Tags » Bharati

मां भारती की पुकार

www. indialocation.in

मां भारती सपूतों को है पुकारती

क़ुर्बानियाँ तुमसे हूँ मैं चाहती

बिसंगतियों से मैं अति ग्रस्त हूँ

भ्रष्टाचार से मैं बहुत त्रस्त हूँ /

राजनीती का नंगा नाच आम है

लोकसभा की मर्यादा नीलाम है

कलमूहों ने मुझे है डस डाला

भेड़ियों ने मुझे है नौंच डाला /

अमीर को गरीब की फ़िक्र नहीं

मालिक को मजदूर की फ़िक्र नहीं

सर्वहारा वर्ग साधनों से बिहीन है

धनाढ्य वर्ग अपने चैन में लीन है /

गाँव आज बेखबर बिखर रहे हैं

शहर झुग्गी झोपड़ियों से भर रहे हैं

मां भारती को चाहिए जवान फ़ौज़

सेवा करे गरीब की छोड़ सारी मौज़ /

गरीब को सज़्ज़ करे साधनों से

गरीब को सज़्ज़ करे कौशल से

गरीबी अमीरी की दूरियां मिटें

गरीबों की कुछ मज़बूरियां मिटें /

 

चन्दन अधिकारी

१५ अगस्त २०१५

 

Poem

An Excerpt from Desire of the Moth

After a few seconds of silence Kitappa’s fingers stroked the sides of the instrument and it spoke to her. Sowmya saw the spin­ning of the wheel, a lone flag fluttering in the wind. 440 more words

Reviews

SIGN UP!

Help us create the big baffian database and let the party(ies) begin then.

Name(required)

Email(required)

Mobile

Batch of(required)

Favorite Teacher

Current Location(required)



110003

Case Solution for Professionalization of Ujwal Bharati

Complete Case details are given below :

Case Name :      Professionalization of Ujwal Bharati

Authors :           K. Ramachandran

Source :             Ivey Publishing

Case ID :            910M36… 244 more words

Case

Subramania Bharatiar

I share my birthday with this revolutionary poet. His poems are well before their time and speak of themes that are relevant even today. Maybe even more so, today. 10 more words

Bharati Vidyapeeth University, Maharashtra Announces Entrance Exam for 2015

Important Dates

Last Date for submission of Application Form – 10th January 2015

Date of Entrance Exam – 18th Jan 2015 ( 11 am to 2 pm) 19 more words

Deemed University