Tags » Literature

அந்த நாள்

எந்த நாளுக்காக
நான் வாழ்ந்து மடிந்தேனோ,
எந்த நாள்
எந்த நாளேட்டிலும் கிடைக்காதோ
அந்த நாள் வந்தது.

அன்று அன்பை தாங்கிய  நிறைசூல் முகில்கள்
கட்டற்ற பெருமழை பொழிந்தன.
எனக்குள், என் ஆன்மா நனைந்து நின்றது.

Tamil

My Dear

                                                      Author: Damodar Rajbhandari

My Dear

Dear, when ever the sun dies.

I will be there for you to feel warm.

If all the beautiful qualities lost from the skies. 99 more words

Literature

Tasos Livaditis//Τάσος Λειβαδίτης

ΦΘΙΝΟΠΩΡΙΝΟ ΣΧΟΛΙΟ

Το ουσιώδες στη μικρή ιστορία μου ήταν μια μαύρη κουνιστή

πολυθρόνα — αλλά πού είναι τώρα το σπίτι, πού είναι η φρουτιέρα

με τα παλιά επισκεπτήρια, οι πετσέτες που πνίγαμε τα γέλια —

Literature

Γιάννης Ρίτσος//Yannis Ritsos

Ο ΣΚΟΙΝΟΒΑΤΗΣ ΚΙ ΟΙ ΘΕΑΤΕΣ

Ωραίος, εκπληκτικός σκοινοβάτης, ψηλά στον αέρα, —

τί ευαίσθητα πέλματα, καί οι άκρες των δακτύλων — θαύμα,

κομψός, ευσταθής, με την κίτρινη ομπρέλα του — έτσι

Literature

New Essay for Salon: Communicator-in-Chief

In a recent essay for Salon, I examine the presidential role of communicator-in-chief and offer a comparison of Barack Obama’s rhetoric and Donald Trump’s incoherent babble of bigotry. 50 more words

David Masciotra

केहि अंश उपन्यास जिल्टको !

लेखक: दामोदर राजभण्डारी

केहि साहस त अगिनै जमै सकेको थिए | अब त लोकल किट्टाले टिल पारेझैँ, आफ्नै लोकले अतीतमा टिलपिल पर्नु थियो|

थिई एक हिस्सी परेकी चेहेरा यो दिलमा | दुध फाटे झैँ, मन फाटेपछि के लाग्ला | पकाउनेले फाटेको दुधलाई फाल्न पनि किचकिच गर्छ मनसंग तर मन नै फाटेकोले को संग किचकिच गर्ने | त्यसैले होला मनमै गुन्झिमान विराजमान हुन सकेको |

Literature

188. Before the Storm

On July 28, 1914, 102 years ago Thursday, World War I began.

The years just before the war were a high point in British life, at least if we judge by Masterpiece Theatre. 556 more words

Writing