Tags » Discoverwp

THERE'S SOMETHING ABOUT YOU

By Charles Robert Lindholm

there’s something about you
that even a blind man can see
there’s a joy in your soul
that even the deaf can hear 63 more words

Poetry

The Forsaken

Between one bad decision

And another

She learnt to survive

Through one disaster

After another

She learnt to move on

From one heartbreak

To another… 23 more words

DiscoverWP

TO THE LOVER OF MY SOUL

By Charles Robert Lindholm

 My Dearest Darling-The Lover of My Soul,

As I sit here writing to You after all the intervening years since our time together I am still so amazed and thankful that my memories of You and Us are as vivid as the day we made them.  848 more words

Poetry

The Cabbie and the Barkeep

The true measure of a man

Might forever remain a mystery

But to measure the depth

Of human misery

One needn’t look any further than… 45 more words

DiscoverWP

ऐसे बच्चे देश का गौरव हैं

हरियाणा में सरकारी विद्यालयों का समय प्रातः 8:00 बजे से लेकर दोपहर 2:30 बजे तक है। आज प्रार्थना सभा की गतिविधियों के बाद हम अपने कक्षा कक्ष में जाने की तैयारी कर रहे थे तभी मैंने मुख्य द्वार से ग्यारहवीं कक्षा के एक विद्यार्थी को आते हुए देखा। मैंने विद्यार्थी को रोककर उसके लेट आने का कारण जानना चाहा ।विद्यार्थी ने बताया कि वह अमूल मिल्क बूथ पर नौकरी करता है । वह सुबह 5:00 बजे अमूल मिल्क बूथ पर जाता है और वहां से दूध आदि वितरित करके 7:40 पर घर आता है ।उसके बाद वह तैयार होकर स्कूल आता है। कई बार पीछे से ही दूध लेट आता है तो उसे स्कूल आने में देर हो हो जाती है। इस काम के एवज में उसे मिल्क बूथ से ₹4000 महीना मिलता है जिसमें से वह अपना पढ़ाई का खर्च भी निकालता है और अपने परिवार को आर्थिक सहायता भी देता है। समाज में ऐसे अनेक बच्चे हैं जो प्रातः कोई ना कोई पार्ट टाइम जॉब करते हैं और जिनमें पढ़ने की लगन भी है। किशोरावस्था के ये बच्चे समाज के मजबूत स्तंभ हैं जिन्होंने इस कच्ची उम्र में खुद अपने पैरों पर भी खड़ा होना सीख लिया है और अपने परिवार का संबल भी बने हुए हैं। ऐसे बच्चों के प्रोत्साहन के लिए निश्चित तौर पर विद्यालय स्तर पर कुछ ऐसी योजनाएं होनी चाहिएं जिनसे बच्चे वहीं पढ़ाई के साथ साथ कमा भी सकें। इससे बच्चों का श्रम और वक्त भी बच जाएगा और वे अपने करियर पर ज्यादा ध्यान दे सकेंगे।

Blogging