Tags » Hindu Mythology

अगले बड़े स्नान के लिए हरिद्वार तैयार...

22 अप्रैल तक चलने वाले हरिद्वार अर्धकुंभ में इस बार कुल 10 स्नान होने हैं जिसमें 14 जनवरी को मकर संक्रांति के दिन हुआ पहना स्नान संपन्न हो चुका है। अब दूसरा मुख्य स्नान सोमवती अमावस्या के मौके पर 8 फरवरी को होना है। इस स्नान की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुलिस ने सटीक रणनीति बनाने का दावा किया है।

Gangajal

Rama and Lakshmana saved

Bound by that formidable network of arrows, the two high-souled sons of Dasaratha lay bathed in blood, breathing like serpents. In the meantime, the mighty Rama by virtue of his native strength awoke from his swoon, despite the shafts that held him captive. 346 more words

Hindu Mythology

Uttarayaan Parva Punyakal

The transition of the sun

From the Southern Hemisphere

To the northern  hemisphere

After the winter solstice

The stillness and the melancholy environment

Comes back to life with… 1,357 more words

Hindu Mythology

"The Opposite of Everyone"--Review

The Opposite of Everyone, by Joshilyn Jackson, is a story of love, betrayal, and family.

Paula Vauss is an independent divorce lawyer, in a successful practice in Atlanta, whose life revolves around shattered relationships.   393 more words

Books

Mars Close to Earth 3067 to 687 BC

Ancient texts tell of ‘sky gods’ that ruled the world. Prior to 4000 BC there were only two terrestrial planets, a swollen Mars in an orbit similar to that of Venus today and the Earth. 1,029 more words

Catastrophism

केवल 91 दिन शेष #उज्जैन #सिंहस्थ #कुंभ 2016

उज्जैन में लगता है सिहंस्थ

उज्जैन में लगने वाले कुंभ मेले को सिंहस्थ के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि इस दौरान गुरु सिंह राशि में होता है। सिंहस्थ को दुनिया का सबसे बड़ा मेला भी कहा जाता है। यह मेला एक महीने (इस बार 22 अप्रैल से 21 मई तक) तक चलता है। सिंहस्थ पर्व के दौरान विभिन्न तिथियों पर स्नान करने की परंपरा है। ऐसी मान्यता है कि सिंहस्थ के दौरान पवित्र नदी में स्नान करने से पापों का नाश हो जाता है। उज्जैन में चैत्र मास की पूर्णिमा से सिंहस्थ का प्रारंभ होता है, और पूरे मास में वैशाख पूर्णिमा के अंतिम स्नान तक भिन्न-भिन्न तिथियों में सम्पन्न होती है। उज्जैन में सिंहस्थ के लिए सिंह राशि पर बृहस्पति, मेष में सूर्य, तुला राशि का चंद्र आदि ग्रह-योग जरूरी माने जाते हैं। 21 more words

Gangajal