Tags » Navi Mumbai

Who Are We?

MBA (Mutually Beneficial Activities) Foundation is a 16  year old NGO working in the field of rehabilitation of Persons with Disabilities in Mumbai with registered office in Airoli, Navi Mumbai. 57 more words

Counselling

रातोंरात 6 वन रूपी क्लिनिक बंद करने का फरमान

रातोंरात 6 वन रूपी क्लिनिक बंद करने का फरमान

स्टेशन मास्टर को प्राथमिक उपचार करने का निर्देश

क्लिनिक के संचालक आज से करेंगे आमरण उपोषण

दबंग दुनिया : नागमणि पाण्डेय
मुंबई। रेलवे यात्रियों को दुर्घटना के समय या फिर आपातकाल में अच्छी और सस्ती मेडिकल सुविधा मिले इसके लिए वन रूपी क्लिनिक सेवा लगभग एक वर्ष पहले शुरू की गयी थी। अब तक वन रूपी क्लिनिक की तरफ से अनेक मरीजों को उचित और अच्छी मेडिकल सुविधा मिल चुकी है, लेकिन अब राजकीय दबाव में मध्य रेलवे द्वारा बिना कोई पूर्व सूचना दिए रातोंरात 6 स्टेशनों की सेवा बंद करने का आदेश दिया है। इसके साथ हि स्टेशन मास्टर को इमरजेंसी में जख्मी लोगों को फर्स्ट उपचार करने का निर्देश दिया गया है। इस को लेकर शुक्रवार से वन रूपी क्लिनिक के संचालक ने आमरण उपोषण करने का निर्णय लिया है।

रेलवे में जख्मी यात्रियों को प्राथमिक उपचार के लिए शुरू हुई थी सेवा

मुंबई लोकल यहा के लोगों के लिए लाइफ लाइन के रूप में पहचाना जाता है। दिन पर दिन लोकल में यात्रियों की संख्या बढ़ने के साथ ही लोकल से गिरकर मरने वाले और जख्मी होने वालो की संख्या भी तेजी के साथ बढ़ रहा है। इस में अधिकतर यात्रियों की मौत समय पर उपचार नही होने के कारन होता है। इस को देखते हुए वन रूपी क्लिनिक द्वारा यात्रियों को उपचार नाम मात्र पर देने देने के लिए सर्विस शुरू किया। अब तक हजारों यात्रियों को जख्मी होने के बाद तुरंत प्राथमिक उपचार देकर नजदीक के अस्पताल में पहुंचाया जा चुका है। इस सेवा को देखते हुए यात्रियों द्वारा मध्य और हार्बर रेलवे के अन्य रेलवे स्टेशनों पर भी इस सेवा को शुरू करने की मांग की जा रही है। जिससे जख्मी होने वाले यात्रियों की जान बचाई जा सके, लेकिन अब रेलवे ने 12 क्लिनिक में से 6 क्लिनिक बंद करने का आदेश दिया है।

उच्च न्यायालय के आदेश पर शुरू हुआ क्लिनिक

लोकल से गिरकर जख्मी होने वाले यात्रियों को समय पर उपचार नही मिलने के कारण मौत हो जाता है। इस को देखते हुए मुंबई उच्च न्यायलय में याचिका दायर किया गया था। जिसके बाद न्यायलय ने रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों को प्राथमिक उपचार मिल सके इसके लिए क्लिनिक सुरु करने का आदेश दिया था। जिसके बाद वन रूपी क्लिनिक ने इस में रूचि दिखाते हुए नाम मात्र दर पर उपचार देने की हामी भरी थी। इसके बाद रेलवे से मंजूरी लेने के बाद इस की सुरु वात किया गया।

क्लीनिक के लिए रेलवे को एक लाख का डिपोजिट

इस के लिए बकायदा वन रूपी क्लिनिक की तरफ से हर क्लिनिक के जगह के लिए एक लाख रुपये डिपोजिट रेलवे को दिया गया। लेकिन अब रेलवे द्वारा नियमो के अनुसार उपचार नही किये जाने का कारण देते हुए दंड स्वरूप एक लाख रुपये जप्त किये जाने का बताकर डिपोजिट का रक्कम वापस देने से इंकार किये जाने की जानकारी वन रूपी क्लिनिक के सीइओ डॉ राहुल घुले ने दिया। इस बारे में मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुनील उदासी से संपर्क किया गया। लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं मिला।

हमें यात्रियों को मुफ्त में उपचार दे रहे है। कुछ उपचार नाम मात्र पर कर रहे हैं। इसके बावजूद रेलवे राजकीय दबाव में षड्यंत्र के तहत बिना कोई सूचना दिए 12 क्लिनिक में से 6 क्लिनिक बंद करने का आदेश दिया गया है। रातोंरात कैसे सब समान हटाया जाएगा। इसके साथ ही न ही कोई कारण दिया गया है। इसके लिए शुक्रवार से ठाणे स्टेशन पर आमरण अनशन कर रहा हूं।

– डॉ. राहुल घुले, सीईओ, वन रूपी क्लिनिक

हाईकोर्ट के आदेश पर रेलवे द्वारा जख्मी यात्रियों को उपचार देने के लिए शुरू किया गया था। लेकिन अचानक 6 स्टेशनों की सेवा बंद करने का आदेश दिया गया है। इसके साथ ही स्टेशन मास्टर को प्राथमिक उपचार करने का निर्देश रेलवे द्वारा दिया गया। स्टेशन मास्टर क्या डॉक्टर है जो उपचार करेगा। यह रेलवे की बहुत बड़ी लापरवाही है। जो न्यायालय के आदेश को नजर अंदाज कर यह सेवा बंद कर रही है। – समीर झवेरी, रेलवे एक्टिविस्ट

Mumbai

कांग्रेस के वर्कर्स संगठन ने की  प्रलोभन देकर मजदूरों से ठगी

कांग्रेस के वर्कर्स संगठन ने की प्रलोभन देकर मजदूरों से ठगी

राहुल के नाम पर बना रहे मूर्ख

  1. > जनार्दन सिंह को हटाने की मांग > टछअ-टछउ बनाने का झांसा …

  2. 7 more words
Mumbai