Tags » National Investigation Agency

Terrorist’s diary may change the course of Uri case

The National Investigation Agency (NIA) is basing its investigations on a “blue diary” recovered from one of the three Lashkar-e-Taiba (LeT) terrorists who were killed while attempting to storm an Army camp in Kupwara on October 6. 340 more words

Author_Shobhan_Mittal

17 ಖಾತೆಗಳ, 38 ಕೋಟಿ ರೂಪಾಯಿ ಮೇಲೆ ಎನ್ಐಎ ಕೆಂಗಣ್ಣು

ನಾಲ್ಕು ಪ್ರಮುಖ ಬ್ಯಾಂಕ್‌ಗಳ 17 ಖಾತೆಗಳಲ್ಲಿನ, 38 ಕೋಟಿ ರೂಪಾಯಿ ಚಲಾವಣೆ ಬಗ್ಗೆ, ರಾಷ್ಟ್ರೀಯ ತನಿಖಾ ಸಂಸ್ಥೆ (ಎನ್‌ಐಎ) ಕೆಂಗಣ್ಣು ಬೀರಿದೆ. ಈ ಹಣ ಉಗ್ರ ಚಟುವಟಿಕೆಗೆ ಬಳಕೆ ಆಗಿರುವ ಬಗ್ಗೆ ಗುಪ್ತಚರ ಇಲಾಖೆ ಶಂಕೆ ವ್ಯಕ್ತಪಡಿಸಿರುವ ಹಿನ್ನಲೆಯಲ್ಲಿ, ಎನ್‌ಐಎ ಅಧಿಕಾರಿಗಳು ತನಿಖೆ ಆರಂಭಿಸಿದ್ದಾರೆ.

ಹಿಜ್ಬುಲ್ ಮುಜಾಹಿದ್ದಿನ್ ಮುಖಂಡ ಬುರ್ಹಾನ್ ವಾನಿ ಹತ್ಯೆ ಬಳಿಕ, ಕಾಶ್ಮೀರದಲ್ಲಿ ಅಶಾಂತಿ ನೆಲೆಸಿತ್ತು. ಈ ಅವಧಿಯಲ್ಲಿ 38 ಕೋಟಿ ರೂಪಾಯಿ ಅನುಮಾನಾಸ್ಪದವಾಗಿ ಚಲಾವಣೆ ಆಗಿದೆ. ಇದರ ಬಗ್ಗೆ ಎನ್ಐಎ ವಿಚಾರಣೆ ಆರಂಭಿಸಿದ್ದು, ಉಗ್ರ ಚಟುವಟಿಕೆಗೆ ಹಣ ಬಳಕೆ ಆಗಿರುವುದು ಖಚಿತವಾದರೆ, ಎಫ್‌ಐಆರ್ ದಾಖಲಿಸಲು ತೀರ್ಮಾನಿಸಲಾಗಿದೆ. 

ಅನುಮಾನ ಮೂಡಲು ಕಾರಣಗಳೇನು?

ಜುಲೈ 9ರಿಂದ ಈವರೆಗೆ ಕಾಶ್ಮೀರದಲ್ಲಿ ಸಂಭವಿಸಿರುವ ಹಿಂಸಾಚಾರಕ್ಕೆ 65 ಮಂದಿ ಹತ್ಯೆಯಾಗಿದ್ದಾರೆ. ಗಲಭೆ ಆರಂಭಕ್ಕೂ ಮುನ್ನ 17 ಶಂಕಾಸ್ಪದ ಅಕೌಂಟ್‌ಗಳಿಂದ 38 ಕೋಟಿ ರೂಪಾಯಿ ಚಲಾವಣೆಯಾಗಿತ್ತು.

17ರ ಪೈಕಿ, ಒಂದು ಖಾತೆ, ಕೊಳಾಯಿಗಳ ರಿಪೇರಿ ಕಾರ್ಯ ಮಾಡುವ ವ್ಯಕ್ತಿಯ ಹೆಸರಿನಲ್ಲಿ. ಕಿತ್ತು ತಿನ್ನುವ ಬಡತನದಲ್ಲಿರುವ ಈತನ ಖಾತೆಯಿಂದ, ಕೋಟ್ಯಂತರ ರೂಪಾಯಿ ಚಲಾವಣೆ ಆಗಿರುವುದು ಶಂಕೆಗೆ ಪ್ರಮುಖ ಕಾರಣ.

ಕೆಲವು ವ್ಯಾಪಾರಿಗಳ ಹೆಸರಿನಲ್ಲಿ ಖಾತೆಗಳನ್ನು ತೆರೆಯಲಾಗಿದೆ. ಇವುಗಳಿಂದಲೂ ಕೋಟ್ಯಂತರ ರೂಪಾಯಿ ಚಲಾವಣೆ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ. ಆದರೆ ಈ ವ್ಯಾಪಾರಿಗಳ ವಾರ್ಷಿಕ ವಹಿವಾಟು ಕೆಲವು ಲಕ್ಷಗಳಾಗಿರುವುದು ಅನುಮಾನ ಮೂಡುವುದಕ್ಕೆ ಕಾರಣವಾಗಿದೆ.

