Tags » Haryana

इंडिया की वंडर गर्ल

किसी लड़की की 13 साल उम्र उसके बचपन को जीने की होती है लेकिन हरियाणा में एक ऐसी बच्ची है जो 13 साल की उम्र में काफी चौकाने वाला काम कर चुकी हैं।हम बात कर रहे है हरियाणा के समालखा के मालपुर गांव में रहने वाली जाह्नवी पवार की ।जान्हवी ने महज 13 साल में 12 वीं क्लास पास कर लिया हैं और इतनी कम उम्र में इसने हिंदी, हरियाणवी, ब्रिटिश,अमेरिकन,फ्रेंच,जापानी,कैनेडियन,अरबी,ऑस्ट्रेलियन और पोरस इत्यादि भाषाएं सीख रखी हैं।जाह्नवी टीवी एंकर की तरह न्यूज़ भी पढ़ लेती है वो चाहे अमेरिकन हो या ब्रिटिश ।9साल की उम्र में अमेरिकन और ब्रिटिश भाषा सीख ली थी।Courtesy: youtubeजान्हवी के पिता ब्रजमोहन पावर प्राइमरी स्कूल में शिक्षक हैं वो कहते है कि मेरी बेटी को महज 1 साल में ही हर चीज़ को जाने व समझने की इच्छा बहुत थी वह मुझसे हर समय सवाल पूछती रहती थी उसके इसी उत्साह को देखर मैंने उसे हर जवाब इंग्लिश में देना शुरू कर दिया ।जाह्नवी उस शब्द को रोज याद करती और धीरे- धीरे वह शब्द एक वाक्य बन गया और वो इंग्लिश बोलना सीख गई। बीबीसी न्यूज़ और इंटरनेट पर वीडियो देख -देखकर उसने एक्सेंट सीख लिया ।अब वह काफी स्कूल और आईएएस ट्रेनिंग एकेडमी में स्पीच देती हैं।courtesy: youtube…

46 more words

22 Days,16 Lakh and 7 year old dengue patient child dies..

Medanta hospital in Gurgaon has allegedly charged a whopping Rs. 16 lakh for treatment of a seven-year-old boy. This comes days after Fortis hospital in Gurugram had reportedly charged huge amounts from a dengue patient there. 900 more words

Fortis-Dengue-Case

सेवा के मंदिर नहीं व्यापारियों की पांच सितारा दुकान है बड़े निजी हस्पताल !!

एक समय था जब डॉक्टर को भगवान और हस्पतालों को सेवा के मन्दिरों का दर्जा प्राप्त होता है. बहुत सारे ऐसे उदाहरण आप अपने दादा/दादी, नाना/नानी, माता/पिता से भी सुन सकते हैं जब गाँव में कोई डॉक्टर आता था तो गाँव के लोग उन्हें भगवान के बराबर मान सम्मान देते थे.  कुछ लोग अपनों की जान बच जाने पर डॉक्टर के पैर छूने तक के भी किस्से सुना सकते है. शायद आज भी डॉक्टरों से फीस को लेकर मोल भाव करना अशोभनीय ही समझा जाता है.

परन्तु अब वो समय नहीं रहा, आज लगभग सब बड़े निजी हस्पताल देश के बड़े व्यापारीयों की पांच सितारा दुकान बन गए हैं. हर दुसरे दिन हम सबको कोई ना कोई बुरी खबर सुनने को मिल जाती है कि उस हस्पताल की लापरवाही की वजह से मरीज की जान चली गई,  उस हस्पताल में डॉक्टर ने मरीजों के ऑपरेशन में की कोताही बरती…आदि आदि.

हाल में दो ऐसे खौफनाक वाक्या सामने ऐसे हैं जिन्होंने इंसानियत की चूलें हिला दी है. ऐसा नहीं है कि ये मामले पहले और आखरी हैं परन्तु सोचने पर मजबूर कर रहे हैं की आखिर कब तक ऐसा चलता रहेगा….आखिर कौन इस सिस्टम को बदलने के लिए कदम उठाएगा….आखिर कब भगवान की छवि बनाये हुए डॉक्टर अपनी खोयी हुई प्रतिष्ठा बचाने के लिए सामने आयेंगे.

