Tags » Cow Dung

Ranthambore.

Another very busy day with an early start. We left the hotel at 8 a.m. and had a 4 hour drive to here. It was an interesting drive and I think I have worked out the local Highway Code. 295 more words

BMW Is Now Running It's Pretoria Factory Using Cow Dung!

South Africa is fast becoming one of the world’s leading nations in the area of green and renewable energy. We already have one of the world’s greenest hotels in Cape Town, and new wind-farms and other sustainable energy resources are being built every day as an alternative to more traditional means of electricity. 93 more words

What's Trending

गाय के ताजे गोबर की खाद निर्माण सामग्री

गाय के ताजे गोबर की खाद निर्माण सामग्री
गाय का ताजा गोबर
250 ग्राम बेन्टोनाइट पाउडर, काली मिट्टी या वसाल्ट
250 ग्राम अण्डे के छिलके का चूर्ण
बायोडायनामिक प्रिपरेशन नामक औषधीय कल्चर
ईंट, फावड़ा, टाट पट्टी आदि।
निर्माण विधिः
सबसे पहले तीन फुट चौड़ा, दो फुट लंबा और ड़ेढे फुट गहरा गड तैयार कर लेते हैं। गड्ढे की दीवार ईंटों से चुन दें। अब 60 किलोग्राम गाय का कम से कम 24 घंटे पुराने गोबर में 250 ग्राम अण्डे के छिलके का चूर्ण और 250 ग्राम बसाल्ट पाउडर भलीभांति मिला लें। अब इस मिश्रण को गड्ढे में भरकर इसमें 23 इंच गहरे छिद्र बना लें। इन छिद्रों में बायोडायनमिक प्रिपरेशन भरकर छिद्रों को बंद कर दें। सतह को टाट पट्टी से ढंक दें।
इस प्रकार लगभग 40 से 45 किलोग्राम खाद हमें 80 दिन बाद उपयोग के लिए तैयार मिलेगी। 8090 एकड़ भूमि में खेती के लिए इतनी खाद पर्याप्त है। सावधानी यह रखनी होगी कि खाद तैयार होते समय गड्े में पानी नहीं जाना चाहिए।
प्रयोग विधि
500 ग्राम खाद एक ड्रम में 40 लीटर पानी में अच्छी प्रकार से घोल लें। इस घोल का सूर्यास्त के बाद या सूर्योदय से पूर्व खेत में या फसल पर छिड़काव करें। यह खाद पौधों के लिए कीटनियंत्रक का काम भी करती है। इसमें बीजशोधन करने से अंकुरण अच्छा होता है।

बायो डायनामिक तरल कीटनियंत्रक
यह कीटनियंत्रक गोबर, गोमूत्र तथा विभिन्न औषधीय पौधों एवं वृक्षों की पत्तियों द्वारा तैयार किया जाता है।
निर्माण सामग्री: प्लास्टिक ड्रम, गोबर, गोमूत्र, बी.डी.उपक्रम, आवश्यकतानुसार दलहनी पौधे, नीम, मदार, करंज आदि की पत्तियां
निर्माण विधिः 5 लीटर गोमूत्र एवं 5 किलोग्राम गोबर को 200 लीटर क्षमता वाले प्लास्टिक ड्रम में डालकर 150 लीटर पानी भरें। बायोडायनामिक उत्प्रेरकों के एक सेट कपड़े की छोटीछोटी पोटली में लटका दें या पत्तियों में रखकर पैकेट बनाकर ड्रम में डालें। इस प्रकार निर्मित तरल को दिन में दो बार लकड़ी की सहायता से हिलातेमिलाते रहें। ड्रम को बोर या जाली से ककर रखें। 30 से 35 डिग्री तापमान पर यह तरल कीटनियंत्रक 34 सप्ताह में तैयार हो जाता है। कीटनाशक प्रभाव ब़ाने के लिए इस तरल में नीम, सदाबहार, कनेर, करंज, मदार तथा अरण्डी आदि की पत्तियों का प्रयोग किया जाता है।
प्रयोग विधिः
एक लीटर तरल खाद को 45 लीटर पानी में घोलकर पौधों और वृक्षों पर आवश्यकतानुसार छिड़काव करने से पौधे के स्वास्थ्य पर अनुकूल असर पड़ता है।