ಪ್ರಕರಣ ಸಂಬಂಧ ಎನ್‌ಐಎ ಅಧಿಕಾರಿಗಳು ಪ್ರಾಥಮಿಕ ತನಿಖೆ ನಡೆಸುತ್ತಿದ್ದಾರೆ. ಕಾಶ್ಮೀರದ ಅಶಾಂತಿಗೆ ಈ ಹಣ ಬಳಕೆ ಆಗಿರುವುದು ತಿಳಿದು ಬಂದರೆ, ಕೂಡಲೇ ಎಫ್‌ಐಆರ್ ದಾಖಲಿಸಿಕೊಂಡು, ಪೂರ್ಣಪ್ರಮಾಣದ ವಿಚಾರಣೆ ಆರಂಭಿಸಲಾಗುವುದು ಎಂದು ಎನ್‌ಐಎ ಮೂಲಗಳು ತಿಳಿಸಿವೆ.

मंदिरों में बीफ रख आईएस भड़काना चाहता था रमजान के दौरान दंगे

आंध्र प्रदेश की राजधानी हैदराबाद में बुधवार सुबह राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने ताबड़तोड़ छापेमारी कर आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) के मॉड्यूल का भांडाफोड़ करते हुए 11 युवकों को हिरासत में लिया। ये युवक बम धमाकों द्वारा शहर के वीवीआईपी और भीड़भाड वाले इलाकों को निशाना बनाना चाहते थे। इसके अलावा जांच एजेंसियों को यह भी पता लगा है कि ये लोग चारमीनार के पास स्थित भाग्यलक्ष्मी मंदिर में गोमांस और भैंस का मांस रखकर शहर में दंगे भड़काना चाहते थे।

टाइम्स ऑफ इंडिया ने जांच एजेंसियों के सूत्रों के हवाले से बताया है कि आईएस का यह मॉड्यूल रमजान के इस पवित्र माह के दौरान मंदिरों में मांस रखकर शहर में तनाव उत्पन्न करना चाहता है। गिरफ्तार किए गए युवा भारत में आईएस की भर्ती का काम देख रहे चीफ हैंडलर शैफी अरमार के साथ लगातार संपर्क में थे। एनआईए पिछले 4-5 महीने से इनपर नजर रखे हुए था।

National News

ఉగ్ర కలకలం..ఉలిక్కిపడిన హైదరాబాద్

ఉగ్ర కలకలం..ఉలిక్కిపడిన హైదరాబాద్

దేశంలో ఎక్కడ ఉగ్రదాడి జరిగినా దాని మూలాలు మన భాగ్యనగరంలోనే దొరుకుతున్నాయి. ముష్కరులకు హైదరాబాద్ సేఫ్ జోన్‌గా మారిపోవడంతో చాలా మంది ఇక్కడి నుంచే తమ కార్యకలాపాలు సాగిస్తున్నారు. తాజాగా సోషల్ నెట్‌వర్కింగ్ సైట్లలో ఒక గ్రూప్‌గా ఏర్పడి ఉగ్రవాద కార్యకలాపాలు నిర్వహిస్తున్న ఒక టెర్రరిస్ట్ గ్రూప్ కుట్రను ఎన్‌ఐఏ అధికారులు బట్టబయలు చేశారు..……Read More……..

Sadhvi Pragya's bail plea rejected by NIA court

Sadhvi Pragya’s bail plea rejected by NIA court

Sadhvi Pragya, one of the main accused in 2008 Malegoan blast case has been denied bail by the special NIA court on Tuesday. 28 more words

मालेगांव केस में साध्वी प्रज्ञा को राहत, NIA ने चार्जशीट से हटाए नाम

2008 के मालेगांव धमाके के करीब आठ साल बाद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को राहत मिल गय़ी है।मुंबई की एनआइए स्पेशल कोर्ट में आज एक पूरक चार्जशीट दाखिल की गई। जिसमें साध्वी प्रज्ञा दूसरे आरोपियों पर से मकोका हटा लिया गया है। एनआइए की चार्जशीट में कर्नल श्रीकांत पुरोहित पर एंटी टेरर लॉ (UAPA) और आइपीसी की धाराओं में आरोपी बनाया गया है। 6 more words

एनआईए का खुलासा, मोदी सरकार और संघ के खिलाफ दाऊद ने रची थी साजिश

राष्ट्रीय जांच एजेंसी(एनआईए) ने दावा किया है कि अंडरवर्ल्ड डॉन और मुंबई हमले के मास्टरमाइंड दाऊद इब्राहिम ने मोदी सरकार को पंगु बनाने के लिए दंगे की साजिश रची थी। जांच एजेंसी के मुताबिक की डी-कंपनी की साजिश भारत में धार्मिक नेताओं, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के नेताओं और चर्च पर हमले कर आपसी सदभाव बिगाड़ देश में सांप्रदायिक हिंसा फैलाने की थी।

एनआईए इस बारे में एक चार्जशीट डी-कंपनी के उन 10 लोगों के खिलाफ शनिवार को दायर करने जा रही, जिन्हें भारत में साल 2014 में मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद साम्प्रदायिक हिंसा फैलाने, आरएसएस के नेताओं और चर्च पर हमले की जिम्मेदारी दी गई थी।

Read More – एनआईए का खुलासा, मोदी सरकार और संघ के खिलाफ दाऊद ने रची थी साजिश

National News