Tags » Hindu Mythology

Mystery Behind Third Eye - Hindu Mythology - Ancient Aliens - HISTORY TV18

According to Hindu Mythology, Lord Shiva is one of the most powerful Gods. Lord Shiva reveals the secrets of creation to his wife, Goddess Parvati. There are three divine entities in the story of creation according to Hindu Mythology. 148 more words

Shiva to Shankara by Devdutt Patnaik

I for long have been a Hindu mythology lover and an ardent fan of Lord Shiva. Shiva is one of the principle deities in Hindu mythology and part of the supreme trinity of gods who look after the lifecycle of every human being from creation to destruction. 540 more words

Book Review India

Chanakya’s chant by Ashwin Sanghi

For me as a profound reader of Indian mythology and Ancient history of India, this book came as a pleasant surprise. It was the first for me when I found something so well written that could be swing me back and forth in two very different times so effortlessly. 563 more words

Book Review India

अर्जुन - पुत्र अभिमन्यु

यूँ ही धरा पे,
अब नहीं धीरज धरूँगा,
तुम कहोगे,
तो आज से ही युद्ध होगा।
साँसों के आखिरी क्षणों तक,
भीषण संग्राम होगा।
लाएंगे तुम्हारे स्वप्न, या फिर,
कुछ नया ही अंजाम होगा।
मुठ्ठी भर हैं, तो ये मत सोचो,
की मसल दिए जाएंगे।
आज ग्रहों-नक्षत्रों,
और स्वयं सूरज तक,
अर्जुन – पुत्र अभिमन्यु का,
तेज होगा।
भीषण – बाणों की बर्षा होगी,
चारों दिशाओं से.
जर्रे – जर्रे पे आज, सुभद्रा – पुत्र,
के रथ का निशान होगा.

परमीत सिंह धुरंधर

Meet the author : D Kalyanaraman

Our friends at KitaabWorld interviewed author D Kalyanaraman about writing and his inspiration for The Sorcerer of Mandala. Here is a little teaser –

D Kalyanaraman… 52 more words

Writing

विभीषण - मेघनाथ

पिता से बढ़ के कोई परमात्मा नहीं,
इन चरणों के सिवा ये सर कहीं झुकता नहीं।
मैं अपनी तीरों से सृष्टि का संहार कर दूँ,
मुझे पिता के सिवा, कहीं कुछ भी दिखता नहीं।
तुम भूल गए भ्राता, कुल -संबंधी,
मैं इस जनम में ऐसा द्रोही तो नहीं।
काका श्री, तुम ज्ञानि हो समस्त वेदों को पढ़कर,
मगर मेरी नजरों में, ये पिता के चरणों की धूल भी नहीं।
मेरी जवानी चाहे मखमल पे फिसले,
मेरी जवानी चाहे काँटों पे बिखरे।
आखिरी क्षणों तक बस पिता से प्रेम करूँगा,
चाहे मोक्ष मिले या आत्मा भवसागर में भटके।
मेरी नजरों के सामने हो जाए लंका का पतन,
इस जीवन में ऐसा तो मेरे रहते होगा नहीं।
पिता से बढ़ के कोई परमात्मा नहीं,
इन चरणों के सिवा ये सर कहीं झुकता नहीं।

परमीत सिंह धुरंधर

रावण-मेघनाथ

शेर बनाया हैं मैंने, कोई भीड़ के तो देखे।
ये लाल हैं मेरा, कोई इससे लड़ के तो देखे।
रण में रावण का आना तो बहुत दूर,
कोई मेघनाथ से पहले दो दावँ खेल के तो देखे।
इंद्रा को हरा के जो लौटा था मेरे पास,
प्रिये सुलोचना के लिए, जिसने दिया शेषनाग को पछाड़।
वो लहू है मेरा, कोई ललकार के तो देखे।
शेर बनाया हैं मैंने, कोई भीड़ के तो देखे।
ये लाल हैं मेरा, कोई इससे लड़ के तो देखे।

परमीत सिंह धुरंधर