Tags » Poetry 2012

मुझे पता है

— सतीश गणवीर

जीवन से मुझे क्या चाहिए? यह मुझे निश्चित पता है |

मेरा जीवन और मेरी भावनाएं, बस येही हैं, जिनके प्रति मैं सचेत हूँ |

Poetry, 2012

The Truth

— Shibdas Banerjee

I disappear in the sky as you love the blue;
And in the darkness of night, I can’t find any clue;
Why do I like to stay in the sky? 121 more words

Poetry, 2012