नेडेप कम्पोस्ट खाद
निर्माण सामग्री:
100 किलोग्राम गोबर, वनस्पतियों के अपिशट एक क्विंटल से ड़े क्विंटल, खेत या नाले की सूखी छनी मिट्टी, 1500 से 2000 लीटर पानी, गोमूत्र एवं अन्य पशुओं का मूत्र आदि

निर्माण विधिः
सर्वप्रथम 12 फिट लंबा, 5 फिट चौड़ा एवं 3 फिट गहरा गड, ईंटों से चुना हुआ, निर्मित करें। सबसे पहले गड्ढे के फशर को गोबर एवं पानी छिड़ककर गीला कर लें। उसके बाद उसमें वानस्पतिक अपशिष्ट 6इंच ऊंचाई तक भर दें। इसमें 3 से 4 प्रतिशत तक कड़वे नीम की पत्तियां या पलास की हरी पत्ती मिलाना लाभदायक रहता है।
इसके बाद दूसरी परत में 125 से 150 लीटर पानी में 5 किलो गोबर घोलकर इस प्रकार छिड़काव करें कि वनस्पति अपशिष्ट की परत पूरी तरह से भीग जाए।
इसके बाद साफ, सूखी और छनी मिट्टी जो वजन में वनस्पति अपशिष्ट की मात्रा की आधी हो, उसे समतल रूप में वनस्पति की परत के ऊपर बिछा दें। फिर इस पर थोड़ा पानी छिड़क दें।
15 से 20 दिनों के बाद उपरोक्त सामग्री गड्े में 8 से 9 इंच अंदर चली जाएगी। अब पुनः वानस्पतिक अपशिष्ट भरें और उसके ऊपर गोबर के घोल का छिड़काव कर इसे तीन इंच तक मिट्टी से भर दें। अब इसे लीपकर सीलबंद कर दें।
अब इस खाद को तैयार होने में 90 से 120 दिन लगते हैं। बीचबीच में गोबर के घोल का छिड़काव गड्ढे में करते रहना चाहिए ताकि नीचे तक नमी बनी रहे।
तीन से चार महीने बाद गहरे भूरे रंग की खाद तैयार हो जाती है। इसमें दुर्गंध की बजाए मीठी खुशबू आने लगती है। यह खाद सूखनी नहीं चाहिए और इसे नम रहते हुए ही खेतों में डालना चाहिए।
नॉडेप पद्धति से खाद बनाते समय यदि बायोडायनमिक कल्चर अर्थात विभिन्न औाधीय महत्व की वनस्पतियों और उनकी पत्तियों का प्रयोग किया जाए तो इसकी गुणवत्ता में सुधार होने लगता है।

जीवामृत खाद
निर्माण सामग्री: गाय का गोबर, गोमूत्र, दही, दाल का आटा एवं गुड़।
निर्माण विधि 60 किलोग्राम गोबर, 10 लीटर गोमूत्र, किसी दाल का 2 किलो आटा, 2 किलोग्राम गुड़, 2 किलोग्राम दही को अच्छी प्रकार मिलाकर मिश्रण बना लें और इसे दो दिनों तक छाया में रखें।
प्रयोग विधिः दो दिन बाद तैयार मिश्रण को 200 लीटर जल में मिलाकर एक एकड़ खेत में बिखेर दें या छिड़काव करें। यह खाद खेत में असंख्य लाभप्रद जीवाणुओं को पैदा कर देगी। किसी फलदार वृक्ष में तने से 2 मीटर दूर एक फुट चौड़ी तथा एक फुट गहरी नाली खोदकर खेत पर उपलब्ध कूड़ाकरकट भर दें और इसे जीवामृत खाद से अच्छे से गीला करें। इसका परिणाम फलोत्पादन पर पड़ता है। पेड़ की पैदावार ब़ढ जाती है।

