Tags » Mothers Day Poem

Loving Mother's Day Poem from a Son

Loving Mother’s Day Poem from a Son

From My Son, Jonathan Rideout

Happy Mothers Day
you are more than okay
when you are near
I have no fear… 37 more words

Happy Mother's Day

The women in my womanhood.

Photo: (my Mom from left, My eldest sister, and my sister-in-law)

You gently held me in your arms,
And sheltered me with your motherly warm, 234 more words

People And Inspiration

Role of Digital Marketing & Social Media in Mother's Day Gifts

Moms are becoming more tech savvy with lots of gizmos like Mobile, tablets, Smartphones, Camera’s & others. Bingads Industry Insights has an article on how mother’s day tech related gifts are gaining a popularity. 59 more words

Technology

<3

hi. im 14. i hate my mom.

before you ask me to shut up
take a moment and hear me out.

i cannot tolerate
such a demanding and stressful woman. 737 more words

Stories

अतुल्य प्रेम- मातृत्व

खुद को जगाकर मुझे सुलाया है तूने,

खुद न खाकर मुझे खिलाया है तूने,

स्कूल से पहले मुझे बहुत कुछ सिखाया है तूने,

गोदी में खिलाकर, हाथ पकड़कर चलाकर,  गिर जाता कभी तो उठना सिखाया है तूने,

तेरे हाथ का खाना, मुझे प्यार से खिलाना बहुत याद आता है,

हूँ आज दूर घर से ये गम बड़ा सताता है,

हर पल तुझसे मिलने की इच्छा रहती है,

बहुत अच्छा लगता है सुनना जब बेटा तू कहती है,

किया था कोई नेक काम जो तेरी जैसी माँ मेने पायी है,

कर दूंगा जब तेरी हर इच्छा पूरी तो सोचूंगा यही है दौलत जो मैंने कमाई है,

करता हूँ दुआ दुनिया की कोई माँ कभी दुखी न रहे,

ना हो उसे कोई दुःख ना कोई अपमान सहे,

दोस्तों अपने माँ बाप को कभी न भुला देना,

भगवान के बराबर इन्हे जगह देना,

मुर्ख है वो लोग जो अपनी माँ को ख़ुशी न दे पाते है,

अपने प्यार के खातिर अपनी माँ को छोड़ जाते है,

भुला दोगे जिस दिन माँ को उस दिन खुद को भुला देना,

रोयेगी ये जन्म दायिनी जिस दिन तुम्हारी वजह से उस दिन अपनी शक्शियत मिटा देना,

खुश करना हो भगवान को तोइ से ख़ुशी देना,

सौ जन्मो में भी नहीं चूका सकते इसका कर्ज,

बस हर पल इसे याद करके एक किश्त चूका देना,

मनाते है वैलेंटाइन  पुरे सप्ताह जो प्यार कुछ दिनों पहले मिलता है,

Mother’s Day  तो पुरे साल भर मनाना चाहिए,

क्यूंकि ये प्यार हमें अपनी आाँखे खोलने से पहले मिलता है,

करता हूँ अपनी कविता समाप्त क्यूंकि अनगिनत है बाते तेरी महिमा बताने के लिए,

कम पड़ेंगे शब्द इन्हे वाक्यो में सजाने के लिए,

दुआ करता हूँ हमेशा तेरे साथ रहूँ, तुझे खुशियाँ  देता रहूँ,

तेरे प्यार का एहसास , तेरे हाथों के खाने का स्वाद तेरे पास बैठके लेता रहूँ|

Creative Writings

A poem about my mother.

Your voice fills my memories.

Soft and sweet.

Singing songs from the Sound of Music in my ear before the first day of kindergarten.

Your hug warmed my arms from the chill of understanding the finality of death for the first time. 108 more words

Writing