Tags » Dirty Politics

Bitterness under the bus

Nicky guided a big bus over Whale Oil in 2014, and John key and National walked away. Cameron Slater is still bitter in a big way. 806 more words

General

सजन रे झूठ मत बोलो, पेट्रोल पंप पर जाना है

रिपोर्ट पढ़ने से पहले ये विडीओ ज़रूर देखें।

https://beinglouder.files.wordpress.com/2017/10/img_3838-trim.mov

क्या नसीब अचानक बदल गया है की आपको इतना देना पड़ रहा है।

पिछले नौ साल में अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में प्रति बैरल कच्चे तेल की कीमतों में 63 फीसदी की कमी आई है। इस दौरान मुंबई में पेट्रोल की कीमत में 43 फीसदी की वृद्धि हुई है। 11 more words

Dirty Politics

Imagine

Imagine you live in a small town.  Imagine your child’s school district is going in the toilet.  Imagine there is an election coming up for three new candidates for the School Board to be voted in by the community.  1,095 more words

DIRTY POLITICS

The definition of Zimbabwe is “dirty politics”. That is what we have been forced to be identified as by the constant heckling we perform in front of all the world to see. 473 more words

Dr David Mukwekwezeke

इवेंट पे इवेंट इवेंट पे इवेंट अबकी बार ईवेंट सरकार

असफल योजनाओं की सफल सरकार अबकी बार इवेंट सरकार इस नारे का क्रेडिट मुझे ही दीजिएगा राहुल गांधी का नारा नही है ।मोदी सरकार ने हमें अनगिनत ईवेंट दिए हैं। जब तक कोई ईवेंट याद आता है कि अरे हां वो भी तो था उसका क्या हुआ तब तक नया ईवेंट आ जाता है। सवाल पूछकर निराश होने का मौका ही नहीं मिलता। फिर भी ईमानदारी से देखेंगे कि जितने भी ईवेंट लांच हुए हैं, उनमें से ज़्यादातर फेल हुए हैं। बहुतों के पूरा होने का डेट 2019 की जगह 2022 कर दिया गया है। ठीक है कि विपक्ष नहीं है, 2019 में मोदी जी ही जीतेंगे, शुभकामनाएं, इन दो बातों को छोड़ कर तमाम ईवेंट का हिसाब करेंगे तो लगेगा कि मोदी सरकार अनेक असफल योजनाओं की सफल सरकार है। इस लाइन को दो बार पढ़िये। एक बार में समझ नहीं आएगा।

नीचे कुछ इवेंट लिख रहा हूँ जो एक के बाद एक लॉंच किए गये है आप पहले के बारे में कुछ सोच पाते की सफल हुआ या नही उस से पहले दूसरा इवेंट आपकी थाली में परोस दिया जाता है

2014 में देश भर से लोहा जमा किया गया कि सरदार पटेल की मूर्ति बनेगी। सबसे ऊंची। 2014 से 17 आ गया। 17 भी बीत रहा है। लगता है इसे भी 2022 के खाते में शिफ्ट कर दिया गया है। इसके लिए तो बजट में कई सौ करोड़ का प्रावधान किया गया।

मेक इन इंडिया का विज्ञापन अब टी॰वी॰ पे आना बंद हो गया है ये इवेंट थोड़ा सफल इवेंट था बड़ी कंपनियो को फ़ायदा हुआ है लेकिन छोटे बिज़्नेस वालों को कोई लाभ प्राप्त नही हुआ एक ऐपल को छोड़ के किसी और बड़ी कम्पनी ने निवेश नही किया लेकिन ये एक फिर भी थोड़ा बहुत सफल इवेंट था जबकि मेक इन इंडिया के बाद भी मैन्यूफैक्चरिंग का अब तक का सबसे रिकार्ड ख़राब है सोर्स बिज़्नेस स्टैंडर्ड अख़बार

स्मार्ट सिटी क्या कोई स्मार्ट सिटी बनी ये भी एक फ़्लॉप इवेंट था अब स्मार्ट सिटी का मतलब बदल दिया गया है. इसे डस्टबिन लगाने, बिजली का खंभा लगाने, वाई फाई लगाने तक सीमित कर दिया गया।

