 536 more words

Brahmotsavam : a soul cleansing journey

Engrained in the rich tapestry of the opulent heritage and culture of Hinduism, Brahmotsavam is one of the most revered festivals to grace Hindu devotees.   According to Hindu text, it is said that Lord Brahma performed the celebration of Brahmotsavam to Lord Balaji at Tirupati for Lord Venkateshwara.   1,073 more words

Thoughts on Yesterday's Inherit Chicago Event: "Female Power Models in Greek & Indian Mythology"

I had the opportunity yesterday afternoon to attend a series of performances of great relevance to contemporary Polytheists and the struggles many of us face in the West of assuring our dual Overculture (dual in the sense that it is both secular as well as overwhelmingly Abrahamic monotheism-influenced) that our modalities of religious worship constitute living, grounded-in-the-here-and-now traditions, not ones consigned to the dustbin of history. 2,634 more words

Polytheism

दिल्ली में 300 कलाकारों ने 27घंटे भरतनाट्यम कर बनाया रिकॉर्ड

डॉ. सरोज वैद्यनाथन, गीता चंद्रन, यामिनी कृष्णमूर्ति, रमा वैद्यनाथन, कनका सुधाकर और प्रिया वेंकटरमन। ये नाम किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। भरतनाट्यम की अद्भूत प्रस्तुति से ना केवल भारत बल्कि विदेशों में भी ख्याति एवं कई नामी पुरस्कार अर्जित कर चुकी इन भरतनाट्यम डांसर्स की एक जगह, एक साथ प्रस्तुति कार्यक्रम के हर लम्हे को यादगार बना देती है। इन लम्हों को अपनी यादों में कैद करने की यदि आप भी ख्वाहिश रखते हैं तो इस सप्ताहांत आपकी हसरत पूरी होगी। कुतुब इंस्टीटयूशनल एरिया स्थित गणेश नाट्यालय में लगातार 27 घंटे तक नृत्य करेंगी। मकसद, एशिया में सबसे अधिक देरी तक भरतनाट्यम करने का रिकार्ड बनाना है। 

पदम श्री और पदम भूषण से सम्मानित डॉ. सरोज वैद्यनाथन कहतीं हैं कि गणेश नाट्यालय में शनिवार सुबह दस बजे से भरतनाट्यम शुरू होगा जो अगले दिन दोपहर एक बजे तक अनवरत चलेगा। कहतीं हैं कि चेन्नई, बेंगलुरु, लखनऊ, कलकत्ता, झारखंड से प्रोफेशनल नर्तकी आएंगी तो वहीं उक्रेन, फ्रांस, यूके, रूस, लंदन, मलेशिया से भी नर्तकियां अपने हुनर का प्रदर्शन करने आ रही हैं।  
बकौल डॉ. सरोज हमने 300 नर्तकियों के आने का लक्ष्य रखा है लेकिन अभी तक चार सौ से ज्यादा आ चुकी है। लगातार 27 घंटे तक चलने वाले भरतनाट्यम में एक बार एक समय में स्टेज पर 8 नर्तकियां प्रस्तुति देंगी। नर्तकियां सोलो, ड्यूट और समूह में प्रस्तुति देंगी। यदि कोई नर्तकी एक बार स्टेज पर भरतनाट्यम कर ली तो दोबारा वो अकेले या समूह में भी प्रस्तुति नहीं दे पाएगी। डॉ. सरोज की मानें तो गणेश नाट्यालय परिसर में ही स्टेज तैयार किया गया है। स्टेज को फूल, मालाओं से सजाया गया है। प्रकाश की विशेष व्यवस्था की गई है। इसके लिए प्रोफेशनल्स की मदद ली गई है। नृत्य की हर विधा के साथ नर्तकियों के चेहरे के भाव संग प्रकाश का रंग बदलेगा। कार्यक्रम में शरीक होने के लिए दिल्ली के विभिन्न नाट्य महाविद्यालयों की छात्र-छात्राएं भी शामिल होंगी। इस पूरे कार्यक्रम का मकसद, रिकार्ड बनाना है। ताकि भरतनाट्यम का यह कार्यक्रम भारतीय इतिहास में भी यादगार बन जाए। 

Bharatanatyam Delhi Bharatanatyamworldrecord 300bharatnatyamdancer 27hourslivetelicast

Life's a Dance & Dance is Life

I recently wrote a variation of this for a question about my passions and it was perfect timing, as today is the seven year anniversary of my Bharatanatyam Arangetram! 1,271 more words

Mental Health