Tags » News In Hindi

IT Department Recovered New Currency Notes Worth Rs. 4.7 Crores

As soon as the news of banning Rs 500 and Rs 1000 notes was announced by the Prime Minister of India, Mr. Narendra Modi, the entire nation was shocked. 317 more words

News In Hindi

Hindi News Live

Hindi News – Vaartaa News shows Latest News in Hindi, Daily News, Breaking News in Hindi and News Headlines from India current affairs, business and bollywood.

Breaking News In Hindi

Hindi News

Hindi News – Vaartaa News shows Latest News in Hindi, Daily News, Breaking News in Hindi and News Headlines from India current affairs, business and bollywood.

Breaking Hindi News

क्या आप जानते हैं कैसे हुई बेलपत्र की उत्पत्ति

हिंदू धर्म में बेलपत्र का विशेष महत्व होता है। माना जाता है कि अगर कोई व्यक्ति सच्चे मन से भगवान शिव की पूजा करता है और उन्हें बेलपत्र अर्पित करता है तो भगवान उसकी हर इच्छा पूरी करते हैं। क्या आपको पता है भगवान शिव पर बेलपत्र क्यों चढ़ाया जाता है और इसके पीछे क्या कहानी छिपी हुई है, अगर नहीं तो चलिए हम आपको बताते हैं…

News

धूम मचाने को तैयार हिमेश रेशमिया

संगीतकार-गायक हिमेश रेशमिया ने कहा कि वह अब अपने करियर के उस पड़ाव पर हैं जहां उन्हें किसी को भी अपनी काबलियत साबित करने की जरूरत नहीं है। वह सिर्फ अपने संगीत को उंचाई पर ले जाने पर फोकस कर रहे हैं।
अपने नए एल्बम ‘आप से मौसिकी’ के साथ एक बार फिर संगीत जगत में धूम मचाने को तैयार हिमेश ने कहा कि 500 से अधिक हिट गाने देने के बाद वह अन्य संगीतकारों से मुकाबला करने के बजाय, केवल अलग और खास गीत बनाने पर ध्यान दे रहे हैं।

हिमेश ने कहा, ‘इस वक्त, मुझे अपने संगीत को लेकर कुछ भी साबित करने की जरूरत नहीं है। मुझे बस अच्छा काम करना है..जब तक ऐसा नहीं होता, तब तक मैं बाजार में नहीं आउंगा और मेहनत करता रहूंगा। मैंने 115 फिल्मों में 650 से अधिक हिट गाने दिए हैं, तो अब कुछ साबित करने को नहीं रहा।’ उन्होंने कहा, ‘अपने स्तर को बनाए रखना जरूरी है। मुझे बस दर्शकों की उम्मीदों पर खरा उतरना है। बॉलीवुड समाचार के बारे में अधिक जानकारी के  लिए क्लिक करें @ goo.gl/KMuHms

News In Hindi

यहां होते है द्वापर युग के दर्शन, खुलता है मोक्ष का दरवाजा

कानपुर देहात. देश में गरीबी की हालात से जूझ रहे तमाम लोगों को रोटी नसीब नहीं होती है, भूखे रात काटनी पड़ती है। कुछ ऐसे भी लोग है, जो ऐसे गरीबों को दान करके पुण्य कमाते है। जिसके लिये लोग मंदिरों के बाहर, स्टेशनों या कहीं भी किसी गरीब को देखते है, उनकी मदद करते है। कुछ लोग कन्याओं को दान करते है। लेकिन जिले की नगर पालिका झींझक में एक ऐसे इंसान भी है, जो अपनी टीम के साथ एक ऐसा कार्य करते चले आ रहे है, जो बहुत ही प्रशंसनीय है। पिछले 20 वर्षाें से कराये जा रहे विष्णु महायज्ञ में दान पुण्य करने के लिये नगर के ही निवासी भोले शुक्ला ने महायज्ञ में गरीब कन्याओं की शादी का वीणा उठाया। जिसमें क्षेत्र की असहाय व गरीब कन्याओं का विवाह लोगों के सहयोग से कराया जाता है।

कहते हैं इससे बडा पुण्य इस धरा पर नहीं है। धीरे-धीरे इस शुभ कार्य लोगों ने भी सहयोग करना शुरू कर दिया। प्रत्येक वर्ष महायज्ञ कमेटी के लोग क्षेत्र की गरीब कन्याओं को तलाशते है और निशुल्क विवाह कराते है। विवाह के दिन वर वधू को आशीर्वाद देने के लिये हजारों लोगों की भीड़ उमड़ती है। समाज के कई लोग कन्यादान में भी हिस्सा लेकर पुण्य कमाते है।

विधि विधान से सम्पन्न कराया गया 4 जोडों का विवाह

 

