Tags » Quit India Movement

Quit India Movement Mark 75 Year : PIB

TEXT OF VIDEO-

By the count in Philosophy of nonviolence piece was a passion with the Indian National Congress therefore even when the western part of the following the Policy of appeasement Mahatma Gandhi had written to Hitler the one man who could prevent a walk and save humanity must you pay the price for an object however wake me up here to you will you listen to the power of one who is deliberately shut the method of War Hitler and his misadventure in September 1939 which was to cost over 30 million lights India have been dragged into the wall without consulting its people the Congress working committee meet at work on the 14th of September to discuss the grave crisis the Congress Manifesto containing the fashion of Poland and take a free democratic India will gladly Associates herself with definitions for mutual defence against equation in India can have nothing to do with it if the is democracy and freedom Corporation must be on the basis of equality in February 1940 Mahatma Gandhi at Shantiniketan Gurudev describe Gandhiji old humanity the Mahatma said visva Bharati protection because it is the creation of an earnest so Shantiniketan will never cease to grow long as Gurudev spirit rules of it 19th of March 1940 Maulana Azad annual session of the Indian National Congress at Ramgarh the Congress content the viceroys declaration of India as a belligerent country without any reference to the people the Congress declared nothing short of complete Independence can be accepted by the people of India be alone can properly shave their own constitution and determine their relations with the other countries of the world Jawaharlal Nehru said that India can take the food share of the responsibility of fighting against fascism immediate Independence is granted he was supported by Maulana Azad Sardar Patel and Rajagopalachari in March 1940 the Muslim League at Lahore Resolution which did the partition of India online institutional by the fact that one Nation to Maulana Azad react application on communal politics and said tonight and not divide our country is occupied Holland Denmark Norway and England stood alone and wanted India support then why did Gandhiji photos on the 29th of June and inform them that was willing to give a broader share to Indians in the administration of the country Gandhiji with Britain and France Gandhiji to recognise the Indian people right to free speech with all its implications of deny the right and face the consequences on the July the working committee meeting Delhi Rajagopalachari is Resolution was adopted given freedom India would wage war as one of the allies the British did not accept your offer Gandhiji was requested to plan the next me the Mahatma did not want to help the British war acid by mass movement he decided to launch Individual Satyagraha to protest against the dying of India into the wall and to Kota West he said the essence of Satyagraha is not to shout slogans that to carry out in letter and spirit the word of your chosen general the first satyagrahi was jailed II satyagrahi Jawaharlal Nehru in his defence Nehru said it is not me that you are seeking to Georgian condemn but the hundred millions of the people of India and that is a large task even for a private Empire it is a small matter what happens to me in the style of subsequently individuals count for little they come and go as I should go when my time is up but it is no small matter what happens to India and her millions of sons and daughters this is there for me and that ultimately SBH you before you say if the British government Agencies can continue text messages down for so long in the past when it is grievously mistaken Jawaharlal Nehru was sentenced to 4 years rigorous imprisonment Rajagopalachari Maulana Azad Khan Abdul Gaffar Khan and forest Satyagraha continued right up to the end of 1941 latest publication of news of the arrest of Satyagraha in protest Gandhiji suspended the publication of the hurricane Only Indian members the British have I ever wanted to retain control of Defence Foreign Affairs and Finance the Congress insisted that the difference portfolio should be in Indian hands and the viceroys reconstituted executive Council should have the purpose of a Dominion cabinet but the British did not agree Gandhiji asked why did you come with this is all you have to offer the Congress found the proposals great the cripps proposal was rejected Jawaharlal Nehru’s reaction was Jawaharlal Nehru the first minister of the liquidation of the British Empire the Congress working committee on the 14th of July 1942 and resolution it said events happening from day today and experience that the people of India passing through confirm the opinion of the congressman that British rule in India lost and immediately because Indian b****** can play in affected part in defending her cell the freedom of India is necessary not only in the interest of India but also for the safety of the world for the ending of Nazism fascism and other forms of imperialism the Congress is anxious to avoid experience of Mela Singapore and Dumber and disaster resistant ation of India by the Japanese any foreign Park this is possible only if India feels the glow of freedom is working on the fourth of August to discuss the crisis the Congress was able to the station of the elite armed forces in India for the duration of the world but demanded the immediate withdrawal of British rule the Congress declared that it would be reluctantly can tell to launch a non cooperation movement indicator political rights and liberty the All India Congress Committee in Bombay on the 7th of August 1942 the danger to India’s Eastern Frontier what’s causing deep concern and the Congress wanted to be a party to the defence of the country on the 8 of August 1942 Jawaharlal Nehru move the Quit India Resolution with sad ending of British rule in this country is a vital and immediate issue on which depends the future of the world and the success of freedom and democracy free India was a great resources into the struggle for freedom and against the occasion of na Antinatalism the barrel of today therefore necessitates independence of India and the ending of British domination the Congress President Maulana Azad supported the resolution of the British to withdraw IES Masters he pointed out when it comes will belong to the whole people of India the Congress passed Quit India Resolution unanimously it was decided to launch a non violent non cooperation movement the people of India were directed to face changes as discipline soldiers of India’s freedom Gandhiji advised to get the differences between Hindus and Muslims and think of yourself as Indians everyone of you should from this moment consider yourself to be a free man or woman half the people to do or die I make India free or die in the attempt I see God in every thread that I draw on the spinning wheel abe golden words by none other than Mahatma Gandhi only called the father of the nation of India.

