Tags » Dalit

चंद्रशेखर रावण पर राष्ट्रीय सुरक्षा एक्ट लगाने पर पूरे भारत में विरोध करेगी- बेगमपुरा टाइगर फ़ोर्स

दलित आवाज होने के कारण, चन्दरशेखर रावण जेल में भुगत रहा अमानवीय यातनाएं

लुधियाना 17 सितंबर 2017 (बंगड़ )- बेगमपुरा टाइगर फ़ोर्स ने ब्राह्मणवादी सोच पर चलने वाली उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वारा, दलित और पिछड़े वर्ग के हितों की आवाज बुलंद करने वाले भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर रावण को सहारनपुर की जेल की सलाखों के पीछे झूठे केसों में फंसा कर बंद करने को लेकर, कड़े शब्दों में भर्तस्ना की है और उनकी आवाज को दबाने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा एक्ट लगाने की त्यारियों की पोल खोली । भीम आर्मी के चीफ शिव रावण से बीते दिनों में मुलाकात कर वापिस पहुंचे बेगमपुरा टाइगर फ़ोर्स के लुधियाना इकाई के प्रधान श्री धर्मपाल, अवतार मल्हन क़ानूनी सलाहकार, राकेश मूम सीनियर मीत प्रधान सहित कई आगुओं ने स्थानीय सर्किट हाउस में पत्रकार सम्मेलन में बताया कि दलित और दबे कुचले पिछड़े समाज की आवाज होने का ख़मयाज़ा, चंद्रशेखर को जेल की सलाखों के पीछे अमानवीय यातनाओ को सहन करके चुकाना पड़ रहा है। उन्होंने बताया की योगी सरकार एक समुदाय विशेष का वोट बैंक पक्का करने के लिए भीम आर्मी चीफ पर प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप में राष्ट्रीय सुरक्षा एक्ट की धाराएं लगाने के लिए कोर्ट में जमानत की अर्जी न लगाने के लिए मजबूर कर रही है। वहीँ सरकारी अधिकारी उन्हें दलितों और पिछड़े वर्ग पर होने वाले जबर जुल्म के खिलाफ आवाज उठाने से तौबा करने और भीम आर्मी को भंग करने के लिए दवाब बना रही है।
बेगमपुरा टाइगर फ़ोर्स के नुमाइन्दो ने भारत सरकार और योगी सरकार को दो टूक शब्दों में चेतावनी देते हुए कहा कि यदि चंद्रशेखर रावण पर अनैतिक तौर पर राष्ट्रीय सुरक्षा एक्ट लगाया गया तो फ़ोर्स , सम्पूर्ण भारत की समविचारक जथेबंदियों को साथ लेकर पूरे भारत में सख्त विरोध करेगी। इस मौके पर उपरोक्त के इलावा सर्वश्री देसराज चुंबर, मात्रा जस्सल, सती चुंबर, रविंदर रवि, देसराज कोहली, लखवीर मूम , गुरप्रीत राणा, भिंदा रत्तू, सुनील रत्तू, कृष्ण लाल, डॉ.सुरिंदर जक्खू, अजय, जसवीर काकोवाल सहित फ़ोर्स के कई आगू मौजूद थे ।

Punjab

पसमाँदा मुस्लिम समाज और संघर्ष के पन्ने

“डॉ० अयुब राईन ने क्षेत्र भ्रमण के दौरान मुस्लिम पसमाँदा समाज के समकालीन सच को जमा करके जहाँ एक तरफ अपने शोध में ये बताया है कि इन की मनोदशा, आर्थिक स्थिति, शैक्षणिक समर्थता और सामाजिक हैसियत दयनीय है वहीँ इन्हों ने इन ज़ातियों के इतिहास को खंगाल कर इन के पारम्परिक कार्य और हस्त-कला का वर्णन प्रस्तुत किया है | इसके साथ ही इन्हों ने गुमनाम एवं तुच्छ समझे जाने वाले जड़ों को तलाश करके इनके कला कौशल के वर्णन में दमन के इतिहास का उल्लेख किया है |” 18 more words

काला-कुत्ता

The Sunflower Epoch: Definitions of Dalit Before and After Ambedkar

This was meant to be submitted as a writing assignment at a place I attended for a while. That submission never happened but I rather like this, warts and all.  2,446 more words

Articles

Where identity ends and crisis begins

“Anitha suicide: Death of innocence busts NEET myth as the great leveller of India’s medical education” said the FirstPost. “Dalit girl S Anitha, who filed a case against NEET, commits suicide” said The Hindu. 696 more words

'Dr Anitha MBBS' and a Failing System

Hello fellow reader,

Unlike all of my film-related posts, this post deals with an issue of a political and sensitive nature. The recent death of the aspiring medic, Anitha sparked huge debates and controversy across India especially Tamil Nadu. 1,077 more words

#naritva

Indian State, Society and 'Public' Through the Lens of Panchkula Killings : Sanjay Kumar

Guest Post by Sanjay Kumar

Nearly forty people were killed last Friday (25th August) during public disturbances at Panchkula in Haryana after the CBI court verdict in the rape case of Gurmeet Ram-Rahim. 1,477 more words

Bad Ideas