Tags » Hastinapur

यूपी में जीत की चाबी है यह सीट!

वैसे तो देश की राजधानी दिल्ली है, लेकिन देश की राजनीतिक राजधानी उत्तर प्रदेश है। आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर पुरे प्रदेश में माहौल गर्म है। अगले महींने से यूपी में शुरु हो रहे चुनाव को जीतने के लिए सभी चुनावीं पार्टियां अपने पुरे दम-खम के साथ उतर रहीं है। लेकिन यूपी का चुनाव जीतने में इस सीट का अजीब सा तिलिस्म हैं। जिससे की सभी पार्टी यह सीट जीतना चाहतीं हैं।

आइए जानते है आखिर उस एक सीट का तिलिस्म क्या हैं? क्यों सभी दल इस सीट को जीतने के लिए बेकरार हैं। क्या यह सीट जीत लेने पर उस पार्टी की सरकार प्रदेश में बन जाती हैं। क्या इस सीट के बिना, जातिगत कार्ड खेलकर भी राजनीतिक पार्टियां यूपी का चुनाव नहीं जीत सकती ?

इस सीट से होती है जीत की शुरुआत
उत्तर प्रदेश में जीत की चाबी हैं यह हस्तिनापुर सीट। गंगा नदी के किनारे बसा हुआ यह शहर मेरठ जिले में आता हैं। यहां कहते है कि जिस पार्टी का विधायक हस्तिनापुर विधान सभा सीट से आता है, उस पार्टी की सरकार प्रदेश में बनती है। लेकिन एक विडम्बना है कि आजादी के 67 सालों के बाद भी इस क्षेत्र में आज तक रेलवे लाइन नहीं बिछ पाई।

यहां नहीं पड़ता जात-पात के नाम पर वोट
यूपी की सबसे बड़ी दिक्कत है कि यहां धर्म, जात के आधार पर वोट मांगे जाते है। लेकिन हस्तिपुर सीट इसमें भी अलग है। इस सीट पर धर्म और जाति के आधार पर वोटों का धुव्रीकरण नहीं होता है। इसके चलते कई पार्टियों के अच्छे उम्मीदवार चुनावी मैदान में भाग्य आज़माने से कतराते हैं। हस्तिनापुर विधानसभा में कुल 3 लाख 22 हजार वोटर है। इनमें से 60 हजार गुर्जर, 75 हजार अनुसूचित जाति, 70 हजार मुस्लिम, जाट 30 हजार, 20 हजार पंडित और बाकि अन्य हैं।

यह है पिछले रिकार्ड
भारत के आजाद होने के बाद सन 1952 में पहली बार यूपी राज्य प्रभाव में आया। लेकिन उस समय हस्तिनापुर सीट नहीं था। यह सीट 1957 से अस्तित्व में आया। तब से ही यह तिलिस्म जारी हैं।
– साल 1957 से लेकर 1968 तक लगातार कांग्रेस पार्टी के विधायक इस सीट से चुने गये और उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी।
-साल 1968 में चरन सिंह के मुख्यमंत्री बनने पर भारतीय क्रांति दल के विधायक ने यह सीट जीत ली।
– 1974 में फिर यह सीट कांग्रेस ने जीती है प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनीं।
– 1977 से लेकर 1993 तक में जनता पार्टी और कांग्रेस ने इस सीट काबिज रहीं।
– 2002 में सपा की सरकार बनीं और यह सीट भी सपा ने जीती ।
– 2007 में मायावती के मुख्यमंत्री बनने पर यह सीट बसपा के पास चली गई।
– 2012 में सपा ने यह सीट जीती और एक बार फिर प्रदेश में सपा की सरकार बनीं।

प्राचीन संबंध है इस शहर का
इस शहर के इतिहास की जड़ें महाभारत काल से जुड़ी हैं और महाकाव्यों के अनुसार हस्तिनापुर, कौरवों की राजधानी हुआ करती थी।पौराणिक कथाओं के अनुसार, यहां पांडवों और कौरवों के बीच होने वाला महान युद्ध, महाभारत यहीं हुआ था। इस युद्ध में पांडव जीते थे और उन्होंने यहां 36 साल तक राज किया था।

Lead

ऐतिहासिक नगरी हस्तिनापुर में 10 करोड़ की लागत से बनेगा फायर स्टेशन

Story By – Mohit Grover. Follow @mohitgrover77

  1. महाभारतकालीन नगरी हस्तिनापुर में कई वर्षो से फायर स्टेशन स्थापित करने की चली आ रही जनता की मांग शुक्रवार को पूरी हो गई।
  2. फायर स्टेशन के प्रभारी निरीक्षक ज्ञान प्रकाश शर्मा ने हस्तिनापुर नगर पंचायत के ईओ डा. शैलेंद्र कुमार सिंह व पूर्व चैयरमैन अरुण कुमार के साथ स्टेशन के निर्माण के लिए भूमि का चिन्हांकन किया।
  3. बताया कि फायर स्टेशन का पांच हजार वर्ग मीटर भूमि पर निर्माण किया जाएगी, जिस पर दस करोड़ रुपये की लागत आएगी।
  4. फायर स्टेशन के प्रभारी निरीक्षक ने बताया कि फायर स्टेशन के अंतर्गत प्रशासनिक भवन, अधिकारी व कर्मचारी आवास, बैरक, गाड़ी का गैराज आदि बनाया जाएगा।
  5. ईओ ने बताया कि फायर स्टेशन स्थापित होने से क्षेत्र के लोगों को लाभ होगा। अधिकांश खादर क्षेत्र में खेतों में खड़ी फसलों में आग लग जाती है। जिसे बुझाने के लिए फायर ब्रिगेड तत्काल उपलब्ध रहेगी ओर समय से पहुंचकर आग पर काबू पाया जाएगा।
देश

5 Important Gems to Bring Wealth & Prosperity at Home

When the Pandavas returned to Hastinapur from exile after 12 years alongwith Draupdi and their mother Kunti, they were welcomed by King Dhritrashtra and his wife Gandhari. 543 more words

Winds of Hastinapur (Sharath Komarraju)

I have known about Mahabharata ever since I was a child, and my mother thought that inculcating in me a love for the scriptures will mean well for my future. 592 more words

Books

JAMBUDWEEP: A holy Jain campus

Hastinapur is at a distance of 120 Km from Delhi.
Sign board has fallen so be aware of the turn to be taken on highway for Hastinapur. 420 more words

Travel

Akshaya Patra – An Inexhaustible Source of Food

That was the time when the Pandava brothers were in exile for twelve years. A group of Brahmins from Hastinapur and other adjacent places followed the Pandavas as they continued their journey through the forest. 663 more words

Lord Krishna