Prelims

भारत छोड़ो आंदोलन

*आदित्‍य तिवारी

 1942 का साल हिन्‍द महासागर से उठी मानसून की हवाएं भारत पहुंच चुकी थीं। उनके साथ ही घमासान नौसैनिक युद्ध की खबर भी पहुंची। विश्‍व दो ध्रुबों में बंट चुका था। भारत भी उबल रहा था और सदियों पुरानी दासता की बेडि़यों को तोड़ डालने का इंतजार कर रहा था। ऐसे वक्‍त में विश्‍व युद्ध में ब्रिटेन को भारत के समर्थन के बदले में औपनिवेशिक राज्‍य का दर्जा देने के प्रस्‍ताव के साथ सर स्‍टैफर्ड क्रिप्‍स का भारत आगमन हुआ। ब्रिटेन ने महारानी के प्रति निष्ठा के बदले में भारत को स्‍वशासन देने का प्रस्‍ताव किया। लेकिन उनको इस बात का अहसास नहीं था कि शहीद भगतसिंह और चंद्रशेखर आजाद जैसे क्रांतिकारियों ने देश को उपनिवेश बनता देखने के लिए अपने जीवन का वलिदान नहीं किया था। देश भर के स्‍वतंत्रता सेनानियों की एक ही मांग थी, और यह थी पूर्ण स्‍वराज। इसलिए 8 अगस्‍त 1942 की पूर्व संध्‍या पर गांधीजी ने देशवासियों के समक्ष शंखनाद करते हुए कहा, ‘ये एक छोटा-सा मंत्र है जो मैं दे रहा हूं। आप चाहें तो इसे अपने हृदय पर अंकित कर सकते हैं और आपकी हर सांस के साथ इस मंत्र की आवाज आनी चाहिए। ये मंत्र है –‘करो, या मरो’।

भारत छोड़ो आंदोलन ऐसे समय प्रारंभ किया गया जब दुनिया जबरदस्‍त बदलाव के दौर से गुजर रही थी। पश्चिम में युद्ध लगातार जारी था और पूर्व में साम्राज्‍यवाद के खिलाफ आंदोलन तेज होते जा रहे थे। भारत एक ओर महात्‍मा गांधी के नेतृत्‍व की आशा कर रहा था जो अहिंसक उपायों और सत्‍याग्रह से समाज को बदलना चाहते थे। दूसरी तरफ बंगाल के शेर सुभाष चंद्र बोस जिन्‍होंने दिल्‍ली चलो का नारा दिया था, भारत को आजाद कराने के लिए एक फौज के साथ निकल पड़े थे। जन-आंदोलनों से भारत की आजादी के आंदोलन की मजबूत जमीन पूरी तरह तैयार हो चुकी थी और अब इसमें स्‍वतंत्रता के बीज बोने भर की देर थी।