एक इवेंट गाँव वालों के लिए भी लॉंच हुआ था आप भूल गये होगे लाल किले से सांसद आदर्श ग्राम योजना का एलान हुआ था कोई ग्राम आदर्श नहीं बना अगर बना होता तो सरकार विज्ञान के ज़रिए आपको ज़रूर बताती लाल किले की घोषणा का भी कोई मोल नहीं रहा।

स्वच्छता अभियान का क्या हाल है आप ख़ुद जानते है ये भी धूम धाम से लॉंच हुआ था अपने नज़दिकी रेल्वे स्टेशन पर जाकर देख लीजिए।

एक इवेंट गंगा के नाम पर भाई लोगों ने लॉंच कर दिया गूगल किया तो पता लगा 7000 करोड़ ख़र्च हुए है अभी तक गंगा सफ़ाई में ये नही बताया कीं कहा से कहा तक गंगा की इस पैसे से सफ़ाई हुई है ये बताने से एक्स्पोज़े हो सकते है इस लिए सिर्फ़ पैसा बताया है जो ख़र्च हुआ है गंगा के किस हिस्से पर ख़र्च किया गया वो नही बताया इकीसवी सदी में तो गंगा साफ़ होने से रही ये मैं और आप दोनो जानते है गंगा नहीं नहा सके तो जल ही छिड़क लीजिए जजमान। ये 7000 करोड़ कहां ख़र्च हुए कोई सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगा था क्या? या सारा पैसा जागरूकता अभियान में ही फूंक दिया गया? आप इंदीयन इक्स्प्रेस की रवपोर्ट जो मैंने गूगल पर पढ़ी है उसको पढ़ेंगे तो शर्मआएगी। गंगा से भी कोई छल कर सकता है?

क्या स्टार्ट अप इंडिया भी बोगस निकला दस हज़ार करोड़ का फंड बनाने का एलान किया था इस दस हज़ार करोड़ में से मात्र 62 स्टार्ट अप को मात्र 70 करोड़ का फंड दिया गया है सोर्स इंडियन एक्सप्रेस स्टार्टप इंडिया मंशा अच्छी थी। बिल्कुल अच्छी थी। मगर नतीजा क्या निकला कुछ नही।

नोटेबंदी सबसे बड़ा इवेंट था जिस से हुआ ये की आरबीआई को 5000 करोड़ का घाटा हुआ और देश को 2.5 लाख करोड़ का ये ख़बर तो सभी अंग्रेज़ी अख़बारों ने छपी है लेकिन ये देश का दुर्भाग्य है की हिंदी अख़बार नही छाप रहे ।

लोग नोटबंदी पर कुछ सवाल कर पाते उस से पहले जीएसटी को आधी रात को संसद में एक इवेंट के रूप में लॉंच कर दिया हिंदी अख़बारों ने नोटबंदी की नाकामी को बुलिट ट्रेन के इवेंट से ढक दिया ।

मैं सारे इवेंट नही लिख सकता मेन मेन जो थे लिख दिए है जो समझना चाहता हूँ वो समझिए मोदी सरकार ने हमें अनगिनत ईवेंट दिए हैं। जब तक कोई ईवेंट याद आता है कि अरे हां, वो भी तो था,उसका क्या हुआ, तब तक नया ईवेंट आ जाता है। सवाल पूछकर निराश होने का मौका ही नहीं मिलता ये लाइन दोबारा इस लिए लिखे है ताकि आप पैटर्न समझ सके इसलिए ये ईवेंट सरकार है। आपको ईवेंट चाहिए ईवेंट मिलेगा।

Dirty Politics

Time to pasteurize

McCain comes out against ObamaCare overhaul, dealing blow to GOP’s repeal hopes

Sen. John McCain announced his opposition Friday to Republican colleagues’ last-ditch ObamaCare overhaul bill, dealing a major blow to GOP leaders’ push to pass repeal legislation under President Trump. 710 more words

Politics