Tags » Dainik Bhaskar

हमारे पास गली कूचों से लेकर वाशिंगटन तक के प्रोडक्ट्स उपलब्ध

Dainik Bhaskar

एक बॉस जिससे कोई कर्मचारी खौफ नहीं खाता| क्यों? क्योकि आज तक उन्होंने किसी को निकला नहीं| उनके सहकर्मी उन्हें डीए के नाम से सम्बोधित करते हैं| जी हाँ, छोटा सा यही परिचय हैं ऑनलाइन कारोबार करने वाली कंपनी ‘इंडियामार्ट’ के संस्थापक 46 वर्षीय दिनेश अग्रवाल का| पेश है, उनसे संजीव कुमार झा की बातचीत के अंश…

Top Stories

Need to Increase Citizen Participation in Urban Ecology Projects

जयपुर की द्रव्यवती नदी, इंदौर की कान्ह नदी, लखनऊ की गोमती, चेन्नई की कूउम नदी जैसी कई नदी पूर्णद्धार परियोजनाएं भारत के शहरों को एक नई पहचान देने की और अग्रसर हैं|

Popular Media

Road to Solve Increasing Water Conflicts in India

पाकिस्तान के साथ सिंधु नदी जल विवाद को अगर भू-राजनीतिक दृष्टिकोण से परे देखें तो यह देश में चल रहे और कई जल स्रोतों से जुड़े विवादों में एक कड़ी ही होगा| 17 more words

India

असहमतियाँ इस दौर में - प्रसंग जोधपुर विश्वविद्यालय : हिमांशु पंड्या

Guest post by HIMANSHU PANDYA

1-2 फरवरी को अंग्रेज़ी विभाग द्वारा आयोजित संगोष्ठी में प्रो. निवेदिता मेनन के व्याख्यान के बाद जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय सुर्ख़ियों में है. 89 more words

Debates

||Jivan|| (LIFE)

 

मत सोच तू इतना ,आगे बढ़ता चला जा ,
उम्मीद को मत टूटने दे , आगे बढ़ता चला जा||

मेहनत-ए-पसीने से तू धरती को सींचता चला जा ,
फसल-ए-ख़ुशी से अपने जोश को बढाता चला जा ||

राह में रूकावट तो सब को मिलती है,
रूकावट से जीवन का अनुभव लेता जा ||

सरल जीवन से तू क्या कर पायेगा,
कठिनताओं से ही तू संभल पायेगा ||

इसलिए मरने से मत डरा कर,
जीवन को कठिन पथ की तरह ही माना कर ||

मत सोच तू इतना ,आगे बढ़ता चला जा ,
उम्मीद को मत टूटने दे , आगे बढ़ता चला जा||

Poetry

Indian Kabaddi : Nurture it, Propagate it.

It is very rightly said by someone that when success comes than you are the boss, but when it is not, than you have to be dictated by other’s terms and conditions till you achieved that level. 278 more words

Blog