Tags » Hindu Religion

The Concept of Marriage in Hindu Religion

Many books and religious sacred writings assert that Hinduism is the most established religion on the planet. Indeed, even the entire world knows about its rich culture. 331 more words

Rituals and Worship of Gods in Hinduism

Hinduism is one of the most ancient religions in the world. There is proof of this religion and its convictions that dates as far back as 5500 BC. 288 more words

The Concepts, Beliefs & Practices of Hinduism

Hinduism is more than an external religion of specific customs and conventions. Hinduism is in certainty a lifestyle; a spiritual code. This otherworldly code or Dharma is at the heart of Hinduism and oversees the good and profound practices of its devotees. 338 more words

Read About Hindu Religion History in Hindi

Every religion has their own rituals and different specific characteristics which separates that specific religion from others. That’s why Hindu religion always stands on top, because Hindu religion is famous all over in the world for their unique and different culture. 291 more words

Hinduism, Hindu Gods, Hindu Mythology, Vrata Vidhi

Hinduism is the World’s most sacred and the oldest religion. Hinduism is a way of life and is often called as the eternal law beyond human origins.  43 more words

Rape In India: Violence Against Women

Trigger warning: Rape, graphic descriptions, and violence.

Rape is one of the most violent acts known to man. It is a sad and horrific reality that has been perpetrated against women for many centuries. 1,177 more words

Violence

रहस्यमय मंदिर - शाम के बाद यहां आने पर लोग बन जाते हैं पत्थर की मूर्तियां ...

यह स्थान है किराडू का मंदिर। पूरे राजस्थान में खजुराहो मंदिर के नाम से प्रसिद्घ यह मंदिर प्रेमियों को विशेष आकर्षित करता हैं। लेकिन यहां की ऐसी खौफनाक सच्चाई है जिसे जानने के बाद कोई भी यहां शाम के बाद ठहरने की हिम्मत नहीं कर सकता।किराडू के मंदिर विषय में ऐसी मान्यता है कि यहां शाम ढ़लने के बाद जो भी रह जाता है वह या तो पत्थर का बन जाता है या मौत की नींद सो जाता है। किराडू के विषय में यह मान्यता वर्षों से चली आ रही है। पत्थर बन जाने के डर से यहां शाम ढ़लते ही पूरा इलाका विरान हो जाता है। इस मान्यता के पीछे एक अजब दास्तान है जिसकी गवाह एक औरत की पत्थर की मूर्ति है, जो किराडू से कुछ दूर सिहणी गांव में स्थित है। वर्षों पहले किराडू में एक तपस्वी पधारे। इनके साथ शिष्यों की एक टोली थी। तपस्वी एक दिन शिष्यों को गांव में छोड़कर देशाटन के लिए चले गए। इस बीच शिष्यों का स्वास्थ्य खराब हो गया। गांव वालों ने इनकी कोई मदद नहीं की। तपस्वी जब वापस किराडू लौटे और अपने शिष्यों की दुर्दशा देखी तो गांव वालों को श्राप दे दिया कि जहां के लोगों के हृदय पाषाण के हैं वह इंसान बने रहने योग्य नहीं हैं इसलिए सब पत्थर के हो जाएं।

यह भी पढ़ें – इस मंदिर में प्रार्थना करने पर वर्षा अवश्य आती हैं…

एक कुम्हारन थी जिन्होंने शिष्यों की सहायता की थी। तपस्वी ने उस पर दया करते हुए कहा कि तुम गांव से चली जाओ वरना तुम भी पत्थर की बन जाओगी। लेकिन याद रखना जाते समय पीछे मुड़कर मत देखना।कुम्हारन गांव से चली गई लेकिन उसके मन में यह संदेह होने लगा कि तपस्वी की बात सच भी है या नहीं वह पीछे मुड़कर देखने लगी और वह भी पत्थर की बन गयी। सिहणी गावं में कुम्हार की पत्थर की मूर्ति आज भी उस घटना की याद दिलाती है।

देशराग