Tags » Mohabbat

उसूल-ऐ-मुहब्बत ......!!!

उसूल-ऐ-मुहब्बत मेँ हम खुद बेवफा निकले,
वो जब बिछडा तो हम मर क्युँ न गये……!!!

Love

Kalma tere naam ka

Namaz ka koi kalma padhta hoon
Zuban pe ziqr tera aata hai…

Ukerta hoon ret pe ungliyon ko
Ubharkar naam tera aata hai…

n!yö7

from unknown writer

सपने है तो खाइशे होगी ,
गम है तो रंजिशे होगी ,
शिकवा ना कर ऐ दोस्त ,
महौबत है तो बेवफाइ भी होगी |
Love

अभी बाकी है !!

वादा जो किया था साथ निभाने का वो अभी बाकी हे
ज़िंदगी के सफर में तेरा साथ अभी बाकी है,

आंसू जो मिटाए थे हर गम के मेने,
उन् आँखों की कई खाइशे अभी बाकी है,

हस्ते हुए जो किये थे वादे उन्हें पूरा करोगी तुम
यह उम्मीद अभी बाकी है,

युंं तोह इन हसींन रातो मैं एक शाम और बाकी है
तेरे दीदार को तरसती आँखों मैं आस अभी बाकी है,

गुज़रती हर एक शाम के साथ तेरी यादें बढ़ती चली जाती है
और यादो के सहारे जीने के लिए मेरी ज़िंदगी अभी बाकी है,

तुमने कहा था तुम मिलोगी मुझे एक दिन
उसी ख्वाहिश के लिए अभी मुझमे जान बाकी है,

तेरे साथ हर एक लम्हा जीने के लिए
ज़िंदगी मेरी अभी बाकी है |
Love

इरशाद -9 

धुँध सा छा गया है चारों ओर,
सुनता हूँ ख़ामोशियों का शोर
खो गया हर शख़्स इंसानियत का,
कमज़ोर सी है हर डोर ।

बहुत कुछ सोचा था,

इरशाद -9 

धुँध सा छा गया है चारों ओर,
सुनता हूँ ख़ामोशियों का शोर
खो गया हर शख़्स इंसानियत का,
कमज़ोर सी है हर डोर ।

बहुत कुछ सोचा था,

Raahat e Dil .. Mata’ e Jaan Hai Tu(راحتِ دل متاعِ جاں ہے تو)

راحتِ دل متاعِ جاں ہے تو

اے غمِ دوست جاوداں ہے تو

 

آنسوؤں پر بھی تیرا سایہ ہے

دھوپ کے سر پر سائباں ہے تو

Poetry