Tags » Khat

"Stimulant Leaf Replacing Ethiopian Coffee" in 'coffeetalk.com'

“Stimulant Leaf
Replacing
Ethiopian Coffee”
in
‘coffeetalk.com’

Fusion-Infusions.com, creators of innovative teas, tisanes, and coffees since 2005, provides as a free educational service to update the barista profession and its customers on the latest news in their craft. 15 more words

डायरी के पन्ने

लिखा था जो खत,
मैंने उस रात,
उस हसीन के नाम,
आज भी दबी है,
डायरी के उन पन्नो में,

वो भीमी सी खुशबू,
अल्हड़ सी मुस्कान,
नादान उसकी सूरत,
आज भी छिपी है,
डायरी के उन पन्नो में,

वो खूबसूरत पल,
वो हसीन शाम,
याद आ जाती है,
खोलता हूँ जब मैं,
डायरी के उन पन्नो को,

Poetry

KHAT(खत)

जब होती हूँ इस दुनिया से दूर..
उन यादों के साथ….
जिनमे रहते हो अब तुम कही..
पढ़ने को करता है मन मेरा, हर वो खत तुम्हारा..
पाती हूँ जब भी खुद को हर बार यूहीं अकेला..!!

खत में लिखी हर वो बात..
जो कहना चाहते थे तुम मुझसे..
क्यों न कही तब जब तुम थे मेरे सामने..
काश! तुम कहते..
तो ना पढ़ती  मैं यूँ ये खत तुम्हारा..
पाती हूँ जब भी खुद को हर बार यूहीं अकेला..!!

तुम ही तो थे ज़िन्दगी..
लेकिन तब कहा पहचान पायी थी तुम्हें ..
अब जब मैं हूँ अकेली, क्यों सोचती हूँ  तुम्हें इतना..
क्या हुआ अब ऐसा जो..
पढ़ने बैठ जाती हूँ हर खत वो तुम्हारा..
पाती हूँ जब भी खुद को हर बार यूहीं अकेला..!!

अब लगता है!..तुम्हारे इन खतों ने ही ज़िंदा रखा है मुझे..
जब भी होती हूँ इस दुनिया से दूर और ढूंढने लगती हूँ खुद को..
खोल लेती हूँ एक खत तुम्हारा…
पाती हूँ जब भी खुद को हर बार यूहीं अकेला..!!

इन खतों से ही अब दुनिया मेरी..
शायद रखते हैं तुमको ये पास मेरे..
संजो के रखा है तुम्हे मैंने इनमे..
तभी ही तो..खोल के पढ़ लेती हूँ खत रोज तुम्हारा..
पाती हूँ जब भी खुद को हर बार यूहीं अकेला..!!

उस वक्त नहीं देखा था ऐसे तुम्हे,.
थी तुमसे दूर..!
शायद अपनी दुनिया में, भूल गयी थी ..
दुनिया मेरी तुम ही तो थे..
पाने तुम्हे फिर से अपने पास,खोल लेती हूँ खत तुम्हारा..
पाती हूँ जब भी खुद को हर बार यूहीं अकेला..!!

शायद पढ़ के इन्हे जाना मैंने..
क्या थे तुम, रहते हो हर वक्त अब मेरे साथ..
मन करता है लौट जाऊ वापस वही, जब तुम थे मेरे साथ..
इसी कोशिश में ..पढ़ती हूँ एक खत तुम्हारा…
पाती हूँ जब भी खुद को हर बार यूहीं अकेला..!!

-प्रियंका मीना

इसे भी पढें  ये सफर अभी बाकी है !

Poetry

KHAT

Jab hoti hoon is duniya se door..

un yaadon ke saath….

jiname rahate ho ab tum kahee..

padhane ko karata hai man mera,

har vo khat tumhaara.. 290 more words

Poetry

"Aakhiri khat"

Kaha se shuru karu,

Uski jheel see gehri aankho se,

Ya uski pyari-pyari baato se,

Ek baat kahu agar sach mano,

Sooraj ko lali uske hothon se milti hai, 93 more words

Ramai tidak kenal Yayasan Restu.

YAYASAN RESTU? 

Mereka adalah badan NGO yang telah di wujudkan dari tahun 1987 dan sekarang mereka adalah pengeluar cetakan Al Quran kedua terbesar di dunia. Mereka juga mempunyai muzium Al Quran di Shah Alam serta aktif mempromosikan seni khat dan khaligrafi, Rehlah Nabawiyyah iaitu pembelajaran sirah Nabi melalui digital, 3D dan hologram. 145 more words

EDUCATION

Commonly abused stimulant drugs.

By David Joel Miller.

A few stimulant drugs account for a major portion of drug abuse.

Abuse of stimulant drugs has become a major problem in America. 965 more words

Drugs And Addiction