Tags » HOLY GANGA

ऐसे तो निर्मल नहीं होगी गंगा

Article written by

डॉ भरत झुनझुनवाला, अर्थशास्त्री

सरकार गंगा को निर्मल बनाना चाहती है. ‘निर्मल’ का अर्थ हुआ कि पानी शुद्ध है. शुद्धता बहाव से आती है. 12 more words

दक्षिण भारत में तबाही 

कौशल किशोर (Follow @HolyGanga)

सोमवार से पेरिस में जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर 21वां (CoP21) वैश्विक सम्मेलन चल रहा है। ठीक उसी समय कुदरत की लाठी चेन्नई समेत दक्षिण भारत के कई हिस्सांे में कहर बरपाना शुरु करती है। मौसम विभाग के अनुसार मंगलवार  (1 December) की मध्य रात्रि तक चेन्नई में 119.73 सेंटीमीटर बारिश हो चुकी थी। वहां पिछले सौ सालों के इतिहास में यह मुसलाधार बारिश का सबसे उंचा रिकार्ड है। इससे पहले 1918 में नुंगबक्कम निगरानी केंद्र की रिपोर्ट में 108.80 सेंटीमीटर बारिश का जिक्र मिलता है। इस प्रकोप के कारण तमिलनाडु के अतिरिक्त आंध्र प्रदेश के चित्तूर, नेल्लूर और कई अन्य जिलों एवं पुदुच्चेरी के निचले इलाके जलप्लावित हैं। इन प्रदेशों में अबतक तीन सौ से ज्यादा लोगों की मौत इस आपदा की वजह से हो चुकी है। इन दिनों उत्तर भारत में सर्दी का मौसम होता है। इस मौसम में बंगाल की खाड़ी से चलने वाला मौनसून दक्षिण भारत के तटिय इलाकांे में बारिश का कारण होता रहा है। परंतु यह बारिश भूतकाल में इतनी घातक नहीं थी। पिछले नौ नवम्बर को शुरु हुए बारिश की पहली खेप चेन्नई में बाढ़ का कारण बनी थी। यह इस मौनसून की तीसरी बरसात है, जो बेहद भयानक और नुकसानदेह साबित हुई। 12 more words

Kaushal Kishore

Rafting the Rapids of Rishikesh Ganga

“The Ganga is our Mother” said the autorickshaw driver to me, while weaving through a dense crowd of tourists, locals and cows on the way to Triveni Ghat in Rishikesh. 583 more words

Travel

Deepak Malaviya on The Holy Ganga

Comments on The Holy Ganga
By Deepak Malaviya Executive Secretary, The Samaja
President, Servants of the People Society

The Ganges that was once holy, pristine, pure and natural is no longer the same. 657 more words

Kaushal Kishore

Ganga Calling

Book Review By Rajbir Deswal
The Tribune, Book Review

The popular legend credits that the Ganga was brought on Earth by sage Bhagirath who did penance and performed austerities to please the Gods, in order to cleanse the sins of his ancestors and to perform rituals for their salvation, with the holy waters. 721 more words

Kaushal Kishore