Tags » Rahul Dravid

Another DRAVID is under construction...Have a look who is he

Like father, like son! Rahul Dravid’s son Samit slams century in club cricket

In a Under-14 tournament for clubs and schools in Bangalore, Samit Dravid, son of former India captain Rahul Dravid, has hit a century at the Loyola school grounds in Bangalore. 195 more words

Daily_Katta

#AtoZChallenge @AprilAtoZ - I is for Indian National Cricket Team

India National Cricket Team

Letter I for Blogging from A to Z

From the time my family first got a TV, a black and white one in the 90s, one sport that was commonly watched in the house was Cricket. 539 more words

BloggingFromAtoZ2016

“গো দিল্লি গো”

অভয় জৈন থেকে কৈলাস খের, খেলার দিনে ফিরোজ শাহ কোটলা স্টেডিয়াম গমগম করে তাঁদের গাওয়া থিম সং গুলোতে। ব্র্যান্ড অ্যাম্বাসডর হিসেবে প্রথমে ছিলেন প্রখ্যাত বলিউড সুপারস্টার অক্ষয় কুমার, পরবর্তী কালে সেই পদে নিয়োগ করা হয় স্যর ভিভিয়ান রিচার্ডসকে। প্রচারের বারুদে ঠাসা রাজধানী শহরের আইপিএল দল দিল্লি ডেয়ারডেভিলস। ক্রিকেটকে ছড়িয়ে দেওয়ার জন্য রায়পুরের নবনির্মিত মাঠটিকেও তারা ব্যবহার করে ঘরের মাঠ হিসেবে। এত কিছুর মাঝেও শেষ তিন বছর তাদের পারফরমেন্স কিন্তু খুবই সাদামাটা। এই তিন বছরে ৪৪ টা ম্যাচ খেলে তারা জিতেছে মাত্র ১০ টি তে। আইপিএলের প্রথম দুটি সংস্করণের সেমিফাইনালিস্টরা শেষ বার প্লে-অফ খেলেছে চার বছর আগে। দলটির মালিক জিএমআর স্পোর্টস গ্রুপ, ক্রিকেটের জন্য তাদের ঐকান্তিক প্রচেষ্টার ফসল এই দলটি। তারা দলের নতুন লোগো নির্বাচিত করেছেন ‘Flying Kites’, যা কিনা শহরটির প্রানবন্ত উচ্ছলতাকে প্রতিফলিত করে। 15 more words

বাংলা

टीम इंडिया में धोनी के दोस्त ही नहीं, दुश्मन भी हैं, जानिए कौन हैं वो

Editor : Amanpreet Kaur

दुनिया के बेस्ट फिनिशर कहे जाने वाले टीम इंडिया के लिमिटेड ओवर्स के कप्तान महेंद्र ङ्क्षसह धोनी की आलोचना उसी दिन से होती आ रही है जब से वे टीम इंडिया के कप्तान बने थे। कभी किसी ने उनके फैसलों में नुख्स निकाला, तो कभी किसी ने उनके प्लेइंग इलेवन के चयन पर सवाल खड़े किए। यह बात जग जाहिर है कि धोनी भारतीय क्रिकेट के अब तक के बेहतरीन कप्तान रहे हैं और उनकी डिसीजन मेकिंग, प्रेशर की स्थिति में भी कूल रहने की काबलियत की दुनिया कायल है। हाल ही भारत एशिया कप जिताने वाले एमएस पर टीम इंडिया से लंबे समय से बाहर चल रहे गौतम गंभीर ने सवाल उठाए हैं।

यह कहा गंभीर ने

धोनी पर गौतम गंभीर ने जमकर भड़ास निकालते हुए कहा, ‘भारतीय टीम के विराट कोहली सबसे बड़े फिनिशर हैं, धोनी नहीं। यह टैग मीडिया का दिया हुआ है। मेरे लिए तो विराट ही फिनिशर हैं।’ धोनी के बैटिंग ऑर्डर के बारे में गंभीर ने कहा, ‘धोनी को छठे या सातवें स्थान पर बैटिंग करने आना चाहिए। विकेटकीपर बल्लेबाज के लिए वैसे भी नंबर 6 या 7 ही बेस्ट होता है।’

धोनी की कप्तानी पर सवाल उठाते हुए गंभीर ने कहा, ‘एक कप्तान उतना ही अच्छा होता है, जितनी अच्छी उसकी टीम होती है। टीम कप्तान को बनाती हैख् ना कि कप्तान टीम को। अगर सिर्फ अच्छी कप्तानी से विश्व कप जीत जाते तो हमने कई विश्व कप जीत लिए होते।’

वैसे यह पहली बार नहीं है जब किसी खिलाड़ी ने धोनी की आलोचना की है। इससे पहले भी कई खिलाड़ी ऐसा कर चुके हैं। पढ़ें ऐसे ही कुछ स्टेटमेंट्स –