मटका खाद
निर्माण सामग्री: गाय का गोबर, गोमूत्र एवं गुड़
निर्माण विधिः 15 किलोग्राम गाय के ताजे गोबर और 15 लीटर ताजे गोमूत्र को 15 लीटर पानी एवं आधा किलोग्राम गुड़ में अच्छी तरह से घोलकर मिला लें। उपरोक्त सामग्री को मिट्टी के बड़े घड़े में रखें और घड़े का मुंह ठीक प्रकार से किसी कपड़े की सहायता से बंद कर दें।
प्रयोग विधिः 46 दिन बाद 200 लीटर पानी मिलाकर इस घोल को एक एकड़ खेत में समान रूप से बोने से 15 दिन पूर्व तथा बुआई के एक सप्ताह बाद दूसरा छिड़काव करें।


आम में पाए जाने वाले भुनगा कीट के नियंत्रण के लिए बिच्छु घास और गोमूत्र के मेल से प्रभावी कीटनियंत्रक तैयार होता है।
नीम और करंज को गोमूत्र में मिलाकर तैयार तरल कीटनाशी के छिड़काव से आम में कैंकर व्याधि का निवारण होता है।
केंचुआ खाद
निर्माण सामग्री:
पौधों के डंठल, पत्तियां, भूसा, गन्ने की खोई, खरपतवार, फूल, सब्जियों के छिलके, केले के पत्ते व तने, नारियल के पत्ते, जटाएं, पशुओं के मलमूत्र एवं बायोगैस सलरी आदि। शहरी कूड़ाकचरा, रसोई का कचरा, मण्डी का कचरा, फलफूलों को कचरा आदि एवं गोबर
निर्माण विधिः
किसी छायादार स्थान पर गड खोद लें। इस गड्ढे को तीन परतों से भरते हैं। पहली परत में 6 सेंटीमीटर तक मोटे बांस, बजरी, चारा, लकड़ी, नारियल, जूट आदि भरते हैं। दूसरी बीच की परत में 9 सेंटीमीटर ऊंचाई तक पुरानी खाद, सलरी, पुराना गोबर आदि भर देते हैं। ऊपरी परत में 30 सेंटीमीटर ऊंचाई तक 20 दिन पुराना नमीयुक्त गोबर, भूसा, हरे पत्ते, फलसब्जियों के छिलके व अन्य कचरा भर दिया जाता है। कभी भी गड्े में ताजा एवं गरम गोबर नहीं भरना चाहिए क्योंकि इसमें केंचुए जीवित नहीं रह पाते।
इस प्रकार 45 सेंटीमीटर अर्थात लगभग ड़े फीट तक कार्बनिक पदार्थ की बेड तैयार कर 25 से 30 किलो केंचुए इस गड्ढे में डाल दिए जाते हैं। यह केंचुए धीरेधीरे खाद की परत छोड़ते हुए नीचे की ओर ब़ते चलते हैं। केंचुओं द्वारा छोड़ी गई परत को एकत्रित कर अलग करते रहना चाहिए।
अब इस खाद का प्रयोग खेतों में करना चाहिए। इस खाद के प्रयोग से फलों, सब्जियों एवं अनाजों के स्वाद, आकार, रंग एवं उत्पादन में आश्चर्यजनक वृद्धि देखी गई है।