भारत छोड़ो आंदोलन की घोषणा होने के 24 घंटे के भीतर ही सभी बड़े नेता गिरफ्तार कर लिये गये और जनता का मार्गदर्शन करने वाला कोई नहीं रहा। फिर भी आंदोलन का नेतृत्‍व करने के लिए जनता के बीच से ही नेता उभर कर सामने आये। लोग ब्रिटिश शासन के प्रतीकों के खिलाफ प्रदर्शन करने सड़कों पर निकल पड़े और उन्‍होंने सरकारी इमारतों पर कांग्रेस के झंडे फहराने शुरू कर दिये। लोगों ने गिरफ्तारियां देना और सामान्‍य सरकारी कामकाज में व्‍यवधान उत्‍पन्‍न करना शुरू कर दिया। विद्यार्थी और कामगार हड़ताल पर चले गये। बंगाल के किसानों ने करों में बढ़ोतरी के खिलाफ संघर्ष छेड़ दिया। सरकारी कर्मचारियों ने भी नियमों का उल्‍लंघन शुरू कर दिया। यह एक ऐतिहासिक क्षण था। यह विदेशी दासता के खिलाफ महज एक आंदोलन भर नहीं था, बल्कि भारतीय जनता में एक नयी चेतना का संचार था। भारत छोड़ो आंदोलन का इतिहास गुमनाम योद्धाओं के बलिदानों से भरा पड़ा है। उस दौर के किसानों, फैक्‍टरी मजदूरों, पत्रकारों, कलाकारों, छात्रों, शिक्षाशास्त्रियों, धार्मिक संतों और दलितों की कई गुमनाम गाथाएं हैं।

भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान ही डॉ. राम मनोहर लोहिया, जय प्रकाश नारायण और अरुणा आसफ अली जैसे नेता उभर कर सामने आये। आंदोलनकारियों ने देश के बहुत से भागों में समानांतर सरकारें गठित कर दीं। उत्‍तर प्रदेश के बलिया में चित्तू पांडे ने सरकार का गठन कर किया जबकि वाई.बी. चव्‍हाण और नाना पाटिल ने सतारा में सरकार बना ली। भारत छोड़ो आंदोलन इस मायने भी अनोखा था क्‍योंकि इसमें महिलाओं की भरपूर भागीदारी थी। उन्‍होंने आंदोलन में न सिर्फ हिस्‍सा लिया बल्कि पुरुषों की बराबरी करते हुए इसका नेतृत्‍व भी संभाला। मातंगिनी हजारा ने बंगाल में तामलुक में 6000 लागों के जुलूस का नेतृत्‍व करते हुए, जिनमें से अधिकतर महिलाएं थीं, एक स्‍थानीय पुलिस थाने को तहस-नहस कर दिया। तिरंगा हाथ में लिए पुलिस की गोलियों से वह शहीद हुईं। इसी तरह सुचेता कृपलानी ने भी आंदोलन में बढ़चढ़ कर हिस्‍सा लिया; बाद में उन्‍हें भारत की पहली महिला मुख्‍यमंत्री बनने का गौरव भी प्राप्‍त किया। ओडि़शा में नंदिनी देवी और शशिबाला देवी तथा असम में कनकलता बरुआ और कुहेली देवी पुलिस दमन में शहीद हुईं। उषा मेहता का अनोखा योगदान यह था कि उन्‍होंने मुंबई में कांग्रेस का गुप्‍त रेडियो स्‍टेशन शुरू किया।

पटना शहर में पुराने सचिवालय भवन के सामने स्‍कूली बच्‍चों की आदमकद प्रतिमाओं वाला मूर्तिशिल्‍प है। इसमें सबसे आगे वाला लड़का धोती-कुर्ता और गांधी टोपी पहने हुए है और उसके पीछे छह और बच्‍चे हैं। सबसे आगे वाले लड़के के हाथों में झंडा है जबकि उसके पीछे चल रहे बच्‍चे या तो जमीन पर गिरे पड़े हैं या झंडे को लपक रहे हैं। यह मूर्तिशिल्‍प भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान सचिवालय भवन पर कांग्रेस का झंडा फहराने का प्रयास कर रहे स्‍कूली बच्‍चों के हैं जिनकी निर्दयतापूर्वक हत्‍या कर दी गयी थी। ये बच्‍चे भारत छोड़ो आंदोलन की आत्‍मा को मूर्तिमान करते हैं।  भारतीय स्‍वतंत्रा संग्राम की जीवंतता और विविधता इन्‍हीं वलिदानों की वजह से है।

