Tags » Mushaira

Fasaana ho gaya...फ़साना  हो  गया...

Jal rahey hain khet, phunk raha hai eendhan

Ki aasmaan dekhey ik zamaana ho gaya

Humney to kahi  zaraa si baat

Aur pal bhar mein fasaana ho gaya… 97 more words

Poetry

रेहमत माँ बहनों की

अंदाज़ अपना औरों से जुदा रखता हुँ।
कहता हुँ जो सच है, मैं बस “माँ” और “खुदा” लिखता हुँ।

मेरी प्यारी माँ और बहनों के लिए कुछ छोटा सा लिख पाया हुँ। इसे पढ़ते हुए आपके जेहन में उनका ख्याल आये तो बताइयेगा।

जो खुश मैं तुम्हे, सुबहो-शाम दिखता हुँ।
करम है “माँ” का, जिसे पहला सलाम लिखता हुँ।।
निशाँ है मेरे नाम का, जो आसमान छूता,
पैरों में बहनों के सर मेरा, मेरी जान उन्हीके नाम लिखता हुँ।।

मैं भी हुँ तब तक ही, वो जब तक साथ हैं मेरे,
खुदा को उनकी मैं, सलामती का पयाम लिखता हुँ।।

मेरे हिस्से को रखती हैं खुशियां, और, दुःख अपने लिए,
ख़ुशी उनके दामन में लो अब तमाम लिखता हूँ।।

सुहास वैश्विक

Wow...What a Line ?!

It’s Friday night and in a slinky black dress and heels too high, for anything other than considered steps, I head up to the private function room of the Aagrah restaurant in Bradford. 952 more words

Every Day is a Women's Day

Wapas aaoon ghar apney
Hoon chidiya tere need ki
Khuley aasmaanon mein
Ik udaan to ab bharney do..

Jo ras tum hi peetey ho
Dev amrit maan kar… 98 more words

Poetry

Madam Rehana Roohi is chief guest at Brent Urdu Poetry Group

The Brent Urdu Poetry Group in conjunction with ALAG met again on Sunday 5th February for another successful Mushaira event. This time the venue was Ealing Road Library where the comfortable surroundings and library environment was much appreciated by poets and guests alike. 107 more words

Events

Maa

Beti biwi maa se alag bhi

Maa tera ek wujood hai

Ker sakti hai na janey kya kya

Khud apney aap mein tu saboot hai… 61 more words

Poetry

Happy Krishna Janmashtami..

Krishna ne ye kab kaha

ki mandir mein hi uska vaas hai

uska to ghar ghar mein

kan kan mein aavaas hai

to phir kyun mandiron mein… 80 more words

Poetry