Tags » Indian President

President of India reviews passing out parade of 134th course of National Defence Academy

The President of India, Shri Ram Nath Kovind, reviewed the passing out parade of the 134th course of the National Defence Academy, this morning (May 30, 2018) in Khadakwasla, near Pune. 327 more words

TRENDING

President's address

President Ram Nath Kovind & Economic Survey Presented By FM Jaitley Affirm National Economy Is Progressing After Demonetization & GST : Economic Survey Projects GDP growth Accelerating to 7-7.5 per cent in 2018-19 FY… 1,008 more words

A Tribute to The Missile Man of India

“If you want to shine like a sun, first burn like a sun.”

 

From the streets of Rameshwaram to conquering the conscience of the people, his charisma and contribution to India has been peerless. 330 more words

From The Archives

India's newest President's maiden visit will be an Army base in Ladakh

President elect Ram Nath Kovind’s maiden visit after he takes over the coveted post on July 25 is likely to be the high altitude Army positions in Jammu and Kashmir’s Ladakh. 101 more words

Army

The Ram Nath Politics

We the young aware Indians, live in the age of discovery and dreams. To become a developed nation, we need to contribute to the best of his or her capacity… 416 more words

INDIA

जीते रामनाथ कोविंद, हारीं मीरा कुमार, मिले दोगुने से ज्यादा वोट

यह तो पहले से तय था कि रामनाथ कोविंद ही जीतेंगे, लेकिन इंतजार सभी को था। वोटों की गिनती के बाद यह साफ हो गया कि रामनाथ कोविंद देश 14वें राष्ट्रपति बनेंगे। उन्हें 25 जुलाई को शपथ दिलाई जाएगी।
रिटर्निंग अफसर अनूप मिश्रा ने कोविंद के चुनाव जीतने का एलान किया। कोविंद ने मीरा कुमार से दोगुने ज्यादा और कुल 66 प्रतिशत वोट मिले। इस बीच ममता बनर्जी ने कोविंद को बधाई दी है। उन्होंने कहा कि रामनाथ कोविंद जी को बधाई, जो हमारे अगले राष्ट्रपति होंगे। वह केआर नारायणन के बाद देश को दूसरे दलित राष्ट्रपति होंगे। वे 1997 में चुने गए थे। बता दें कि सोमवार को मतदान में राष्ट्रपति चुनाव के 65 साल के इतिहास में सबसे ज्यादा 99 प्रतिशत वोट डाले गए। रिटर्निंग अफसर अनूप मिश्रा ने बताया कि कोविंद को 60,683 और मीरा को 22,941 वोट मिले।

लोकसभा (543) और राज्यसभा (233) में कुल 776 सांसद हैं। लोकसभा और राज्यसभा से दो-दो सीट खाली हैं। बिहार के सासाराम से बीजेपी के सांसद छेदी पासवान के पास वोटिंग का अधिकार नहीं था। इस तरह 771 सांसदों को वोट डालना था, लेकिन 768 सांसदों ने ही वोटिंग की। वहीं टीएमसी के तापस पाल, बीजेडी के रामचंद्र हंसदह और पीएमके के अंबुमणि रामदौस ने वोट नहीं डाले। ये सभी लोकसभा सांसद हैं। दोनों सदनों में 99.61ः वोटिंग हुई। देश में 31 विधानसभाएं हैं। इनमें 4120 एमएलए हैं। इनमें 10 सीट खाली है और एक विधायक अयोग्य है। इस तरह, 4,109 विधायकों को वोट डालना था, लेकिन 4,083 ने वोटिंग की। यानी कुल 99.37ः वोटिंग हुई थी।

जानिए कौन हैं कोविंद

कोविंद (71) एक अक्टूबर 1945 को कानपुर की डेरापुर तहसील के परौंख गांव में जन्मे। 1978 में वकील के तौर पर अप्वाइंट हुए। 1980 से 1993 के बीच में केंद्र की स्टैंडिंग काउंसिल में भी रहे। कोविंद 1977 में तब पीएम रहे मोरारजी देसाई के पर्सनल सेक्रेटरी बने। बीजेपी का दलित चेहरा हैं। पार्टी ने बिहार इलेक्शन में गवर्नर के तौर पर उनके दलित चेहरे को प्रोजेक्ट किया था। कोविंद दलित बीजेपी मोर्चा के अध्यक्ष रहे। ऑल इंडिया कोली समाज के प्रेसिडेंट हैं। 1994 से 2000 तक और उसके बाद 2000 से 2006 तक राज्यसभा सदस्य रहे। अगस्त 2015 में बिहार के गवर्नर अप्वाइंट हुए। वे 1990 में घाटमपुर से एमपी का इलेक्शन लड़े, लेकिन हार गए। इसके बाद वे 2007 में यूपी की भोगनीपुर सीट से चुनाव लड़े, पर ये चुनाव भी वे हार गए। उनके परिवार में पत्नी सविता, एक बेटा और एक बेटी है। कोविंद बीजेपी के नेशनल स्पोक्सपर्सन रह चुके हैं, लेकिन वे लाइमलाइट से इतने दूर रहते हैं कि प्रवक्ता रहने के दौरान कभी टीवी पर नहीं आए।

प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है। नए राष्ट्रपति कोविंद 25 जुलाई को पद संभालेंगे। उसी दिन प्रणब का फेयरवेल संसद के सेंट्रल हॉल में होगा। स्पीकर सुमित्रा महाजन स्पीच देंगी। वे प्रणब को एक स्मृति चिह्न और सभी सांसदों के सिग्नेचर वाली बुक देंगी।


किस राष्ट्रपति को कितने वोट मिले?

2012 प्रणब मुखर्जी 7,13,763
2007 प्रतिभा पाटिल 6,38,116
2002 अब्दुल कलाम 9,22,884
1997 के. आर. नारायणन 9,56,290
1992 शंकर दयाल शर्मा 6,75,864
1987 आर. वेंकटरमण 7,40,148
1982 ज्ञानी जैल सिंह 7,54,113
1977 नीलम संजीव रेड्डी निर्विरोध
1974 फखरुद्दीन अली अहमद 7,54,113
1969 वी. वी. गिरि 4,20,077
1962 जाकिर हुसैन 4,71,244
1962 डॉ. एस. राधाकृष्णन 5,53,067
1957 डॉ. राजेन्द्र प्रसाद 4,59,698
1952 डॉ. राजेन्द्र प्रसाद 5,07,400

नेशनल

BJP’s stunning volte face on appeasement politics - N.V. Krishnakumar

In choosing Mr Ram Nath Kovind as its nominee, what is the message of the BJP and its constituents in parliament to the electorate of India and in particular to the Dalit community? 925 more words

India