Tags » Poems And Lyrics » Page 2

Edges of Autumn

Every year we have been
witness to it: how the
world descends

into a rich mash, in order that
it may resume.
And therefore
who would cry out… 189 more words

Second Life

Meaning of love u gave me.

​~° Love had no meanings for me,until you came in my life.

It was just a wind,that always passed by,which i never tried to touch. °~

Poems And Lyrics

~° Warmth of this love °~

​~° Separation took us away,

Urge brought us together,

Someone you don’t give up on,

Stays forever,

Day was a lame,

And with every touch of yours, 82 more words

Poems And Lyrics

On The Shores

This song by Melissa Helser inspires me, so I’m posting it here. These lyrics are great even without the music.

Poems And Lyrics

मेरा क्या है?

तंग रास्तों में भटकते हुए,
अकस्मात् एक ख़याल आया।
मंज़िल तो कभी देखी न थी,
रास्ता भी अब खो न जाए कहीं।
ये फुटपाथ गरीबों का,
और ये सड़क अमीरों की,
मेरा क्या है?
कुछ भी तो नहीं…

मेरे हिस्से में आये हुए,
दुःख भी हैं और दर्द भी।
सोचा अपनों से परे, क्या पता,
मिल जाए एक सहारा कोई।
पर वो भगवान् भी है गरीबों का,
और सरकार सिर्फ अमीरों की,
मेरा क्या है?
कुछ भी तो नहीं…

तन भी छोडो, मन भी छोडो,
ये जीवन तो एक अहसास है।
भाव ही सबका रास्ता है,
और सबकी तरह, मैं इसका राही।
पर पता चला, ग़म हैं गरीबों के,
और खुशियां सिर्फ अमीरों की,
और मेरा क्या है?
कुछ भी तो नहीं…

Poems And Lyrics

मैं एक पौधा हूँ

मैं एक पौधा हूँ…

मैं वृक्ष नहीं हूँ,
प्रज्ञ हूँ,
लगभग अदृश्य भी,
किन्तु विशालकाय
यक्ष नहीं हूँ.

मैं तो सूक्ष्म हूँ,
निर्बल हूँ,
चंचल हूँ.
हवा के तेज़ झोंको से,
कंपकपाता हर पल हूँ.

कितने प्राणी,
कितनी लालसा,
मैं तो सबसे डरता हूँ.
भान है यथार्थ का,
तभी तो निवेदन करता हूँ.

न मैं छाँव,
न आशियाना,
और न फल दे पाऊंगा.
यदि अपेक्षा करोगे,
तो उन्ही में दब जाऊंगा .

यदि कुछ करना है,
मेरी खातिर,
तो मुझे प्रेरित करो.
और कहो, कि पौधे,
इस निर्जनता से मत डरो.

क्या पता,
उन शब्दों का जादू,
कुछ इस कदर चल जाए.
और वीरानी के इस पौधे को भी,
कोई हमसफ़र मिल जाए.

Poems And Lyrics

You

1. With grudges thin but miles wide,
You’ve always felt guilty and your temper flies.
Because a child unloved has a reason to rage;
Has it earned you any favor? 218 more words

Poems And Lyrics