कीटनियंत्रक गोमूत्र
निर्माण सामग्री: 10 लीटर गोमूत्र एवं 2.5 किलोग्राम नीम की पत्ती, मिट्टी की नाद
निर्माण विधिः पक्की मिट्टी के नाद में अथवा किसी पात्र में 4050 दिन पुराना 10 लीटर गोमूत्र रखना चाहिए। इसमें ढाई किलोग्राम नीम की पत्ती को छोड़कर इसे 15 दिनों तक गोमूत्र में सड़ने दें। 15 दिन बाद इस गोमूत्र को छान लें। इस प्रकार प्रयोग के लिए कीटनियंत्रक गोमूत्र तैयार हो जाता है।
एक लीटर गोमूत्र को 10 लीटर जल में मिलाकर पौधों में छिड़काव करें। कीटनियंत्रक गोमूत्र बनाने की कुछ अन्य विधियां भी प्रचलित हैं। जैसे
कम से कम 4050 दिन पुराना 15 लीटर गोमूत्र को तांबे के बर्तन में रखकर 5 किलोग्राम धतूरे की पत्तियों एवं तने के
साथ उबालें। 7.5 लीटर गोमूत्र शेष रहने पर इसे आग से उतार कर ठंडा करें एवं छान लें।
मदार की 5 किलोग्राम पत्ती 15 लीटर गोमूत्र में उबालें। 7.5 लीटर मात्रा शेष रहने पर छान लें।
तंबाकू की 2.5 किलोग्राम पत्तियों को 10 लीटर गोमूत्र में उबालें और 5 लीटर मात्रा शेष रहने पर छान लें।
नीम की 15 किलो पत्तियों को 30 लीटर गोमूत्र में 10 लीटर मात्रा शेष रहने तक उबालें। ठंडाकर छान लें।
उपरोक्त छनित तरल गोमूत्र सामग्री को आपस में मिला दें। अब इसमें देसी साबुन की 500 ग्राम मात्रा 3 लीटर पानी में उबालकर, ठंडा होने के बाद मिला दें। इस प्रकार 33 लीटर कीटनियंत्रक घोल हमें प्राप्त हो जाता है। प्रत्येक 100 लीटर कीटनियंत्रक गोमूत्र प्राप्त करने के लिए इसमें परिस्थिति के अनुसार 25 से 30 गुना पानी मिश्रित कर प्रयोग करें। ध्यान रखें कि निर्माण प्रक्रिया तांबे के बर्तन में पूरी की जाए।
एक अन्य विधि भी है। इसमें 6 लीटर अचूक कीटनियंत्रक गोमूत्र बनाने के लिए निम्नांकित पदार्थों का प्रयोग करते हैं
गोमूत्र12 लीटर, नीम पत्ती2 किलोग्राम, धतूरा फल 10 नग, तम्बाकू100 ग्राम, नीम तेल500 मिलीग्राम, लहसुन50 ग्राम, हरसिंगार पत्ती100 ग्राम, भटकइया100 ग्राम।
उपरोक्त सामग्री को कूटपीसकर गोमूत्र में पकाएं। मात्रा आधी रह जाने पर उसे ठंडाकर छान लें। 1 लीटर घोल को 100 लीटर पानी में मिलाकर सुबहशाम फसल पर छिड़काव करें। यह कीट व बीमारी नाशक तो है ही, साथ ही यह पौधों का उत्तम आहार भी है।
कुछ अन्य कीटनियंत्रक
आम में पाए जाने वाले भुनगा कीट के नियंत्रण के लिए बिच्छु घास और गोमूत्र के मेल से प्रभावी कीटनियंत्रक तैयार होता है।
नीम और करंज को गोमूत्र में मिलाकर तैयार तरल कीटनाशी के छिड़काव से आम में कैंकर व्याधि का निवारण होता है।

Http://schemas.google.com/blogger/2008/kind#post

free stock photos cows eating grass

free stock photos cows eating grass photo for free download, we have thousands of free funny photos or high resolution images(photos) or free stock photos for free download. 29 more words

free stock photos cows eating grass

free stock photos cows eating grass photo for free download, we have thousands of free funny photos or high resolution images(photos) or free stock photos for free download. 29 more words