Tags » Female Foeticide

female foeticide

when a girl is born no happiness or love is shown.This happens specifically in the asian countries where women are not equally treated  till now and that is because we are just a part of “male dominant society”.People have a mindset that women are just meant for household chores .The life of a girl always depends on the decisions taken by her peers or kins she is not given a choice to take her own decisions this is only because she is a girl and is only meant to marry a rich guy who will chosen by her family members once she grows up.The struggle of a girl child starts from the very first day she enters her mother’s womb and there is always a fear of death as to people always think that girls are a liability on the shoulders of their parents.There are times when a female child is aborted in the body of her mother due to the obsession of a male child. 15 more words

Female Foeticide

Rebel with a Cause

Aakash, a Lawyer by my profession and a Cyclist by Passion. Its been 4 years since he has been cycling, and it has helped him in all the phases that he has been through. 378 more words

Biking Diaries

अब मैं वो औरत नहीं

कृति त्रिपाठी

 

जिस शरीर से निकले

उसी पर गालियाँ बना दी,

ज़ेवर का स्वांग रचकर

मेरे हाथों में बेडियां पहना दी।

सर से लेकर पैर तक

लगती हूँ तुम्हारी जायदाद,

मांग में सिन्दूर,

गले में मंगलसूत्र,

हाथ में चूड़ियां,

आँखों का काजल,

साडी का आँचल,

सब सुनाते हैं तुम्हारे दास होने की दास्तान।

और तुम तो वैसे ही हो जैसे आए थे,

क्यों नहीं तुम पहनते पैरों में पायल?

क्यों नहीं तुम माथे पर बिंदी लगाते?

क्यों अपने शादीशुदा होने का अस्तित्व छुपाते?

कैसे डालोगे पैरों में घुंघरू

तुम मालिक जो ठहरे,

जो सोचता है कि औरत उसके पैर कि जूती है,

तो लो ये जूती अब तुम्हारे पैरों को नकारती है।

डाल कर तो देखो

पैर कस जाएंगे,

अब तुम्हारी गुलामी का नाच हम नहीं दिखलायेंगे।

जिस जिस्म पर तुम वार करते हो,

वो कभी तुम्हारा घर था।

जिस घर की दीवारों की कैद से,

मैंने तुम्हें इस संसार में पहुँचाया,

तुम्हें लगा कि तुम मुझे उनमे कैद कर डालोगे?

मानते हो कि औरत के भगवान् हो,

जन्म तो मैंने वैसे इन्सान को दिया था,

लेकिन फिलहाल तुम हैवान हो।

अब मैं वो औरत नहीं,

जो निकाह के नाम पर तुम्हारी गुलाम बन जाएगी।

अब मैं वो औरत नहीं,

जो शाम को तुम्हारे लिए रोटी पकाएगी।

अब मैं वो औरत नहीं,

जो रात को तुम्हारे पैर दबाएगी।

अब मैं वो औरत नहीं,

जो तुम्हारे फरेब को सच मान जाएगी।

अब मैं वो औरत नहीं,

जो तुम्हारी भद्दी गालियाँ सुन जाएगी।

अब मैं वो औरत नहीं,

जो वंश के नाम पर बेटी गिराएगी।

अब मैं वो औरत नहीं,

जो दहेज़ के नाम पर खुद को जलवाएगी।

अब मैं वो औरत नहीं,

जो पति परमेश्वर की चिता पर जिंदा लेट जाएगी।

अब मैं वो औरत नहीं,

जो तुम्हारी घिनौनी तानाशाही के तले दब जाएगी।

मैं वो औरत हूँ

जो पित्र सत्ता के इस भरे बाज़ार में,

हैवानों को नीलाम कर जाएगी।

F for Fan #AtoZChallenge

The story has been published as part of my book available on Amazon

My Blog Posts

एक नन्ही परी (कन्या भ्रुण हत्या पर आधारित मार्मिक कहानी )A story on female foeticide

MP village infamous for foeticide to marry off daughter after 40 yearsINDIA Updated: Feb 26, 2017 10:33 IST
Hindustan Times, Bhind

After 40 years, Gumara village in Bhind district of Madhya Pradesh will witness the marriage of a girl born there.The long wait is due to the cruel fact that the villagers did not allow a girl child to survive as they either killed it in the womb or soon after the birth. 84 more words

I Love You

She: “I love you so much. I love the way you sing to me when I am not able to sleep. I love how you touch me with your strong and rigid hands, yet always careful not to harm me. 852 more words

Short Stories

Were you not a girl, Mamma?

This is the first article/story I ever wrote which was published during my initial college days and hence it is very dear to me apart from various other reasons. 947 more words

Women -as We Are!