Tags » Burkha

गज़ाला

आँखें ! हंसती, रोती, लजाती, घूरती, नाचती, बोलती…. आंखें ! आँखों में देखो तो लगता है कोई एक और छुपा बैठा है हर इंसान के भीतर .
मन करता है चार्ल्स डार्विन से कहूं , ” नहीं सर नहीं , बाकी आप शायद सही हैं, पर आँखें ऐसे ही नहीं बनी, कोई तो करिश्मा हुआ है .”
फिर औरत की आँखें ? माशा अल्लाह ! और औरत भी जब बुरका पहने हो तो तौबा मेरी तौबा. आँखों में देखकर बुर्के में छुपे खूबसूरत बुत की तस्वीर भी उतारनी होती है .
आज तीसरा दिन था . फिर सबवे के पास बेंच पर बैठी दिखी वह अछूती अरबी सुंदरी . फिर मुझे लगा पिछले तीन दिन से ये आँखें मुझे बुला रही हैं . पता नहीं नाम क्या था , मेरे दिल ने कहा, ” गज़ाला !”
” उस्मान मियां मुझे इस औरत से बात करनी है. इन आँखों में मुझे मुहब्बत दिख रही है. इनकी कशिश मुझे खींच रही है .”
” हे पागल हुआ है क्या ? 10-२० दिराम मांगेगी , इंडिया का दो सौ चार सौ रुपया होता है . भिखारिन है भिखारिन .”
“क्या बात कर रहे हो दादा ? इतनी ख़ूबसूरत औरत भीख मांगेगी ? इसकी आँखें तो देखो, कैसे सेक्स से लबालब हैं . कसम से इंडिया में तो लाइन लग जाये .”
“यह शारजाह है बेटा . औरत के नज़दीक गए और उसने शिकायत कर दी तो दो मिनिट में अंदर हो जाओगे. और यह सेक्स नहीं है, भूख है . अपनी मजबूरी को सेक्स का मेक- अप करना हर औरत को आता है . उसको मालूम है आदमी पर कुछ नहीं बस सेक्स का जादू चलता है . यह सब यमन और सीरिया से आयी हैं . उधर खाने के लिए भी कुछ नहीं बचा है, मालूम ? मुहब्बत दिख रही है, ललुआ को !”
मेरा मन नहीं माना . १० दिर्हाम जायेंगे ना ! मैं थोड़ी देर में फिर आ गया . जेब टटोली तो एक ही नोट था ५० दिर्हाम का . जी को समझाया .
वह मुझे अब भी वैसे ही देख रही थी . ” आ मेरे पास आ. मुझ से बात कर !”
इतने में एक लम्बा तगड़ा आदमी आया . उसने झट से उस औरत को उठा कर कंधे पर लाद लिया . मेरी आंखें फटी रह गयी . वह बस आधी औरत थी .. ऊपर की आधी .. धड़ धड़ .. उसके पैर थे ही नहीं .
उस आदमी के कंधे पर पड़ी, घायल हिरणी सी, वह मुझे अब भी घूर रही थी.
पता नहीं वह कौन था , उसका कोई अपना, या कोई आखेटक.
मैंने मुंह खोलना चाहा , “गज़ाला…!” पर जुबां ने साथ नहीं दिया.
मेरी अंगुलियां जेब में ५० दिर्हाम के नोट को मसोसती रह गयी.

India

The execution 



Deep in a town which saw no dawn

Lived a girl whose skin was the color of the sun

Draped in a cascade of black that covered all… 72 more words

Poems Etc.

'Lipstick under my Burkha': The film Indian censors do not want you to see'

Lipstick Waale Sapne is an Indian film in Hindi. The film is directed by Alankrita Shrivastava and produced by Prakash Jha. The film stars Konkona Sen Sharma, Ratna Pathak, Aahana Kumra and Plabita Borthakur in lead roles along with Sushant Singh, Vikrant Massey, Shashank Arora, Vaibbhav Tatwawdi and Jagat Singh Solanki.The trailer of film was released on 14 October 2016. 73 more words

Politics And Society

If You Try to Silence a Film, Then Be Prepared to Face the Backlash, Says Lipstick Under My Burkha Director

If You Try to Silence a Film, Then Be Prepared to Face the Backlash, Says Lipstick Under My Burkha Director http://blog.konkanitube.in/wp-content/uploads/2017/03/1488678132_if-you-try-to-silence-a-film-then-be-prepared-to-face-the-backlash-says-lipstick-under-my-burkha-director.jpg

Her film may not have got a clearance yet by the Censor Board, but Alankrita Shrivastava, director of the much talked about film… 681 more words

(9) Indian Censorship

A recent article on indiewire discusses the issue with Indian censorship that doesn’t seem to be improving. The newest insight is that a women’s rights film was recently silenced. 129 more words

Film

The Curse of being a Woman

There is no time like the present to talk about how being a woman appears to put you at significant disadvantage almost globally. Yet, I am not going to use this to talk about us in the West. 467 more words

International Relations