Tags » Gujrat

बुलेट ट्रेन और भारत

नमस्कार मित्रो

बुरा मत मानियेगा ! एक विचार प्रस्तुत कर रहा हूँ! बुलेट ट्रेन का आना वाकई में बहुत अच्छी बात है ! बीजेपी ने अपना वादा निभाया ! या यूं कहें कि सबसे आसान वादा! क्योंकि वादे तो बहुत किये गए थे और बहुत पुराने वादे भी थे ! जो कि बहुत कठिन थे ! राम मंदिर की तो अब कोई बात करता ही नही है कूकी भगवान बदल गए है किसी भक्त राम मंदिर के बारे में पूछ लो तो वो खिसिया जाता है ! इसलिए राम मंदिर की बात नही करेंगे यहां इस पोस्ट में ! कश्मीरी पंडितों को बसाने का वायदा था तथा कश्मीर से विशेष धारा हटवाने का भी लेकिन यूसके लिये बहुमत चाहिए राज्यसभा में बहुमत चाहिये लोकसभा में बहुमत चाहिए नगरपालिका में और बच्चो के स्कूल का क्लास मॉनिटर बीजेपी का हो तो बात बनेगी !चलो कोई बात नही बहुमत नही है कम से कम राष्ट्रपति तो अपना बनवा ही दिया काले धन का सबको पता ही है ! काला धन किसी के पास है नही ! मोदी जी चुनावो के वक्त जिन्हें “दामाद जी” कहते थे इशारों में उनके पास भी नही! दस एकड़ खेत मे 1100 करोड़ की खेती करने वाले किसान शरद पवार के पास तो ही नही सकता क्योंकि साहेब ने इसी 26 जनवरी 2017 को उनको पदम पुरस्कार दिया है ! काला धन है किसके पास ये सोचने वाली बात है ! इसीलिए आप सभी के बैंक खाते आधार से फिर उसके बाद पैन कार्ड आधार से फिर मोबाइल नंबर आधार से लिंक हो रहा है ताकि जनता चोरी ना कर पाये! बाकी शरद पवारजैसे तो पदम भूषण है! बांग्लादेशी ओ को वापस भेजने की बात बाद में करेंगे ! 😉
दोस्तो सरकार के लिए सबसे आसान काम था बुलेट ट्रेन , वो उधारी वाली ट्रेन आ गई है ! किसी तरह की कोई मगजमारी नही ,उधार लो और बुलेट ट्रेन चला दो ! सारा पैसा तो जनता को ही भरना है ! सरकार उधारी लेकर बुलेट चलवा रही है और आम आदमी उधारी लेकर उसमे बैठेगा !

धन्यवाद !!

BJP

मस्जिद में मोदी-शिंज़ो पहुंचे, आखिर वो क्यों है ख़ास?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस बार जापान के प्रधानमंत्री शिंज़ो आबे की मेज़बानी गुजरात के अहमदाबाद में किए।जापानी मेहमानों के लिए यहां के बुटीक हेरीटेज होटल हाउस ऑफ़ मंगलदास गिरधरदास में ख़ास डिनर का आयोजन किया गया। साल 1924 में बना हाउस एक रईस कपड़ा कारोबारी का घर हुआ करता था जिसे बाद में होटल में बदल दिया गया था। लेकिन इससे पहले मोदी और आबे करीब मौजूद सिदी सईद मस्जिद में गए। ज़ाहिर है, अगर प्रधानमंत्री ने आबे के कार्यक्रम में इस मस्जिद को शामिल किया। तो इसमें ज़रूर कोई ना कोई ख़ास बात होगी।

इसका नाम इसे बनाने वाले पर रखा गया है। सिदी सईद यमन से आए थे और उन्होंने सुल्तान नसीरुद्दीन महमूद III और सुल्तान मुज़फ़्फ़र शाह III के दरबार में काम किया। गुजरात के पर्यटन विभाग के मुताबिक शहर के नेहरू पुल के पूर्वी छोर पर बनी इस मस्जिद का निर्माण साल 1573 में हुआ था और ये मुग़ल काल में अहमदाबाद में बनी सबसे बड़ी मस्जिदों में से एक है। इसकी पश्चिमी दीवार की खिड़कियों पर उकेरी गई जालियां पूरी दुनिया में मशहूर है। एक-दूसरे से लिपटी शाखाओं वाले पेड़ को दिखाती ये नक्काशी पत्थर से तैयार की गई है।

