Tags » Jhansi

The Flashman Papers 1856-1858: 'Flashman in the Great Game'

Flashman in the Great Game is taken from the Fifth Packet of the Flashman Papers and, as both the title, and its historical proximity to the previous volume would indicate, concerns Flashman’s involvement in the Indian Mutiny. 3,989 more words

Books'n'stuff

2016 Shraddha Days

Pitru Paksha is a 15 lunar day’s period when Hindus pay homage to their ancestors, especially through food offerings.

According to South Indian Amavasyant calendar it falls in the lunar month of Bhadrapada beginning with the full moon day or day after full moon day. 119 more words

Navratri Special

चण्डी हवन विधि

चण्डी हवन किसी भी दिन व किसी भी समय संपन्न हो सकता है। हवन कुण्ड का पंचभूत संस्कार करें।

सर्वप्रथम कुश के अग्रभाग से वेदी को साफ करें। कुण्ड का लेपन करें गोबर जल आदि से। तृतीय क्रिया में वेदी के मध्य बाएं से तीन रेखाएं दक्षिण से उत्तर की ओर पृथक-पृथक खड़ी खींचें, चतुर्थ में तीनों रेखाओं से यथाक्रम अनामिका व अंगूठे से कुछ मिट्टी हवन कुण्ड से बाहर फेंकें। पंचम संस्कार में दाहिने हाथ से शुद्ध जल वेदी में छिड़कें। पंचभूत संस्कार से आगे की क्रिया में अग्नि प्रज्वलित करके अग्निदेव का पूजन करें।

इन मंत्रों से शुद्ध घी की आहुति दें : –

ॐ प्रजापतये स्वाहा। इदं प्रजापतये न मम।
ॐ इन्द्राय स्वाहा। इदं इन्द्राय न मम।
ॐ अग्नये स्वाहा। इदं अग्नये न मम।
ॐ सोमाय स्वाहा। इदं सोमाय न मम।
ॐ भूः स्वाहा। इदं अग्नेय न मम।
ॐ भुवः स्वाहा। इदं वायवे न मम।
ॐ स्वः स्वाहा। इदं सूर्याय न मम।
ॐ ब्रह्मणे स्वाहा। इदं ब्रह्मणे न मम।
ॐ विष्णवे स्वाहा। इदं विष्णवे न मम।
ॐ श्रियै स्वाहा। इदं श्रियै न मम।
ॐ षोडश मातृभ्यो स्वाहा। इदं मातृभ्यः न मम॥

नवग्रह के नाम या मंत्र से आहुति दें। गणेशजी की आहुति दें। सप्तशती या नर्वाण मंत्र से जप करें। सप्तशती में प्रत्येक मंत्र के पश्चात स्वाहा का उच्चारण करके आहुति दें। प्रथम से अंत अध्याय के अंत में पुष्प, सुपारी, पान, कमल गट्टा, लौंग 2 नग, छोटी इलायची 2 नग, गूगल व शहद की आहुति दें तथा पांच बार घी की आहुति दें। यह सब अध्याय के अंत की सामान्य विधि है।

तीसरे अध्याय में गर्ज-गर्ज क्षणं में शहद से आहुति दें। आठवें अध्याय में मुखेन काली इस श्लोक पर रक्त चंदन की आहुति दें। पूरे ग्यारहवें अध्याय की आहुति खीर से दें। इस अध्याय से सर्वाबाधा प्रशमनम्‌ में कालीमिर्च से आहुति दें। नर्वाण मंत्र से 108 आहुति दें।

Navratri Special

Illusory Scapes - Figments Of My Wishes


Artist: Illusory Scapes
Title: Figments Of My Wishes
Keywords: experimental ambient electronic chillout chillwave dreamwave Jhansi

Illusory Scapes uses mellow melodically petite works of sweet dreamy melodies that are teamed up with soothing rhythms for the most pleasurable results. 145 more words

DISEASE AND DISTRESS – THE GIFTS OF NATURE IN A GODLESS CIVILIZATION

Letters of His Divine Grace A. C. Bhaktivedānta Swami Prabhupāda

This letter dates back to the year 1956 AD, when Prabhupada was preaching Krishna consciousness in India through “The League of Devotees”, an organization, which he had personally established for the propagation of the Holy Name.

836 more words
Philosophy

यूपी ने ठुकराई केंद्र की 'वाटर एक्‍सप्रेस', कहा- जरूरत नहीं

प्यास तथा सूखे से तड़प रहे बुंदेलखंड पर राजनीति तेज हो गई है। बुधवार देर शाम झांसी पहुंची वॉटर एक्सप्रेस को उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव के साथ मुख्य सचिव ने गैरजरूरी बता दिया है।

गुरुवार को कानपुर पहुंचे कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव ने इसे केंद्र सरकार की राजनीति करार दिया है। शिवपाल ने कहा कि बुंदेलखंड में पानी की समस्या नहीं है। केंद्र सरकार वहां ट्रेन से पानी भेजकर राजनीति कर रही है। शिवपाल ने कहा कि यह सच है कि बुंदेलखंड में पानी की जरा भी समस्या नहीं है। अगर जरुरत होगी तो हम पानी मांग लेंगे।

चुनाव को देखते हुए केंद्र सरकार को अब बुंदेलखंड की याद आ रही है। अब केंद्र सरकार वहां पर पानी भेजकर राजनीति कर रही है। शिवपाल ने केंद्र पर आरोप लगाते हुए कहा बुंदेलखंड में सूखे पर कोई मदद नहीं मिली। राज्य सरकार ने बुंदेलखंड की पूरी मदद की है। अब केंद्र सरकार थोड़ा सा पानी भेजकर सियासत कर रही है।

Read More – यूपी ने ठुकराई केंद्र की ‘वाटर एक्‍सप्रेस’, कहा- जरूरत नहीं

National News

Book Review: Rebel Queen

This post also appears on my Goodreads blog

As a long time reader of Philippa Gregory’s Tudor series, I’ve always wished that someone would write similar accounts of Indian history, and that’s how I chose to pick this book up. 140 more words

Books