Tags » Problem

The Problem With The Problem

“The problem with self-improvement

is knowing when to quit.”

The problem with innovation

is knowing where to start.

The problem with the problem

is not the problem at all. 21 more words

Poetry

To the Operators

I cry a little after every unsuccessful
call to insurance
sitting on the edge of my bed
I am closed up like a spider,
a daddy long legs without his limbs… 15 more words

Poetry

New Distresses

It is a source of new distress and difficulty that I took to the Lord. God can solve problems we can not and tell us what we can do to solve them. 82 more words

God

But the problem is even I can’t find it.

One Liner

Pedestrian crossings and the problem of jaywalking

(Source: www.straitstimes.com)

Every time she heardtyres screeching or car horns blaring from her kitchen window, Madam Shameem Basheer would fear the worst.

The 32-year-old would peer out at the junction of Bendemeer Road and Whampoa East, wincing and gasping as jaywalkers – including children and elderly pedestrians – dice with death. 708 more words

Current Affairs

द्वंद

इस घर में मैं ही हूँ,
यहाँ मखमली तकियें सिलवटों की राह ताकते हैं,
चार दीवार की खामोशी में,
खिड़कियों से बस कुछ लोग झाँकते है।
वो घर और था,
जहाँ मेरे अपने आते जाते थे,
वो दिन थे जब माँ की गोद मयस्सर थी,
और एक थपकी पर सपने आते थे।

जब नानी रातों को घंटो किस्से सुनाती थी,
हाथ सर पर फेरकर,
परियों के साथ सुलाती थी,
वहांँ नाना रोज़ मिठाई लाते थे,
खामोशी ने नहीं किया था कब्ज़ा वहां,
सुबह से शाम बच्चे खिलखिलाते थे।

वो घर अब बस एक याद है,
शाम की अज़ान अभ भी कानों में गूंजती है,
नानी के हाथ के अचार का लभ पर अभ भी स्वाद है,
वहांँ की कुछ दीवारें टूटी हुई थी,
छत से बूंदे टपकने के बाद भी,
शामें वहांँ के नज़ारो ने लूटी हुई थी।

इस घर में मैं ही हूँ,
यहाँ संगमरमर का फर्श भी चुभता है,
और अलमारियों में खामोशी बन्द है,
वहाँ लोगों से नोकझोक होती थी,
अब बस तनहाइयों से द्वंद है।

Life