हालांकि ये जामा मस्जिद से काफ़ी छोटी है और इसके बीचों बीच खुली जगह का अभाव भी है, लेकिन नक्काशी के मामले में ये दुनिया की शीर्ष मस्जिदों में शुमार होती हैं। इसे सिदी सईद की जाली भी कहते हैं और ये अहमदाबाद के लाल दरवाज़ा के करीब ही मौजूद है। गुजरात के इतिहासकार डॉ रिज़वान क़ादरी के अनुसार जो लोग अफ़्रीका से भारत आए थे उन्हें सिदी कहा जाता है। ये लोग शुरुआत में गुलाम बनकर आए थे लेकिन बाद में ताक़तवर होते गए।

ख़ास बात ये है कि इस मस्जिद को बनाने वाले सिदी सईद को बादशाह अकबर ने अमीरुल हज बनाकर भेजा था।मस्जिद का काम चल ही रहा था, लेकिन साल 1583 में सिदी का इंतक़ाल हो गया और इसका निर्माण अधूरा रह गया। और मस्जिद आज भी उसी हाल में है। क़ादरी ने बताया कि सिदी को इसी मस्जिद के अंदर दफ़्न किया गया हालांकि यहां कोई मकबरा नहीं है। मस्जिद में ना मीनारे हैं और ना ही ये स्थापत्य कला की वजह से विख्यात है।

फिर ऐसा क्या है जो सभी इस मस्जिद के दीवाने हैं. मस्जिद की ख़ूबी इसकी जाली है, क्योंकि अहदमाबाद में इस जाली की ख़ास अहमीयत है। इतिहासकार बताते हैं कि जहांगीर जैसे मुग़ल बादशाह ने अहमदाबाद को गर्दाबाद (धूल-गुबार का शहर) कहा लेकिन ये मस्जिद इस शहर की पहचान समेटे है। इस जाली की तारीफ़ ये है कि वन पीस नहीं है। क़ादरी ने बताया कि इसे छोटे-छोटे पीस से जोड़कर बनाया गया है।

नौ बाई दस आकार की ये जाली दूर से वन पीस लगती है। ये जाली अहमदाबाद की पहचान है. यहां तक कि आईआईएम अहमदाबाद के प्रतीक में भी ये जाली नज़र आती है।ऐसा कहा जाता कि मराठी शासन में इस मस्जिद को अस्तबल के रूप में इस्तेमाल किया गया। लेकिन अंग्रेज़ों के दौर में लॉर्ड कर्ज़न के नया कानून लाने के बाद इसे सहेजने की प्रक्रिया शुरू हुई। क़ादरी के मुताबिक रूस के आख़िरी क्राउन प्रिंस हो या फिर साल 1969 में ब्रिटने की महारानी एलिज़ाबेथ के साथ प्रिंस, सभी इस मस्जिद को लेकर दीवाने रहे हैं।

प्रिंस को जब सिल्वर मोमेंटो दिया गया, तो उस पर उन्होंने उकेरी हुई जाली देखी। जब इसके बारे में पूछा तो उन्हें बताया गया कि ये सिदी सईद मस्जिद की जाली है। बताया जाता है कि इसे देखने के लिए वो साबरमती आश्रम से देखने अहमदाबाद आए थे। इतिहासकारों के मुताबिक सिदी मुसलमानों की बात करें तो इस मस्जिद के अलावा सिदी बशीर की मस्जिद भी अहमदाबाद की विरासत में शामिल है।

यहां अब सिर्फ़ मीनारें रह गई हैं और इसे झूलती मीनार कहा जाता है।

ශ්‍රී ලංකාවේදී පිහිනුම් තටාකයේ ගිලී ඉන්දියානු ක්‍රිකට් ක්‍රීඩකයෙකු මරුට

hotPEPPER

ශ්‍රී ලංකා සංචාරයක් අතරතුරදී දියේ ගිලීමෙන් 12 හැවිරිදි ඉන්දියානු ක්‍රිකට් ක්‍රීඩකයෙකු මිය ගොස් ඇත.