भारत छोड़ो आंदोलन इस अर्थ में एक युगांतरकारी आंदोलन था क्‍योंकि इसने भारत की भावी राजनीति की आधारशिला रखी। गोवालिया टैंक मैदान से अपने ऐतिहासिक भाषण में गांधीजी ने कहा, ‘जब भी सत्‍ता मिलेगी, भारत के लोगों को मिलेगी और वही इस बात का फैसला करेंगे कि इसे किसे सौंपा जाता है…..’ भारत छोड़ो आंदोलन में ही आजादी की लड़ाई का नेतृत्‍व ‘हम भारत के लोगों’ को प्राप्‍त हुआ, जिन्‍होंने देश की स्‍वतंत्रता का संग्राम लड़ा।

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने अपने ताजा ‘मन की बात’ रेडियो कार्यक्रम में देश के युवाओं का आह्वान किया कि वे ‘संकल्‍प से सिद्धि’ का अभियान छेडें। असल में यह आंदोलन भारत से गरीबी, भ्रष्‍टाचार, आतंकवाद, जातिवाद और सांप्रदायिकता को मार भगाने का संकल्प होगा। उन्‍होंने कहा कि 1942 से 1947 तक के पांच वर्षों में समूचा राष्‍ट्र अंग्रेजों के खिलाफ एकजुट हो गया था। इसी तरह 15 अगस्‍त, 2017 का दिन भारत को 2022 तक इन सब बुराइयों से मुक्‍त कराने का संकल्‍प लेने का दिन होना चाहिए. उनका यह आह्वान उस आह्वान के अनुरूप है जिसमें उन्‍होंने ‘नये भारत’ का निर्माण करने के लिए कहा था। ऐसा भारत जिसमें नयी आशाएं और नये स्‍वप्‍न होंगे; जिसमें गरीब-अमीर सब के साथ बराबरी का व्‍यवहार किया जाएगा; जिसमें नारी शक्ति की आकांक्षाएं पूरी होंगी; जिसमें जनता और लोकतंत्र के बीच गहरा रिश्‍ता होगा और एक ऐसा भारत जो भ्रष्‍टाचार व कालेधन से मुक्‍त होगा। प्रधानमंत्री मोदी अक्‍सर कहते हैं कि वह देश की स्‍वतंत्रता के बाद पैदा हुए और उन्‍हें स्‍वतंत्रता संग्राम में भाग लेने का सुअवसर नहीं मिला। यही बात देश के अधिकांश युवाओं पर भी लागू होती है। भारत छोड़ो आंदोलन की 75 वीं जयंती ‘देश की खातिर अपना जीवन उत्‍सर्ग करने से वंचित रहे’ उन सब युवा भारत वासियों के लिए इस बात का एक मौका होगा कि वे ‘देश के लिए जियें’ और उन सपनों को पूरा करें जो हमारे स्‍वतंत्रता सेनानियों ने इसके बारे में देखे थे।

                                                                    *****

*लेखक फिलहाल इंडिया फाउंडेशन में वरिष्‍ठ रिसर्च फैलो हैं. वे एक कवि भी हैं. इस लेख में व्‍यक्त विचार उनके निजी विचार हैं.

Quit India Movement

The year was 1942. Monsoon winds from the Indian Ocean had already arrived. With them the news of vigorous naval battles also came. World had become bipolar, India too was on the boil, waiting to unshackle the chains of age old slavery. 930 more words

Khadi in Vogue: Wheels of Charkhas bustling afresh

*Neeraj Bajpai

More than a century ago, when Mahatma Gandhi returned to India from South Africa, he had not seen a spinning wheel- Charkha- but during the Swadeshi movement, he meticulously spun the Khadi in the national life style. 912 more words

Parliament to hold special session on Aug 9 to mark Quit India Movement

The Indian Parliament will convene a special session on August 9 to mark the 75th anniversary of the Quit India Movement. A resolution has been passed to this effect. 6 more words

Vicky Nanjappa

August Kranti - An Insight into Civility

Dr. John Chelladurai* 

“Quit India” resolution of 8th August, 1942, marked a decisive moment in the history of India’s freedom struggle. Gandhiji found the tenet of Truth and nonviolence put to most severe test. 1,000 more words

The Quit India Movement in Andhra and Telangana

Dr. Srinivas Vaddanam* 

Quit India Movement or the August Movement was launched by Mahatma Gandhi on August 8, 1942 to gain independence from British rule. Gandhiji gave call to the British to withdraw from India.  1,182 more words