Tags » Mubarak

What Did Hosni Mubarak Mean By "Democracy"

That democracy means different things to different people is a truism so obvious as to be banal. But the intercultural problem that raises remains perpetually interesting: what do people in different times and places mean when they say “democracy”? 883 more words

Charna island, Karachi, Mubarak village, Baluchistan.

Charna Island is located near Mubarak village, Kiamari Town in Karachi, Sindh, Pakistan. Churna Island is a small uninhabited island located in the Arabian Sea, about 9 km (5.6 mi) west of the mouth of the Hub river, at the boundary between the provinces of Baluchistan and Sindh. 190 more words

Latest Collection of Ramadan Mubarak 2015 HD Wallpapers


Ramadan Mubarak 2015 HD Wallpapers or high resolution Images is a gift for all our viewer this Ramadan. Designsmag wishing a very happy Ramadan Mubarak 2015… 6 more words

#ElectionNight Bayern München - Eid Mubarak to everyone around the world celebrating! #EidAl...

All you need to do to get informed about all magazine news right away is to follow our lastoneminute.com site. You can find the details of the post titled Bayern München – Eid Mubarak to everyone around the world celebrating! 17 more words

इश्क़ मुबारक

नजाने किस दौर में उल्फत कर बैठे हम
जिसकी बदौलत आज दिल बंजर
और आँखे है नम |
ज़िन्दगी भी खेल अजीब से खेलती है
ना लिखा हो सफर जिन के साथ
उन्ही से दिल लगा बैठती है |
अब अफ़सोस कर के जाए भी तो कहाँ
ये तो वो बारिश है जो चाहे जितना बरसे
करती है बंजर ही अदा |
अब दिल का क्या कहे जनाब
इसकी फितरत से तो ज़माना वाकिफ है
जो आ गया किसीपे  तो अड़ सा जाता है |
लाख सितम और हज़ारो बेरहमिया
सब गवारा है इसे
नहीं चलता ज़ोर फिर कोईइस फितूर के आगे |
उल्फत की बात ही कुछ निराली है
करने जाये तो बाज़ारो में बिकती नहीं
और बेचने जाए तो कोई मालिक नसीब होता नहीं |
ये तो बस यूँ ही कहीं भी किसी भी वक़्त हो बैठती है
न देखती है दिन ना रात
ना हालात ना इंसान
ना सही ना गलत
ना आबरू ना इज़्ज़त
ना रूप ना रंग
ना उम्र ना लिहाज़
ना हया ना खौफ |
यूँ ही तो नहीं जो खूब फ़रमाया होगा ग़ालिब ने,

इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश है ग़ालिब
के लगाए ना लगे और बुझाये ना बने

कविता