Tags » Bundi

Dan's first week alone in India - Jaipur and Bundi

January 14, 2018
by Dan

With Christina gone to Rishikesh, I decided to stay put in Delhi one more day. Despite the smog I found a park, but the one I found was just barren and brown and dusty except for the trash littered everywhere. 3,215 more words

Food

Jait Sagar of Bundi – A Timeless Journey

In the annals of Indian history, the name of Jaita Meena may not be known much. In 13th century on the edge of the Aravali Mountains Jaita ruled parts of Southeastern Rajasthan, which later came to be known as Hadoti.

539 more words
Heritage

Day 54: Bundi To Jaipur - Break Woes

We woke at 6:00am to be ready to leave at 6:30am, grabbed some food and went to leave. Unfortunately the hotel man still hadn’t unlocked the gates, even though he told us he would be at 6:30am. 461 more words

India

Rajasthan Week Four to Chittorgarh

It’s Friday, so it has to be the end of week four here in Chittorgarh on our bicycle tour of Rajasthan. For the record, it’s been a very hot and dusty ride of 750km, but extremely enjoyable nevertheless. 455 more words

India

Gear Up for Bundi Utsav in Rajasthan!

A little drop of fantasy exists in this vast land of Rajasthan. Little is known, not talked much, there lies a tiny town Bundi, in Hadoti region  of Rajasthan  200 more words

Travel And Tourism

Rajasthan Week 3 to Bundi

Leaving Kekri on Thursday in the cooler morning air, we expected a 45 km ride to Deoli (Devli). Yet just out of town, we discovered a shorter route. 341 more words

India

जहांआरा और शत्रुसाल की प्रेम कथा

जहांआरा शाहजहां की बेटी थी और शत्रुसाल बुंदी के राजकुमार थे।

सन् 1631 के फरवरी का महीना। गजब की ठंड पड़ी थी उस साल। फरवरी महीना होने के बावजूद कड़ाके की सर्दी जारी थी। बादशाह शाहजहां अपनी प्यारी बेगम की मौत के बाद पहली बार बुरहानपुर किले के दिवान-ए-आम में तशरीफ लाए थे। अभी सिर्फ छह महीने पहले ही तो उनकी बेगम मुमताज-उल-जमानी का इंतकाल हुआ था और उसे बुरहानपुर के जैनाबादी बाग में दफ्न कर दिया गया था। 29 जनवरी, 1631 को मुमताज महल के ताबूत को जैनाबादी बाग से निकाल कर आगरा के सिकंदराबाद में दफनाया गया। बादशाह के आने से दिवान फाजिल खां और अन्य मनसबदारों के चेहरे खिले हुए थे। इस बीच एक दुखद घटना हुई। जिस दिन बुरहानपुर से मुमताज महल के ताबूत को रवाना किया गया, उसी दिन शाहजहां को खबर मिली कि बालाघाट में उनके वफादार मनसबदार बुंदी के राजा राव रतन हाड़ा गुजर गए। शाहजहां ने फौरन ही रतन हाड़ा के पुत्र शत्रुसाल को बुंदी फरमान भेजकर उसे तीन हजारी जात, दो हजार सवार का मनसब का खिताब बख्शा और फौरन बुरहानपुर पहुंचने का हुक्मनामा जारी किया। हुक्मनाना मिलने के दो महीने के अंदर ही बुरहानपुर के नजदीक ताप्ती के उस पार आ पहुंचा और अगले दिन बुरहानपुर शहर में अपने दादा के बनावाए महल में दाखिल हो गया। 203 more words

History