මෙසේ මරණයට පත් වී ඇත්තේ සංචාරක ගුජරාට වයස අවුරුදු 17න් පහළ කණ්ඩායමක සාමාජිකයෙකු වන අතර කණ්ඩායම ලැගුම් ගෙන සිටි පමුණුගම ප්‍රදේශයේ පිහිටි හෝටලයක පිහිනුම් තටාකයේ ගිලීමෙන් මෙම අවාසනාවන්ත ඉරණම මෙම ලාබාල ක්‍රීඩකයාට අත් වී තිබේ.

හෝටලයේ කාර්යය මණ්ඩලය ඇතුළු පිරිසක් විසින් අනතුරට ලක් වූ ක්‍රීඩකයා වහාම ළඟම රෝහල වෙත ගෙන ගියද ඔහු ඒ වන විටත් මිය ගොස් සිට ඇත.

ශ්‍රී ලංකාවේදී පැවැත්වෙන වයස අවුරුදු 17න් පහල තරගාවලියකට සහභාගි වීමට ක්‍රීඩකයින් 19 දෙනෙකුගෙන් සමන්විත මෙම කණ්ඩායම පැමිණ ඇත.

පමුණුගම පොලිසිය මේ වන විට අවාසනාවන්ත ඛේදවාචකය පිළිබඳ පරීක්ෂණ සිදු කරන අතර ඊට අදාලව පශ්චාත් මරණ පරීක්ෂණය ඊයෙ (බදාදා) දිනයේදී සිදු කරන ලදී.

Sport

बोले राहुल- गुजरात में केवल उसी को दूंगा ट‍िकट जो बीजेपी, आरएसएस से लड़ा हो

गुजरात(न्यूज़ इंडिया नाउ):गुजरात में जल्दी ही विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। वहीं इन चुनावों में कांग्रेस पार्टी ने पूरी कमर कस ली है। सोमवार को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि जो भी पार्टी का सच्चा कार्यकर्ता होगा उसे टिकट दिया जाएगा जो कि भारतीय जनता पार्टी और उसकी विचारधारा वाले राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ से लड़ा हो। राहुल गांधी ने यह बात पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए एक कार्यक्रम में कही। इसके साथ ही राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर हमला बोलते हुए मोदी विकास मॉडल को फेल करार दिया। राहुल ने दावा किया कि गुजरात में मोदी का विकास मॉडल पूरी तरह से फेल हुआ है। साबरमती रिवरफ्रंट पर पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए राहुल ने एनडीए पर निशाना साधते हुए नोटबंदी से लेकर बेरोजगार तक के मुद्दों को उठाया।

राहलु ने कहा कि जो भी बीजेपी और आरएसएस से लड़ा होगा उसी सच्चे कार्यकर्ता को गुजरात विधानसभा का टिकट दिया जाएगा। इसके साथ ही राहुल ने कहा कि जिसने हाल ही में पार्टी को नीचे गिराया है उन्हें कतई भी पार्टी द्वारा टिकट नहीं जाएगा। यह बात राहुल गांधी ने पार्टी के कार्यकर्ता सतीश पांडे के एक सवाल पर कहीं जिसने कांग्रेस पर आरोप लगाया था कि पार्टी केवल पैसे वाले और बलवान लोगों को ही टिकट देती है। संवाद से बातचीत के दौरान राहुल गांधी ने नोटबंदी, जीएसटी, बेराजगारी, किसानों की आत्महत्या, गरीबी, शिक्षा और स्वास्थ्य संबंधी सवाल उठाते हुए मोदी और बीजेपी पर निशाना साधा।

राज्ये

Final stage of Blue Whale Challenge said Gujarat boy before jumping of a bridge

Ashok Mulana from Gujarat killed himself before posting a video on Facebook in which he said he was completing the Blue Whale Challenge.

 Read more

Vicky Nanjappa