Tags » Manmohan Singh

Compatibility between PM Manmohan Singh and Yusuf Gilani

Introduction
Under the influence of the current imbroglio between India and Pakistan, Ganesha is prompted to study the horoscopes of both the Prime Ministers of India and Pakistan and make a compatibility study of the nations through the horoscopes of its leaders. 705 more words

Predictive Articles

2G scam: Raja 'misled' Manmohan Singh on policy matters, CBI tells court

Commencing final arguments in the case, Special Public Prosecutor Anand Grover said that Raja, in conspiracy with other accused, had advanced the cut-off date to favour accused firms in allocation of 2G licences. 174 more words

Latest News

Raja ‘misled’ Manmohan on 2G policy matters: CBI to court

The CBI on Wednesday argued before a Special Court that former Telecom Minister A. Raja had “misled” the then-Prime Minister Manmohan Singh on policy matters pertaining to allocation of 2G spectrum. 265 more words

NATIONAL

That Leadership Journey - What Do You Stand For?

A few days before Hillary Clinton announced her decision to stand for the post of President of the USA, The Economist ran an interesting cover on her. 488 more words

Leadership Lessons And Thoughts

Timeline: How India's largest foreign investor decided to pull back

Even the darling among investors could not salvage India’s largest foreign-funded project.

For Narendra Modi, who swept the Indian elections last year promising to revive the country’s business climate, it was always going to be a difficult task to get South Korea’s Posco—the… 749 more words

प्रेम से बोलिए, एंटी करप्शन मूवमेंट स्वाहा - Dilip C Mandal

अब ऊपर मोदी और नीचे केजरीवाल हैं और इस समय भारतीय जेलों में कौन कौन से भ्रष्टाचारी बंद हैं, आप बताएं. रॉबर्ट वाड्रा या शीला दीक्षित या कोई उद्योगपति या कोई बड़ा अफसर? कौन है जेल में?

वहीं,

मनमोहन ने राज चाहे जैसा चलाया, लेकिन उनके समय में जो करप्शन में जेल गए, उनमें कुछ नाम ये हैं:
सुरेश कलमाडी
ए राजा
कनिमोई
ललित भनोट
ए. के. मट्टू
सार्थक बेहूरिया
आर के चंडोलिया
संजय चंद्रा
गौतम दोशी
हरि नायर
विनोद गोयनका
शाहिद बलवा
करीम मोरानी
रशीद मसूद….

और राज्यों के मामलों में जेल जाने वालों का हिसाब इसमें नहीं है. मतलब कि केंद्र में कैंबिनेट मंत्री से लेकर सेक्रेटरी लेबल के अफसर और सबसे बड़ी सहयोगी पार्टी की नेता से लेकर यूनिटेक जैसी उस समय की भारी कंपनी के मालिक तक जेल गए. बिना लोकपाल के प्रपंच के ही जेल गए. कानून ने जेल भेजा.

इन दोनों के नकारेपन में, मनमोहन जैसा करप्शन का सरताज भी संत दिखने लगा है. मनमोहन के समय जेल जाने का डर तो होता था. आज है क्या?

प्रेम से बोलिए, एंटी करप्शन मूवमेंट स्वाहा -2

– केंद्रीय मंत्री तिहाड़ में
– देश के सबसे बड़े खेल प्रशासक और सत्ताधारी पार्टी के सांसद जेल गए
– देश की सबसे बड़ी रियल एस्टेट कंपनी में से एक के मालिक तिहाड़ में
– शीर्ष नौकरशाह जेल में.
– सत्ता पक्ष की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी की नेता जेल में
– देश की सबसे बड़ी फाइनैंस कंपनी में से एक के मुखिया तिहाड़ में

तथाकथित भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन की सफलता के बाद और ऊपर मोदी और नीचे केजरीवाल के आने के बाद अब तो ऐसी कोई हेडलाइंस यानी शीर्षक नहीं सुनते आप? इसका दो ही मतलब है:

1. या तो देश से भ्रष्टाचार खत्म हो चुका है और पिछली सरकार का भी कोई भ्रष्टाचार पेंडिंग नहीं है.
2. नई सरकार भ्रष्टाचार से लड़ने में पिछली सरकार से भी ज्यादा निकम्मी और निठल्ली है या फिर करप्शन में उसके हाथ भी सने हुए हैं.

प्रेम से बोलिए, एंटी करप्शन मूवमेंट स्वाहा -3

ऊपर मोदी है,
नीचे केजरीवाल है.
भ्रष्टाचार मुक्त जंबूद्वीप में जनता प्रसन्न है.
देश के भ्रष्ट नेता-अफसर-उद्योगपति बोरिया विस्तर बांधकर देश से प्रस्थान कर चुके हैं.
जिन्होंने मनमोहन राज में करप्शन किया था, वे सारा भ्रष्ट धन रिजर्व बैंक में जमा कर चुके हैं.

यह सुनकर देवताओं ने आसमान से पुष्प वर्षा की.

Narendra Modi