विराट कोहली

पिछले साल भारत-बांग्लादेश की सीरीज के तीसरे मैच की जीत के बाद उपकप्तान विराट कोहली ने कप्तान धोनी के फैसले पर उंगली उठाई थी। कोहली ने कहा था कि टीम इंडिया के खिलाडिय़ों को खुद को प्रस्तुत करने में दिक्कत है, जिसका मैदान पर असर होता है। जो फैसले लिए गए उससे खेल प्रभावित हुआ और हम हार गए।

योगराज सिंह

विश्व कप 2015 में टीम में युवराज सिंह का चयन नहीं किए जाने पर उनके पिता व पूर्व क्रिकेटर योगराज सिंह ने धोनी पर सीधा निशाना साधा था। उन्होंने कहा था, ‘धोनी कुछ नहीं थे, मीडिया ने उन्हें महान बना दिया है, वे इस ताज के लायक नहीं हैं। एक वक्त था धोनी कुछ नहीं थे और आज वे उसी मीडिया के सामने बैठ कर उसका मजाक उड़ाते हैं जिसने उन्हें महान बनाया। अगर मैं मीडियापर्सन होता तो धोनी को चांटा मार देता।’ उन्होंने धोनी की तुलना रावण से करते हुए कहा था, ‘धोनी घमंडी हैं, रावण का घमंड भी टूट गया था, एक दिन धोनी का भी टूट जाएगा। एक दिन ऐसा आएगा जब धोनी के पास कुछ नहीं बचेगा और उन्हें भीख मांगनी पड़ेगी, तब उन्हें कोई भीख भी नहीं देगा।’

हालांकि बाद में युवराज सिंह ने यह स्पष्ट किया था कि उनके पिता की बातों से वे सहमत नहीं है और उन्हें धोनी की कप्तानी में खेलना पसंद है।

मार्टिन क्रो

अगर धोनी टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लें, तो भारतीय टीम को उनके बेतुके निर्णयों से छुटकारा मिल जाए। टेस्ट मैच के लिए टीम का उनका चुनाव काफी इललॉजिकल होता है।

इयान चैपल

वर्ष 2014 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टीम इंडिया की टेस्ट सीरीज के दौरान पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान इयान चैपल ने एमएस धोनी की कप्तानी पर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था,’मुझे लगता है कि धोनी ने टीम में अपनी उपयोगिता खो दी है और अब उन्हें संन्यास ले लेना चाहिए।’

शेन वॉर्न

इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के दौरान शेन वॉर्न ने धोनी के गेंदबाजी में बदलाव करने और फील्ड जमाने पर कहा था कि यह बहुत अजीब है। इसमें कोई कॉमन सेंस या लॉजिक नहीं लगाया गया है।

वीवीएस लक्ष्मण

जनवरी 2014 में बुक लॉन्च के अवसर पर बिश्न सिंह बेदी ने वीवीएस लक्ष्मण की बात को कोट किया था, ‘मैं धोनी का बड़ा फैन नहीं हूं, लेकिन मुझे ये जरूरी कहना पड़ेगा कि उन्हें क्रिकेट बॉडी से बहुत पावर और अथॉरिटी मिली है। इतनी तो टाइगर पटौती या सुनील गावस्कर को भी नहीं मिली थी। एक लीडर के तौर पर धोनी अपने टीम मेट्स की पहुंच से दूर हैं।’

सौरव गांगुली

वर्ष 2014 में न्यूजीलैंड के हाथ 1-0 से टेस्ट सीरीज गंवाने के बाद पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने कहा था, ‘धोनी की टेस्ट कप्तानी खराब हो गई है, लेकिन इस समय कप्तान को बदलने से टीम में अस्थिरता आ सकती है। टेस्ट क्रिकेट में उनकी जगह पर कोई शक नहीं है, लेकिन उन्हें विदेशी धरती पर रिकॉर्ड्स को ठीक करना होगा।’

Cricket News

Virat Kohli : The Showman of Indian Cricket

There is world of footballers which is filled with style, on the field and off the field show offs, dating supermodels, driving super cars  and then there is life of Indian cricketers where one is expected to be modest, humble and politically correct all the time. 977 more words

Virat Kohli

The Great Wall of India!

There are a very few people whom we love for no reason or for innumerable reasons, and it’s quite difficult to distinguish between the two. Rahul Dravid, fondly hailed as The Wall, is one such person to me, for whom I have a great liking and admiration for, ever since I knew him. 1,082 more words

Emotion

WHY IS INDIAN CRICKET DECLINING IN POPULARITY?

Till 5-6 years back, whenever Team India would be playing cricket – whether it be test cricket or one day international – one could hear radio & TV commentaries on the same with attendant chorus of loud cheers or groans in just about every nook and corner. 832 more words

CRICKET