पहला मामला दिल्ली के मैक्स हस्पताल का है, 30 नवंबर को दिल्ली के शालीमार बाग के मैक्स अस्पताल में एक 22 हफ़्ते के नवजात को मृत बताकर दे दिया गया था लेकिन शमशान ले जाते समय उस बच्चे की धड़कन चल रही थी जिससे पता चला कि बच्चा जीवित है. हालांकि अगले बुधवार को उस बच्चे ने पीतमपुरा के अस्पताल में हफ्ते भर वेंटीलेटर पर रहने के बाद दम तोड़ दिया.  बात प्री-मचौर बच्चे को बचा पाने की कोशिशों से परे जीवित बच्चे को मृत घोषित करने की है, क्या दूसरा बच्चा भी कुछ इसी हालत में रहा होगा की उसके बचाया जा सकता था? क्या डॉक्टर की टीम में जरूरी जांच किये बैगर ही बच्चों को मृत घोषित क्र दिया? कहाँ गयी डॉक्टर रूपी भगवान की इंसानियत? इसका दर्द उन माँ-बाप से पूछिए जिन्होंने उन बच्चों जन्म दिया था.

दुसरा मामला हरियाणा के फोर्टिस हस्पताल का है, आद्या को 31 सितंबर को अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था और 14 सितंबर को मौत हो गई थी. अस्‍पताल ने बच्‍ची के पिता को (15.5 लाख रुपये) 717% ज्‍यादा का बिल दिया था. इतना ही नहीं छोटी लड़की को दी गई दवाओं पर 108 प्रतिशत प्रॉफिट कमाया है. इसमें 2700 दस्ताने और 15 दिन में बच्ची को लगाये 660 सिरींज भी शामिल हैं.  उसके बाद बेशर्मी की हद तब हो गयी जब आद्या के पिता जयंत सिंह ने बताया कि फोर्टिस अस्‍पताल के वरिष्‍ठ अधिकारी उनके घर पर आए थे. उन अधिकारियों ने अस्‍पताल को बिल के लिए दिए पूरे पैसे वापस करने के साथ 25 लाख रुपये अलग से देने का ऑफर दिया था. पांच सितारा दुकान के मालिक एक बाप को खरीदने के लिए आये थे और उसकी मरी हुई बेटी की कीमत25 लाख लगारहे थे …इससे शर्मनाक ओर क्या हो सकता है?

मेरे हिसाब से अब समय आ गया है जनता को भी इन पांच सितारा दुकानों के खिलाफ खड़ा होना पड़ेगा और सरकारों को भी सरकारी हस्पतालों की तरफ ध्यान देना होगा और ये पांच सितारा दुकानें बंद करवानी होंगी. सरकारें ये काम तब ही करेंगीं जब हम और आप बोलेंगें वरना इन नेताओं का हिस्सा होता है इन दुकानों में और दोस्ती होती है इनके दुकानदारों से. अगर आज हम और आप नहीं बोले तो कल ये हादसा हमारे और आपके बच्चों के साथ भी हो सकता है और तब भी कोई नहीं बोलेगा.

#जयहिंद #जयभारत

Haryana

Diesel Gensets Trend Expected to Guide Market from 2017-2022: Growth Analysis by Manufacturers

Diesel Gensets market report provide emerging opportunities in the market and the future impact of major drivers and challenges and, support decision makers in making cost-effective business decisions. 116 more words

Earthquake in north India

Just before 7 mins at 9.10pm ,

Tremors were felt in north india.

haryana , punjab , chandigarh, himachal, Delhi and uttranchal are the areas where earthquake felt. 9 more words

Manushi Chhillar’s First Week as Miss World Reflected The Beauty of Indian Apparel

Six Times Manushi Chhillar Rocked The Desi Look

The newly crowned Miss World 2017, Manushi Chhillar is in her homeland, India for her homecoming ceremonies after brining laurels to her nation by becoming the sixth titleholder from India to win the coveted Miss World crown. 439 more words

Miss World