प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी विगत 5 नवम्बर से चल रहे महायज्ञ में इस बार 4 गरीब कन्याओं का विवाह सम्पन्न कराया गया। जिसमें झींझक की राखी का विवाह जुरिया के टिंकू शुक्ला से, अनामिका का संदलपुर के अरविद, भोलानगर झींझक की गोल्डी व काकादेव कानपुर के शिवम, अम्बेडकर नगर झींझक की ममता का दामोदर नगर कानपुर के ईलू के साथ विवाह सम्पन्न कराया गया। जिसमें चार ब्राह्मणों ने विधि विधान से हिंदू रीति रिवाज के अनुसार दाम्पत्य सूत्र बंधन मे बांधा। जिसके बाद बारात, भोजन, भांवर, कलेवा व अंत में दान दहेज के साथ उनकी विदाई की गयी। इस दौरान नगर की सैकड़ों महिलाओं ने कन्याओं को भीगी पलकों से विदाई दी।

चित्रकूट के कामदगिरि पीठाधीश्वर रामस्वरूपाचार्य महाराज ने दिया आशीर्वाद

कामदगिरि पीठाधीश्वर स्वामी रामस्वरूपाचार्य महारज जी ने प्रवचन करते हुये कहा कि अपने पराए का भाव त्याग कर जो सभी हित और सुख के सिद्धांत को अपनाता है, वहीं सच्चा मानव है। उन्होंने कहा कि गरीबों को भोजन, उनकी कन्याओं के विवाह मे दान सर्वश्रेष्ठ दान है। इतिहास एवं पुराणों में उल्लिखित दानी राजा हरिश्चंद्र, दानवीर कर्ण जैसी तमाम महान विभूतियों को लोग आज भी याद करते है। केवल युग परिवर्तन हुआ है, लोग और उनकी सोच वही है। इससे अधिक सुकून धरती के किसी परोपकार में नहीं मिलता है। इसके बाद उन्होंने नये दम्पतियों को आशीर्वाद देते हुये मंगलमय की कामना की।

दान के रूप में दिया गया ये दहेज

नगर के लोगो ने सहयोग करते हुये चारों कन्याओं को जमकर दान किया। आजीवन सदस्यों व नये सदस्यों ने चारों को बक्से, अलमारी, बेड, गद्दे, तकियां, पंखे, कुर्सियां, कुठले, सिलाई मशीन कन्याओं को श्रृंगार में पायलें दी। महिलाओं ने साडियां, दूल्हे को घडी आदि अन्य सामान लोगों ने दान किये और ढेरों आशीर्वाद दिया। वहीं महयाज्ञ कमेटी के पदाधिकारियों मनोज राठौर व अरविन्द श्रीवास्तव उर्फ टोनी ने कहा कि जीवन मरण तो जीवन के दो पहलू है। लेकिन धर्म का रास्ता एक ही है, जो कर्माे पर निर्भर करता है। श्रीकृष्ण व रुक्मणी विवाह की परम्परा द्वापर युग से चली आ रही है। उसी के अनुसार इन गरीब कन्याओं का वीणा उठाया गया है।

महायज्ञ कार्यक्रम के आयोजक भोले शुक्ला ने कहा कि विगत 20 वर्षाें से कराये जा रहे इस महायज्ञ का ध्येय ये नहीं कि लोग कथा का श्रवण कर आनंदित हो। इसका मुख्य लक्ष्य ये है कि लोग इसका अनुसरण कर अपने जीवन मे उतारे। इन गरीब कन्याओं की शादी हमारा उद्देश्य है। लोगों के सहयोग से यह निरंतर चलता रहेगा।

Kanpur

अब ज्यादा देर चलेगी स्मार्टफोन की बैटरी

शोधकर्ताओं ने एक नया तरीका ढूंढा है, जिससे लिथियम बैटरियों की क्षमता को बढ़ाया जा सकता है। ये बैटरियां स्मार्टफोन, टैबलेट और कई पोर्टेबल डिवाइस में इस्तेमाल की जाती है। इस नई खोज से बैटरियों की क्षमता में 10 से 30 फीसद तक का इजाफा हो सकता है।

यांग का दल पर बैटरियों के ऊपर लगाई जानेवाली पॉलीमर कोटिंग की मोटाई को कम करने पर काम कर रहा है, ताकि यह ज्यादा जगह ना घेरे। येल यूनिवर्सिटी के रसायन विज्ञान के अस्सिटेंट प्रोफेसर हेलियांग वांग का कहना है, हालांकि वह शोध में शामिल नहीं थे, तीन परत का इलेक्ट्रोड ढांचा एक स्मार्ट डिजायन सा होता है जो एंबियंट कंडीशन में लिथियम धातु इलेक्ट्रोड के प्रसंस्करण में सक्षम बनाता है। यह शोध नैनो लेटर्स जर्नल में प्रकाशित किया गया है। @ goo.gl/b7T3cY

News In Hindi