Tags » Israel

दुनिया के सामने भारत की मजबूर छवि !

26/11 मुंबई हमले को 9 साल पूरे होने वाले हैं. इन 9 सालों में पूरे विश्व ने भारत की मजबूरी देखी है. और अभी यह सिलसिला खत्म नहीं हुआ है. बात ताकत की करते  है. शक्ति के मामले में वैसे तो हम किसी से कम नहीं दिखते हैं. यहां तक कि हमारे न्यूज चैनलों के ड्रामेबाज भी हर दूसरे रोज वार करवाते हैं, और चीन को पटखनी दे देते हैं. पाकिस्तान को धूल चटाना भी तो जैसे बाएं हाथ का खेल हो. फिर भी इतने ताकतवर देश में 10 आतंकवादी घुसकर 166 लोगों को मौत के घाट उतार देते हैं. 18 जवान शहीद हो जाते हैं. बदले में हमारा देश पाकिस्तान पर बस दबाव बनाता है. और अंतरराष्ट्रीय मंच पर उसे बेनकाव करता है. बेचारे और कर भी क्या सकते हैं. इतना ताकतवर देश जो है.

विश्व भर में शायद अपनी तरह का यह पहला मामला है, जब किसी देश के 166 नागरिको का कातिल रोज सामने आकर अब तो पूरे देश को ही नेस्तनाबूद करने की बात करता है, और जबाव में बस दबाव बनाया जाता है. और इसका असर कितना होता है, यह तो समाचार के सैदागर आपको बता ही देते होंगे.

दूसरे देशों की भी बात कर लेते है. इजराइल को ही ले लीजिए. जिसने रूस जैसे देशों में घुसकर आतंकियों का खात्मा किया था. ऑपरेशन “बोनेट” की बात करते हैं. आतंकियों ने 1972 के ओलंपिक में भाग लेने गई इजराइल के ओलंपिक टीम के 11 सदस्यो की हत्या कर दी थी. बदले के लिए उस छोटे से देश ने ऐड़ी चोटी का ज़ोर लगा दिया. 20 सालों तक ऑपरेशन चला. यूरोप से लेकर रूस तक इजराइली सेना ने सारे आतंकियो को चुन-चुन के ढ़ेर कर दिया. ऐसे कई घटनाएं और भी है. जिसके जरिए इजराइल ने पूरे विश्व को अपने ताकत का लोहा मनवाया है.

विश्व के सबसे ताकतवर देश अमेरिका की भी बात कर लेते हैं. 9/11 को तो शायद ही कोई भूला पाएगा. हमले के बाद से ही अमेरिका बदले की आग में जल रहा था. उस हमले का मास्टरमाइंड ओसामा-बिन-लादेन 9 सालों तक छुपता फिरा. लेकिन जैसे ही अमेरिका को उसके ठिकाने का पता चला. अमेरिका ने अपनी बहादूरी दिखाने में जरा भी देर नहीं की. एक उम्दा प्लानिंग करके ओसामा को मौत के घाट उतार दिया.

इन दोनों देशों को अपने गुनाहगारों तक पहुंचने में इतना वक्त सिर्फ इसलिए लगा, क्योंकि वो छुपते फिर रहे थे. उनके ठिकानों का पता लगते ही कार्रवाई कर के ढ़ेर करने में ज्यादा देर नहीं की गई. वही हाफिज सईद हर दूसरे दिन भारत को खुलेआम धमकी देता, धूल चटाने की बात करता है. और हम उसके भाषण सुनते हैं. न्यूज चैनलों पर हेडलाइन होता है. हाफिज सईद ने एक बार फिर भारत के खिलाफ ज़हर उगला है. यह बात और है की हम ना तो उसका फन काट पा रहे हैं और ना ही उसके दांत से विष निकाल पा रहे हैं. बड़ी-बड़ी बातों का तो कोई जोर ही नहीं है. हम कभी भी किसी को भी मात देने में सक्षम हैं. लेकिन मात देंगे?

इसका जबाव हाफिज सईद की सांसों से जुड़ी है. करे भी क्या ना तो उम्मीद खत्म होती है, ना उसकी सांसे….

President Trump Calls Egyptian President Abdel Fattah al-Sisi...

Egyptian President Abdel Fattah al-Sisi was the first mid-east head of state to call for the formation of an alliance against extremism.  That alliance gained… 88 more words

Islam

Priti Ugly

For those in the loop this story might seem a tad outdated, however It is still worthwhile highlighting the undue influence of a foreign power on UK domestic politics. 1,492 more words

#UK

Ishmael

Ishmael (Genesis 24:14–20)

Second Best

Ishmael’s birth could be called a mistake. It came about because Sarah and Abraham doubted God’s promise to provide them a child in their old age. 298 more words

Gods Love

Terrorism Epilepsy in Sinai

أحمد مصطفى: #صرع_الإرهاب في #سيناء
وبدلا من نشر تقريري عن الزيارة المذهلة التي قام بها السادة/ #روس_أتوم إلى مدارس الإسكندرية قبل يومين، وبعد صلاة الجمعة مباشرة، انتشرت الأخبار العاجلة عن الحادث الإرهابي داخل 

Awareness