Tags » Feelings

Street people

A failure of society

To care for those in need

Who fall through the cracks of life.

Spirituality

"Blog Mail"

All my followed blogs, emails on my own blog, notifications of new followers all went into one of my most used email accounts- the one I relegated for newsletters etc. 124 more words

Feelings

Responsive People

1. People are always about to response.

They here to reply. They are filled with emotions and thoughts.
2. Maun is one who is empty inside. 177 more words

Thoughts

Green Impression 

Painted with poster colours and displays Green impression.

Art

You Still Care !!

BY : TANUSHREE

You said you never loved him,
Then why do you always talk about him?

You said you don’t want to listen his name, 29 more words

Sentiments

A Love Letter To My 23-Year Old Self

Dear Kristine,

It has been a long and tough journey, hasn’t it? You almost gave up on your challenges just because you were afraid that if you continue to fight, you would get defeated. 513 more words

Life

~ चाहत ~

तुम्हें चाहना तो मना था,

और पाना  जैसे ग़ुनाह ।  

फ़िर,

न चाह  कर भी  चाह  लिया ,

न जाने ऐसा क्यों हुआ !

 

ज़िन्दगी इक ओर खींचती ,

और तुम खींचते इक ओर ,

बावली हो पड़ती मैं,

कि बह जाऊँ किस छोर। 

 

तुमसे ऊपर ज़िन्दगी को चुना ,

लगा आसान है। 

कहाँ मालूम मुझे,

मेरी बेपरवाह रूह बेईमान है !

 

न चाहकर भी तुम्हें चाहती ,

फ़िर ख़ुद को इसकी सज़ा सुनाती। 

उस  सज़ा के चार पल में भी,

तुम्हारे ज़िक्र का  दो लम्हां  चुरा लेती। 

 

मैं तुमसे प्यार न करूँ,

इसलिए खुद से लड़ लेती,

तुम मुझसे चाहत न रखो 

इसलिए  तुमसे भी झगड़ लेती … 

 

अपने आप से इस जंग में,

थक गयी, हार गयी मैं !

 

तुमसे परे कभी कहीं-कहीं …

में अपनी  ख़ुशी जब खोज लेती ,

“तुम माईने ही नहीं रखते,

ये खुद को साबित कर लेती”

 

माईने अगर तुम रखते नहीं ,

तो में किससे क्या साबित कर रही हूँ !?!

मेरे ज़हन में तुम्हारे ख़याल को मारती,

मैं क़तरा क़तरा मर रही हूँ। 

 

न जाने तुम्हें भूलने की चाहत में ,

में अपनी राहत खो बैठी,

सौ नुक़्स  निकाल लिए तुममें,

सौ गलतियाँ भी ढूँढ बैठी….

 

फ़िर  पता नहीं क्यूँ… 

आख़िर ,

उन गलतियों पर भी मुझे प्यार आया ! 

 

PS' Poetic Pen