Tags » Punishments

To the moms who have it figured out ... cause I sure don't

I feel like there are billions of moms out there that just {L  O  V  E}  to give their opinion, even when they’re not asked. 459 more words

Quran Chap-2 Surah Al Baqer:6 to 16

Quran Chap-2 Surah Al Baqer:6 to 16


…..जिन लोगों ने कुफ़्र (इनकार) किया उनके लिए बराबर हैं, चाहे तुमने उन्हें सचेत किया हो या सचेत न किया हो, वे ईमान नहीं लाएँगे (6) अल्लाह ने उनके दिलों पर और कानों पर मुहर लगा दी है और उनकी आँखों पर परदा पड़ा है, और उनके लिए बड़ी यातना है (7) कुछ लोग ऐसे हैं जो कहते हैं कि हम अल्लाह और अन्तिम दिन पर ईमान रखते हैं, हालाँकि वे ईमान नहीं रखते (8) वे अल्लाह और ईमानवालों के साथ धोखेबाज़ी कर रहे हैं, हालाँकि धोखा वे स्वयं अपने-आपको ही दे रहे हैं, परन्तु वे इसको महसूस नहीं करते (9)उनके दिलों में रोग था तो अल्लाह ने उनके रोग को और बढ़ा दिया और उनके लिए झूठ बोलते रहने के कारण उनके लिए एक दुखद यातना है (10) और जब उनसे कहा जाता है कि “ज़मीन में बिगाड़ पैदा न करो”, तो कहते हैं, “हम तो केवल सुधारक है।”” (11) जान लो! 277 more words

Islam

Quran Chap-2 Surah Al Baqer:21 to 24

Quran Chap-2 Surah Al Baqer:21 to 24

…..ऐ लोगो! बन्दगी करो अपने रब की जिसने तुम्हें और तुमसे पहले के लोगों को पैदा किया, ताकि तुम बच सको; (21) वही है जिसने तुम्हारे लिए ज़मीन को फर्श और आकाश को छत बनाया, और आकाश से पानी उतारा, फिर उसके द्वारा हर प्रकार की पैदावार की और फल तुम्हारी रोजी के लिए पैदा किए, अतः जब तुम जानते हो तो अल्लाह के समकक्ष न ठहराओ (22) और अगर उसके विषय में जो हमने अपने बन्दे पर उतारा हैं, तुम किसी सन्देह में न हो तो उस जैसी कोई सूरा ले आओ और अल्लाह से हटकर अपने सहायकों को बुला लो जिनके आ मौजूद होने पर तुम्हें विश्वास हैं, यदि तुम सच्चे हो (23) फिर अगर तुम ऐसा न कर सको और तुम कदापि नहीं कर सकते, तो डरो उस आग से जिसका ईधन इनसान और पत्थर हैं, जो इनकार करनेवालों के लिए तैयार की गई है (24)….. 162 more words

Islam

Quran Chap-2 Surah Al Baqer:30 to 39

Quran Chap-2 Surah Al Baqer:30 to 39

…..और याद करो जब तुम्हारे रब ने फरिश्तों से कहा कि “मैं धरती में (मनुष्य को) खलीफ़ा (सत्ताधारी) बनानेवाला हूँ।” उन्होंने कहा, “क्या उसमें उसको रखेगा, जो उसमें बिगाड़ पैदा करे और रक्तपात करे और हम तेरा गुणगान करते और तुझे पवित्र कहते हैं?” उसने कहा, “मैं जानता हूँ जो तुम नहीं जानते।” (30) उसने (अल्लाह ने) आदम को सारे नाम सिखाए, फिर उन्हें फ़रिश्तों के सामने पेश किया और कहा, “अगर तुम सच्चे हो तो मुझे इनके नाम बताओ।” (31) वे बोले, “पाक और महिमावान है तू! 389 more words

Islam

Health and Fitness

As you might have noticed, I have let the diet thing slip lately. My weight has plateaued at approximately 20kg down on my 05.01.15 weight, and has been stuck at around that point for maybe 7 or 8 weeks now. 417 more words

D/s

Quran Chap-2 Surah Al Baqer:55 to 59

Quran Chap-2 Surah Al Baqer:55 to 59
….. और याद करो जब तुमने कहा था, “ऐ मूसा, हम तुमपर ईमान नहीं लाएँगे जब तक अल्लाह को खुल्लम-खुल्ला न देख लें।” फिर एक कड़क ने तुम्हें आ दबोचा, तुम देखते रहे (55) फिर तुम्हारे निर्जीव हो जाने के पश्चात हमने तुम्हें जिला उठाया, ताकि तुम कृतज्ञता दिखलाओ (56) और हमने तुमपर बादलों की छाया की और तुमपर ‘मन्न’ और ‘सलबा’ उतारा – “खाओ, जो अच्छी पाक चीजें हमने तुम्हें प्रदान की है।” उन्होंने हमारा तो कुछ भी नहीं बिगाड़ा, बल्कि वे अपने ही ऊपर अत्याचार करते रहे (57)और जब हमने कहा था, “इस बस्ती में प्रवेश करो फिर उसमें से जहाँ से चाहो जी भर खाओ, और बस्ती के द्वार में सजदागुज़ार बनकर प्रवेश करो और कहो, “छूट हैं।” हम तुम्हारी खताओं को क्षमा कर देंगे और अच्छे से अच्छा काम करनेवालों पर हम और अधिक अनुग्रह करेंगे।” (58) फिर जो बात उनसे कहीं गई थी ज़ालिमों ने उसे दूसरी बात से बदल दिया। अन्ततः ज़ालिमों पर हमने, जो अवज्ञा वे कर रहे थे उसके कारण, आकाश से यातना उतारी (59)….. 168 more words

Islam

Quran Chap-2 Surah Al Baqer:63 to 66

Quran Chap-2 Surah Al Baqer:63 to 66

….. और याद करो जब हमने इस हाल में कि तूर पर्वत को तुम्हारे ऊपर ऊँचा कर रखा था, तुमसे दृढ़ वचन लिया था, “जो चीज़ हमने तुम्हें दी हैं उसे मजबूती के साथ पकड़ो और जो कुछ उसमें हैं उसे याद रखो ताकि तुम बच सको।” (63) फिर इसके पश्चात भी तुम फिर गए, तो यदि अल्लाह की कृपा और उसकी दयालुता तुम पर न होती, तो तुम घाटे में पड़ गए होते (64) और तुम उन लोगों के विषय में तो जानते ही हो जिन्होंने तुममें से ‘सब्त’ के दिन के मामले में मर्यादा का उल्लंघन किया था, तो हमने उनसे कह दिया, “बन्दर हो जाओ, धिक्कारे और फिटकारे हुए!” (65) फिर हमने इसे सामनेवालों और बाद के लोगों के लिए शिक्षा-सामग्री और डर रखनेवालों के लिए नसीहत बनाकर छोड़ा(66)….. 127 more words

Islam